ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
आईएएस अफ़सर की प्यारी सी पहल; सरकारी स्कूल के बच्चो के साथ खाया मिड-डे मील !
फोटो: फेसबुक

आईएएस अफ़सर की प्यारी सी पहल; सरकारी स्कूल के बच्चो के साथ खाया मिड-डे मील !

केरल में अलप्पुज़हा जिले के नीरकुन्नाम में स्थित श्री देवी विलासम (एसडीवी) यूपी सरकारी स्कूल में आईएएस अफ़सर एस. सुहाष ने अचानक पहुंचकर सबको चौंका दिया। दरअसल, उनके स्कूल में जाने की वजह थी मिड-डे मील की गुणवत्ता को जांचना।

जिला अधिकारी ने न केवल भोजन की जाँच की, बल्कि स्कूल के बच्चों के साथ बैठकर खाना भी खाया।  इस घटना ने स्कूल के बच्चों के साथ-साथ सोशल मीडिया पर भी लोगों का दिल जीत लिया।

बच्चों के साथ उनकी तस्वीरें फेसबुक पर वायरल हो गयी और इस पोस्ट को 3,500 से ज्यादा बार शेयर किया जा चूका है।

जिला अधिकारी सुहाष ने बताया कि एसडीवी स्कूल में जिले से सर्वाधिक बच्चे पढ़ते हैं। उनके इस दौरे का उद्देश्य मिड-डे मील का मुआयना करना था। खाने के बाद वे स्कूल की कंप्यूटर लैब और लाइब्रेरी में भी गए।

फेसबुक पोस्ट के मुताबिक स्कूल प्रशासन ने उन्हें स्कूल की अन्य परेशानी, जैसे कि छात्रों के हिसाब से कम जगह की समस्या से भी अवगत कराया। जिला अधिकारी की उपस्थिति के दौरान जिला स्तरीय पूर्व शिक्षा निदेशक पी लतिका ने भी स्कूल का दौरा किया।

यक़ीनन देश के अधिकारियों द्वारा समय-समय पर इस तरह के कदम उठाने चाहिए ताकि प्रशासन नियमित रूप से अपना काम करते रहें। हम अफ़सर सुहाष के इस कदम की सरहना करते हैं।

( संपादन – मानबी कटोच )


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.
Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव