in

अब लोगों की मुश्किलें आसान करेगा रोबोकॉप ‘कॉन्सटेबले सिंघम’!

फोटो: द हिन्दू

बीच सड़क, पुदुच्चेरी पुलिस स्टेशन पर एक रोबोकॉप याने की एक पुलिसवाला रोबोट लगाया गया है।

द हिन्दू की रिपोर्ट के मुताबिक, यह रोबोकॉप- ‘कॉन्सटेबले सिंघम’ मुख्यतः एक कियोस्क के रूप में काम करेगा, जिससे पर्यटकों को पुलिस, उनके इतिहास, निकटतम पुलिस स्टेशनों, अस्पतालों के बारे में जानकारी उपलब्ध कराया जायेगा।

पुलिस महानिदेशक एस.के गौतम ने कहा कि रोबोकॉप में एक कियोस्क है जो तमिल, अंग्रेजी, फ्रेंच और हिंदी में पर्यटकों के प्रश्नों का उत्तर देगा। वर्तमान में, यह केवल अंग्रेजी में उपलब्ध होगा। उन्होंने कहा कि पर्यटक पुलिस स्टेशन पर तैनात पुलिसकर्मियों के साथ बातचीत करने के लिए बूथ में माइक्रोफोन के साथ एक बंद सर्किट टेलीविजन कैमरा लगाया गया था।

इसकी मूर्ति पुदुच्चेरी स्थित मूर्तिकार वी. के मुनिसामी द्वारा बनाई गई है। रोबो पुलिस, टच स्क्रीन मॉनीटर और कंप्यूटर एक निजी कंपनी द्वारा दिया गया है। पांडिचेरी विश्वविद्यालय के एमसीए के छात्रों ने सॉफ्टवेयर बनाया है।

लेफ्टिनेंट गवर्नर किरण बेदी ने कहा कि वह कानून और व्यवस्था के मुद्दे पर मुख्यमंत्री वी नारायणसामी के साथ पूरी तरह से सहमत हैं। किरण बेदी ने इस रोबोकॉप का उद्घाटन किया। उनके अलावा मुख्यमंत्री वी नारायणसामी, पुलिस महानिरीक्षक सुरेंद्र सिंह यादव और पुलिस महानिरीक्षक वी. जे चन्द्रन भी मौजूद थे।

पुदुच्चेरी की यह पहल जनमानस की मदद और भलाई की दिशा में है। हम उम्मीद करते हैं कि जिस लक्ष्य से पुदुच्चेरी पुलिस ने इसे शुरू किया है, वह पूरा हो।

( संपादन – मानबी कटोच )


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

वीडियो : घर-घर काम करने वाली दीपिका म्हात्रे है मुंबई की पसंदीदा स्टैंड-अप कॉमेडियन!

आखिर क्यों 1950 में क्वालीफाई करने के बावजूद टीम इंडिया खेल नहीं पायी फीफा वर्ल्ड कप!