rain water harvest

रिटायर्ड प्रोफेसर ने बनाया रेन वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम, 2 सालों में गाँव हुआ सूखा मुक्त

नासिक से लगभग 30 किलोमीटर दूर सिन्नार तालुका के पास देशवंडी गाँव कभी सूखा प्रभावित क्षेत्र था। लेकिन पिछले दो सालों से यहाँ पानी की अच्छी सुविधा हो गई है और पूरा गाँव सूखे की समस्या से उबर चुका है। इसका श्रेय जाता है नासिक के एक प्राइवेट कॉलेज के रिटायर्ड प्रोफेसर अशोक सोनवणे को, जिन्होंने रेनवाटर हार्वेस्टिंग के जरिए गाँव की तकदीर ही बदल दी।

राजनीति विज्ञान के प्रोफेसर अशोक सोनवणे 2017 में रिटायर हुए थे। अपने कार्यकाल में उन्होंने विभिन्न सार्वजनिक मंचों पर लेक्चर दिया और अपने ज्ञान को साझा किया था। वह कहते हैं, “मैं नासिक के KTHM कॉलेज में राष्ट्रीय सेवा योजना (NSS) का कार्यक्रम अधिकारी था। जल संरक्षण के प्रयासों पर मेरे अनुभव के कारण अक्सर मुझे लेक्चर देने के लिए बुलाया जाता था।

rain water harvest
रिटायर्ड प्रोफेसर अशोक सोनवणे

जब नहीं हुई थी पर्याप्त बारिश 

अशोक कहते हैं, 2018 में देशवंडी में मुझे जल संरक्षण पर लेक्चर देने के लिए बुलाया गया। बस चीजें वहीं से बदलनी शुरू हुईं।

वह बताते हैं, “लेक्चर के बाद गाँव के युवाओं से बातचीत शुरू हुई। बातचीत के दौरान ही उन लोगों ने बताया कि गाँव सूखे की समस्या से जूझ रहा है। सभी युवा इस मसले को लेकर काफी चिंतित दिख रहे थे। छात्र मुझसे यह जानना चाहते थे कि जब गाँव में इतना कम पानी आता है तो ऐसी स्थिति में इस सूखे क्षेत्र में जल संरक्षण कैसे किया जाए।”

वह आगे बताते हैं, “मैंने सुझाव दिया कि यात्रा के दौरान मैं जिन दो पहाड़ियों के आसपास से गुज़रा, वहाँ से इस समस्या का समाधान निकाला जा सकता है। मैंने उन्हें यह भी बताया कि बारिश के पानी को जमीन पर कैसे जमा किया जा सकता है।”

ऐसी ही कुछ और चर्चाओं और कई बार उस जगह का दौरा करने के बाद वह लगभग एक दर्जन युवाओं के साथ मिलकर बारिश के पानी को जमा करने के अपने पहले प्रयोग की ओर आगे बढ़े।

अशोक कहते हैं, “ग्राम पंचायत से इजाजत लेने में काफी परेशानी हुई। बहुत समझाने के बाद हमें गाँव के आसपास खाइयों को खोदने के लिए लगभग 32 हेक्टेयर जमीन मिली। लोगों ने अपने फावड़े और अन्य औजार दिए। इस तरह सबके योगदान से काम शुरू हुआ। हमें भीषण गर्मी में खुदाई शुरू करनी पड़ी। दरअसल, मानसून में खुदाई नहीं की जा सकती थी क्योंकि आसपास बहुत से किसान फसलों की खेती करते हैं। इसलिए खुदाई के काम को गर्मियों में ही पूरा करना था।” 

rain water harvest
युवाओं के साथ से बदलने लगी सूरत

पहली सफलता

वह बताते हैं, “पहले मानसून के दौरान 2018 में 500 मिमी बारिश हुई और इस दौरान पर्याप्त मात्रा में पानी जमा कर लिया गया। हम जमीन में बारिश का पानी जमा करने में सफल रहे। हमारी सफलता देखकर ग्राम पंचायत ने अगले सीज़न के लिए कुछ और हेक्टेयर जमीन हमें दे दी।

अशोक ने दो पहाड़ियों के साथ लगभग 100 हेक्टेयर में नालियों की खुदाई की, जिससे भूजल में काफी वृद्धि हुई।

इस पूरे काम पर लगभग 80,000 रुपये खर्च किए, जिसमें लोगों के दान और योगदान भी शामिल हैं। कभी-कभी अशोक भी अपनी जेब से पैसे दे दिया करते थे, जबकि रोजाना  60 किलोमीटर की दूरी तय करने में उनका ईंधन तो लगता ही था।

नालियों में मिट्टी के कटाव से बचने के लिए टीम ने नालियों के पास घास और कांटेदार झाड़ियाँ भी लगाईं।

लगभग 1,500 लोगों की आबादी वाले गाँव में खुशी की लहर दौड़ गई। अशोक गर्व से कहते हैं, “पिछले दो मानसून सीजन में गाँव में पानी के टैंकर बुलाने की जरूरत नहीं पड़ी। जिला परिषद ने गाँव को सूखामुक्त क्षेत्र घोषित कर दिया।”

rain water harvest
इस तरह से खुदाई करके बचाया जा रहा है पानी

आगे लंबा है रास्ता

इस काम में योगदान देने वाले सामाजिक कार्यकर्ता प्रवीण कार्दक कहते हैं, “हमने कुछ लोगों को काम करते हुए देखा और इसमें खुद शामिल होने का फैसला किया। बहुत से गाँववालों को हम पर शक हुआ और कई बार उन्होंने हमारा मज़ाक भी बनाया। लोगों का सहयोग बहुत कम मिला।”

प्रवीण बताते हैं, “गाँव दिसंबर महीने से ही टैंकरों पर निर्भर रहने लगता था। लेकिन अब गाँव में पानी की पर्याप्त सुविधा है। इस कारण स्थिति पहले से बहुत बेहतर हो गई है। बहुत कम लोग अब टैंकरों को बुलाते हैं।”

इतना ही नहीं, गांव में अब ब्रिटिश काल के 32 बैराज भी पुनर्जीवित हो गए हैं। वे वाटर कैनाल का काम करते हैं जिससे पानी का प्रवाह निरंतर बना रहता है। 

rain water harvest
गड्ढों में जमा हो गया बारिश का पानी

वहीं, जल संरक्षण की दिशा में अन्य काम किए जा रहे हैं और स्थिति को सुधारने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं।

अभी आसपास के अन्य सूखाग्रस्त गाँवों को पानी की कमी से मुक्ति दिलाने की योजना पर काम चल रहा है। इससे भूजल स्तर को सुधारने में बेशक काफी मदद मिलेगी।

मूल लेख- HIMANSHU NITNAWARE

संपादन- पार्थ निगम

यह भी पढ़ें-दूध की पेटियां फेंक जाते थे दूधवाले, इसमें उगाई सब्जियों से छत पर  बनाया फूड फ़ॉरेस्ट  

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

अनूप कुमार सिंह पिछले 6 वर्षों से लेखन और अनुवाद के क्षेत्र से जुड़े हैं. स्वास्थ्य एवं लाइफस्टाइल से जुड़े मुद्दों पर ये नियमित रूप से लिखते रहें हैं. अनूप ने कानपुर विश्वविद्यालय से हिंदी साहित्य विषय में स्नातक किया है. लेखन के अलावा घूमने फिरने एवं टेक्नोलॉजी से जुड़ी नई जानकारियां हासिल करने में इन्हें दिलचस्पी है. आप इनसे anoopdreams@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं.
Posts created 99

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव