in

पढ़िए घर को साफ-सुथरा व व्यवस्थित रखने वाले 9 मूल-मंत्र

क्या आप जानते हैं कि हम अपनी आदतों में कुछ बदलाव लाकर अपने घर को 24*7 साफ-सुथरा व व्यवस्थित रख सकते है।

Secrets of People Whose Homes Are Always Clean

मौजूदा समय में ज़्यादातर लोगों का वक्त घर में ही बीत रहा है। हम सब बाहर जरूरत पड़ने पर ही निकल रहे हैं। ज़ाहिर सी बात है, अब हमें पहले से ज़्यादा घर साफ करना पड़ रहा है। वैसे बहुत से लोगों के लिए रोजाना सफाई करना बहुत ही अधिक उबाऊ होता है।

तो फिर सवाल यह उठता है कि हम घर को साफ और व्यवस्थित कैसे बनाकर रखें? द बेटर इंडिया आज आपको 9 ऐसे टिप्स देन जा रहा है, जिसका पालन कर आप अपने आशियाने को आकर्षक बनाकर रख सकते हैं।

घर साफ और सुंदर दिखे इसका एक बेहद ही सरल उपाय है, और वह है हमें अपनी आदतों में कुछ बदलाव लाना होगा।

1.सुबह उठने के साथ ही बिस्तर की चादर ठीक करें

उद्यमी और लेखक, टिम फेरिस, अपने एक लोकप्रिय आर्टिकल में कहते हैं कि सुबह उठने के बाद आपको सबसे पहले अपने बिस्तर को व्यवस्थित करना चाहिए। इसे अपना सबसे पहला काम मानें। वह कहते हैं कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह काम आपको कितना गैर-जरूरी लगे, लेकिन इसे करना ही चाहिए। यदि आप अपने बेडरुम से बाहर काम करते हैं, तो साफ सुथरा बिस्तर होने से आपको ध्यान केंद्रित करने और उत्पादकता में सुधार करने में मदद मिल सकती है।

दिन में बिस्तर पर कपड़े, किताबें और अन्य चीज़ों का ढेर लगाने से बचें। इससे, बाद में आपको न केवल सफाई में कम समय लगेगा, बल्कि साफ-सुथरे बिस्तर पर अच्छी नींद आने की संभावना भी ज़्यादा होती है।

2.काम खत्म होते ही सतह को पोंछ कर साफ कर लें

चाहे चॉपिंग बोर्ड हो या किचन में काउंटरटॉप, बाथरूम में सिंक या शावर डोर हो या फिर टेबलटॉप्स और डेस्क, इनका इस्तेमाल करने के फौरन बाद ही इन्हें पोंछ कर साफ कर दें। ऐसा करने से आप पर एक साथ सारी चीज़ें साफ करने का बोझ नहीं पड़ता है और इससे होने वाले अंतर को आप दिन के अंत में महसूस कर सकते हैं।

3.चीज़ों को इस्तेमाल करने के बाद जगह पर रखें

यह एक महत्वपूर्ण आदत होनी चाहिए। इससे जगह साफ भी लगती है और ज़रुरत पड़ने पर चीज़ों को खोजने में ज़्यादा समय भी नहीं लगता है। अगर आपके पास बहुत ज़्यादा सामान है और आपके पास इन्हें रखने के लिए जगह नहीं है तो ऐसी चीज़ों का ढेर बढ़ता जाएगा और जगह ज़्यादा अस्त-व्यस्त लगेगा।

तो कपड़े हों या जूते, किताबें या किसी तरह का उपकरण हो, यह सुनिश्चित करें कि आपके घर में इन सारी चीज़ों के लिए जगह तय हो और किसी भी चीज़ का इस्तेमाल करने के बाद उसे फिर अपनी जगह पर रख दी जाए। इन चीज़ों को बाहर छोड़ देने से न केवल आपका घर गंदा लगता है बल्कि हर चीज़ पर धूल-मिट्टी जमने की संभावना भी काफी बढ़ जाती है और आप पर सफाई का बोझ बढ़ता जाता है।

4.बर्तन रोज़ साफ करें

गंदे और जूठे बर्तनों का अंबार देखते ही मन बेचैन हो उठता है। इससे निपटने का एक सरल उपाय है। खाना बनाने के फौरन बाद ही बर्तन धो लें। अगर आपके पास रोज़ बर्तन को घिस कर धोने का समय नहीं है तो भी केवल पानी से एक बार बर्तनों को धो लें, इससे बाद में बर्तन साफ करने में आसानी होती है। गंदगी को कम करने के लिए कटलरी, प्लेट और छोटे बर्तनों को फौरन ही साफ कर लें।

5.काम बांटें

सफाई का शिड्यूल बना लें और रोज़ाना की सफाई में परिवार के सदस्यों को शामिल करें। साफ बर्तनों को रखना, कपड़ों को तह लगाने जैसे काम बड़े कर सकते हैं जबकि छोटे सदस्य किताबों और खिलौने को सही जगह पर रखने का काम कर सकते हैं।

Promotion
Banner

बच्चों को सफाई और अपने काम में हाथ बटाने के लिए कहना एक महत्वपूर्ण सबक है। यह उन्हें कम उम्र में अच्छी आदतें विकसित करने में मदद करता है और इस तरह बच्चे घर की सफाई में किए जाने वाले प्रयास की सराहना करना सीखते हैं।

6.काम सरल रखें

अधिकतर ऐसा देखा जाता है कि, जिनके घर हमेशा साफ रहते हैं, वह कम चीजों का इस्तेमाल करते हैं। ऐसे लोग अपने घर के लिए कोई भी सामान खरीदने और उन्हें घर में लाने से पहले काफी सावधानी बरतते हैं। वे ऐसी वस्तुओं को घर लाने से बचते हैं जिनका कम या कोई व्यावहारिक उपयोग नहीं है और जिनके आने से केवल सामान की संख्या और गंदगी बढ़ेगी।

ऐसी चीज़ों को घर लाने से बचते हैं और चीजों का दान या उपहार देते हैं जो उपयोग नहीं करते हैं। हालांकि, ये धीरे-धीरे विकसित होने वाली आदत है, लेकिन घर व्यवस्थित और साफ रहे, इसके लिए एक अच्छा तरीका है घर में सामान कम रखना चाहिए।

7.सफाई रुटीन बनाएं

जिनके घर हमेशा साफ रहते हैं वह चीज़ों को क्रम में रखने के लिए एक निश्चित सफाई रुटीन का पालन करते हैं। इससे उन्हें न केवल गंदगी रोकने में मदद मिलती है बल्कि इससे घर के कुछ ऐसे जगहों की भी नियमित रुप से सफाई होती रहती है जिन्हें अक्सर हम अनदेखा कर देते हैं। इससे एक साथ सफाई का बोझ नहीं पड़ता। झाड़ू,पोंछा, बर्तन के साथ ज़्यादा गंदगी फैलने वाली जगहों को रोज़ाना साफ करने के काम में शामिल करें। इसके अलावा कपड़े धोना,डस्टिंग और बाथरूम की सफाई को साप्ताहिक आधार पर शेड्यूल करें।

वैकल्पिक रूप से, सप्ताह के प्रत्येक दिन एक या दो कमरे को साफ करने का लक्ष्य रखें ताकि आपके लिए साफ करना आसान हो। साथ ही एक नियम बनाएं कि महीने में एक से अधिक बार डीप क्लिनिंग नहीं करना है। परिवार के अन्य सदस्यों को अपने शेड्यूल के लूप में शामिल करने का एक अच्छा तरीका एक सफाई कैलेंडर बनाना और उसे हैंडी रखना हो सकता है।

8.मल्टीटास्क

काम जल्दी समाप्त करने के लिए एक अच्छा तरीका एक ही तरह के सफाई वाले कामों को एक साथ निपटना हो सकता है। इससे आपको इन कामों के लिए बाद में अलग से समय नहीं निकालना पड़ता है। मान लीजिए की किचन में खाना बन रहा है, तो इस वक्त को आप काउंटर साफ करने या फ्रिज को ऑर्गेनाइज़ करने में लगा सकते हैं। स्नान से पहले बाथरुम टाइल्स या सिंक साफ कर लें और डस्टिंग, झाड़ू-पोछा का काम एक-साथ निपटा लें।

9.सफाई को मज़ेदार बनाएं

सफाई एक रोज़ाना, बार-बार करने वाला काम है जिससे आप थका हुआ और उबाऊ महसूस कर सकते हैं। चूंकि अधिकांश सफाई के काम के लिए बहुत ज़्यादा ध्यान देने की आवश्यकता नहीं होती है, तो इस समय में आप कुछ गतिविधियाँ जोड़ सकते हैं, जिससे आपका यह समय मज़ेदार बन सके। कपड़े तह करते समय या झाड़ू लगाते समय आप गाने या पॉडकास्ट सुन सकते हैं, खाना पकाते समय दोस्त से फोन पर बात कर सकते हैं या अपने पार्टनर या बच्चों को कुछ पढ़कर सुनाने कह सकते हैं।

मूल लेख- THE BETTER HOME TEAM

यह भी पढ़ें- गुरुग्राम: जॉब छोड़कर घर से शुरू किया बेकरी बिज़नेस, अब प्रतिदिन कमाती हैं 10 हज़ार रूपए  

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999
mm

Written by पूजा दास

पूजा दास पिछले दस वर्षों से मीडिया से जुड़ी हैं। स्वास्थ्य और फैशन से जुड़े मुद्दों पर नियमित तौर पर लिखती रही हैं। पूजा ने माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है और नेकवर्क 18 के हिंदी चैनल, आईबीएन7, प्रज्ञा टीवी, इंडियास्पेंड.कॉम में सक्रिय योगदान दिया है। लेखन के अलावा पूजा की दिलचस्पी यात्रा करने और खाना बनाने में है।

एक बायोगैस प्लांट से साल भर में 6 गैस सिलिंडर और खाद के खर्च को बचा रहा है यह किसान

Kerala Sustainable Home

घर से गर्म हवा निकालने के लिए अपनाया परंपरागत तकनीक, गर्मी में भी नहीं पड़ती AC की जरूरत