in

मुंबई की बहुमंजिला ईमारत में आग: 33 माले तक सीढियाँ चढ़कर इन सुरक्षाकर्मियों ने बचाई जानें!

फोटो: मुंबई मिरर/हिंदुस्तान टाइम्स

मुंबई में वर्ली के अप्पासाहेब मराठे मार्ग स्थित ब्यूमोंड ईमारत में बुधवार को आग लग गई। यह आग इमारत की बी-विंग में लगी। इस ईमारत में सिनेमा जगत एवं राजनीति की दिग्गज हस्तियां रहती हैं। सौभाग्यवश अभी तक किसी के भी घायल होने की सुचना नहीं।

दरअसल आग के फैलने से पहले ही सभी लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया था। इसका श्रेय जाता है उन 36 सुरक्षा कर्मियों को, जिन्होंने खुद 33 माले तक सीढ़ियों से चढ़कर, हर एक घर का दरवाज़ा खटखटा कर लोगों को चेतावनी दी। यही सुरक्षा कर्मी लोगों को सुरक्षित मुख्य लॉबी तक भी लेकर आये।

युन्नुस खान सहित अन्य सुरक्षाकर्मियों ने दोपहर लगभग 2 बजे फायर अलार्म सुना। उन्होंने बताया कि, “इस ईमारत के हर फ्लोर पर दो फ्लैट है और लिफ्ट बंद की जा चुकी थीं, साथ ही बिजली भी काट दी गयी थी। इसलिए हमने सीढ़ियों से चढ़कर सुनिश्चित किया कि फ्लैट में कोई न हो और यदि कोई है तो उसे आगाह किया गया।”

एक और सुरक्षा कर्मी मुश्तियार खान ने बताया कि आग की सुचना मिलते ही इमारत की अग्निशमन प्रणाली ने काम करना शुरू कर दिया था। राहत की बात यह है कि इस घटना के दौरान कोई चोटिल नहीं हुआ। खान ने कहा, “लोगों की मदद करना और उनकी सुरक्षा करना हमारा प्रथम कर्तव्य है।”

इसी इमारत के 25वें माले पर रहने वाली सीमा मीनावाला ने बताया कि अचानक से बिजली कट गयी थी और लिफ्ट ने भी काम करना बंद कर दिया। उन्होंने कहा, “यह अच्छा है कि इस तरह की परिस्थिति में निवासियों की मदद करने के लिए सुरक्षा कर्मियों को प्रशिक्षित किया जाता है।”

सुरक्षाकर्मियों ने जिस तरह की स्फूर्ति इस घटना में दिखाई वह यक़ीनन काबिल-ए-तारीफ है।

( सम्पादन – मानबी कटोच )


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

 

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

1992 मुंबई दंगों में इस परिवार ने बचाई थी शेफ विकास खन्ना की जान, आज 26 साल बाद मिले दुबारा!

गोल्ड: स्वतंत्र भारत के पहले ओलंपिक स्वर्ण पदक की अनकही कहानी!