in

उड़ीसा: 75 वर्षीय आदमी ने खोदी 3 किलोमीटर लम्बी नहर; हो रही है 100 एकड़ की सिंचाई!

फोटो: हिंदुस्तान टाइम्स

ड़ीसा के केनोझर जिले के तलाबैतरनी गांव से ताल्लुक रखने वाले 75 वर्षीय दैतरी नायक ने गांव में 100 एकड़ जमीन की सिंचाई के लिए गोनसीका पहाड़ पर 3 किमी लंबी नहर खोदी है। गांववालों के लिए नायक उनके ‘मांझी’ बनकर उभरे हैं। अनियमित बारिश के चलते उनकी फसलों को पानी न मिलने के कारण नायक ने नहर की खुदाई शुरू कर दी। बारिश के अलावा पानी का एकमात्र साधन गोनसीका पहाड़ से निकलने वाली जलधारा है।

साल 2010 में नायक ने एक फावड़े के साथ पहाड़ पर से नहर खोदना शुरू किया। उनके गांववाले उनके इन प्रयासों की खिल्ली उड़ाते थे पर नायक के अथक परिश्रम को देखकर कुछ महीने बाद उनके भाइयों ने भी उनका साथ देना शुरू कर दिया। जब नायक और उनके भाइयों ने कंकड़ और मिट्टी आदि से नहर बना दी तो गांव वाले भी उनके साथ आ गए।

फोटो: हिंदुस्तान टाइम्स

आखिरकार साल 2013 में नहर का काम पूरा हुआ। और पिछले पांच सालों से गांव में खेतो की सिंचाई में कोई रुकावट नहीं है। गांववाले अब धान, मक्का और सरसों के साथ-साथ कुछ सब्जियां भी उगा रहे हैं।

जिले के कलेक्टर ने नायक के काम को अविश्वसनीय बताते हुए कहा, “उन्होंने इस उम्र में इतना हौंसला व दृढ़ता दिखाई है। प्रशासन नहर को पक्का करने का काम कराएगी और साथ ही हम एक स्थायी चेक बाँध की योजना पर काम कर रहे हैं।”

Promotion
Banner

जिला प्रशासन गांव के खेतों में पानी लाने के लिए नायक को पुरुस्कृत करने की भी योजना बना रहा है। नायक का काम यक़ीनन अविश्वसनीय है।

( संपादन – मानबी कटोच )


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

गुल्लक बच्चा बैंक : जहाँ के प्रबंधक, उपप्रबंधक और क्लर्क, सभी हैं 14-16 साल के बच्चे!

लड़कियों! सेक्स की बात मत करो