in ,

बेकार कांच की बोतलों से क्राफ्ट आइटम बना शुरू किया स्टार्टअप, महीने की कमाई 40 हज़ार रुपये

अपर्णा कचरे में पड़ी पुरानी कांच की बोतलों को अपसायकल करके होम डेकॉर की चीजें बनातीं हैं!

काँच और इसके बने प्रोडक्ट्स अर्थव्यवस्था का अहम हिस्सा हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक, हर साल भारत में लगभग 21 मिलियन मीट्रिक टन काँच का उत्पादन होता है और इसके प्रोडक्ट्स बनते हैं। काँच पूरी तरह से रीसायकलेबल है लेकिन फिर भी हम सालाना उत्पादित काँच का सिर्फ 45% ही रीसायकल कर पाते हैं। बाकी जो काँच के प्रोडक्ट्स हैं वह आपको कहीं लैंडफिल में तो कहीं किसी झील, नदी या नाले में दिखते हैं। इससे न सिर्फ हमारी ज़मीन बल्कि पानी के स्त्रोत भी प्रदूषित हो रहे हैं।

यकीनन, सरकार को इस दिशा में और भी बहुत काम करने की ज़रूरत है ताकि उत्पन्न होने वाला 100% काँच रीसायकल हो सके। हालांकि, सरकार और प्रशासन क्या कर सकते हैं और क्या नहीं, इस बारे में बात करने से बेहतर है हम यह सोचें कि आम नागरिक व्यक्तिगत तौर पर क्या कर सकता है? जी हाँ, इस बारे में हम और आप भी बहुत कुछ कर सकते हैं और इसका सबसे अच्छा उदहारण है, केरल की 24 वर्षीया अपर्णा।

बीएड पास अपर्णा पिछले 3-4 सालों से बेकार पड़ी और फेंकी गई काँच की बोतलों को अपसाइकिल करके खूबसूरत और अनोखे होम डेकॉर प्रोडक्ट्स बना रही हैं। वह जो भी क्रॉफ्ट आइटम बनाती हैं, उसके लिए कोई वेस्ट बोतल ही इस्तेमाल करती हैं। अपसायकल्ड क्रॉफ्ट के प्रति अपने प्यार के चलते उन्होंने पिछले साल एक झील की सफाई भी करवा दी।

Aparna with her Crafted Bottles

अपर्णा ने द बेटर इंडिया को बताया, “मेरी माँ पेशे से नर्स हैं लेकिन उन्हें घर को सजाने का काफी शौक है। उनके बारे में अच्छी बात यह है कि वह घर के किसी पुराने बेकार मटेरियल से ज़्यादातर चीजें बनाती हैं। बचपन से मैंने उन्हें आर्ट एंड क्रॉफ्ट करते हुए देखा और शायद उन्हीं से यह चीज़ मुझमें भी आई है। मैं भी हमेशा से स्कूल की आर्ट एंड क्रॉफ्ट एक्टिविटीज में भाग लेती थी। फिर अलग-अलग चीजें जैसे फैब्रिक पेंटिंग, टेराकोटा की ज्वेलरी बनाना और वेस्ट चीजों को अपसाइकिल करना सीखा।”

अपर्णा ने शौक-शौक में आर्ट एंड क्रॉफ्ट शुरू किया और फिर जब उनका हुनर निखरता गया तो उन्हें ऑर्डर भी मिलने लगे। तरह-तरह के क्रॉफ्ट ट्राई करने वाली अपर्णा वेस्ट काँच की बोतलों को अपसायकल कर खूबसूरत रूप भी देने लगी। वह मन्रोतुरुत्तु में रहती हैं जो कोल्लम से थोड़ा दूर है और एक टूरिस्ट प्लेस है।

अपनी पढ़ाई के लिए उन्हें हर रोज़ कोल्लम जाना होता था। टूरिस्ट प्लेस होने के कारण उन्हें अक्सर रास्ते में तरह-तरह का कूड़ा दिखता, जिसमें काँच की बोतल काफी मात्रा होती थी। वह कॉलेज से आते वक़्त हमेशा काँच की बोतलें इकट्ठा करके ले आती और इन्हें साफ़ करके, इन पर अलग-अलग क्राफ्ट करती थी।

waste bottle craft business
Her Designs on Bottles

यह सिलसिला साल 2017 से शुरू हुआ। वह कहती हैं कि नए-नए क्राफ्ट आइडियाज के लिए वह काफी कुछ रिसर्च भी करती हैं। इस दौरान उन्हें यह भी समझ में आया कि अपसायकलिंग हमारे पर्यावरण को बचाने के लिए एक अच्छी एप्रोच है। “हमारे यहाँ अष्टमुडी झील काफी मशहूर है लेकिन इसका एक हिस्सा कूड़े-कचरे से भरा हुआ था। मैंने सोचा कि क्यों न हम इसे साफ़ करें और इससे जो भी अपसायकल करने वाली चीजें मिलेंगी, उन्हें हम अपसायकल करके बेच सकेंगे। इससे दूसरे लोगों को भी एक सकारात्मक संदेश जाएगा,” उन्होंने कहा।

यह मार्च 2019 था और अपर्णा ने अपने फेसबुक एकाउंट पर पोस्ट किया कि क्यों न 23 मार्च को जल दिवस के मौके पर अष्टमुडी झील को साफ़ किया जाए। उनकी पोस्ट को पढ़कर बहुत से लोग उनकी मदद के लिए आगे आए। 17 मार्च से लेकर 21 मार्च तक उन्होंने झील को साफ़ किया और वेस्ट बाहर निकाला। इसके बाद, 22 मार्च को अपर्णा ने सभी को रंग आदि दिया और जो भी बोतलें झील से निकली थी, उन्हें साफ़ करके उन पर क्रॉफ्ट करने के लिए कहा। सबने मिलकर वहीं पर क्रॉफ्ट बनाया और शाम में, इन सभी को सड़क के किनारे रखकर बेचा गया।

Promotion
Banner
waste bottle craft business
Along with others, she collected waste bottles from Ashtmudi lake

इसके बाद, अपर्णा ने कभी मुड़कर नहीं देखा। उन्होंने यह काम शौकिया तौर पर शुरू किया था लेकिन अब वह एक उद्यमी हैं। उन्होंने अपने स्टार्टअप का नाम ‘कुप्पी’ रखा है, मलयालम में इसका मतलब होता है बोतल। वह कहती हैं कि अक्सर जब वह पुरानी बेकार बोतलों को इकट्ठा करती थी तो लोग उन्हें चिढ़ाते थे और उन्हें ‘कुप्पी’ कहने लगे थे, लेकिन जब वह इन बोतलों को अपसाइकिल करके सोशल मीडिया पर पोस्ट करने लगी तो उन्हें ऑर्डर्स आने लगे। अपने प्रोडक्ट्स को बेचने के लिए उन्होंने अपना ब्रांड नाम ‘कुप्पी’ ही रखा।

उन्होंने कुप्पी को टूरिस्ट डिपार्टमेंट में रजिस्टर कराया है क्योंकि वह टूरिस्ट को भी इस पर वर्कशॉप देती हैं। अपने घर के एक कमरे को उन्होंने ‘कुप्पी स्टूडियो’ में तब्दील किया है, जहाँ वह लोगों को अपना काम दिखाती हैं और कभी-कभी वर्कशॉप भी लेती हैं।

waste bottle craft business
Her Inhouse Quppi Studio

” मैंने स्कूलों में भी बच्चों को वर्कशॉप दी हैं कि कैसे वह वेस्ट को क्रॉफ्ट में बदल सकते हैं। कई ऑनलाइन सेशन भी मैंने किए हैं और लॉकडाउन के दौरान ये सेशन बहुत ही कामयाब रहे। मैंने ऑनलाइन कैंपेन भी चलाया जिसमें काफी सारे लोगों ने हिस्सा लिया और अपने -अपने अपसायकल क्रॉफ्ट्स को पोस्ट किया। बहुत अच्छा लगता है जब बच्चे मुझे अपने क्रॉफ्ट्स भेजते हैं और कहते हैं कि हमने आपसे प्रेरणा लेकर यह किया है,” उन्होंने आगे बताया।

अपर्णा बोतलों से बहुत सी क्रिएटिव चीजें बनाती हैं और उन्हें अलग-अलग जगहों से ऑर्डर आते हैं। फिलहाल, वह अपने इस हुनर से हर महीने लगभग 40 हज़ार रुपये कमा पाती हैं। उनका उद्देश्य है कि वह ज्यादा से ज्यादा लोगों को इस काम से जोड़ें ताकि किसी भी प्लास्टिक, काँच या मेटल आदि को फेंकने से पहले हर कोई एक बार सोचे। भविष्य में वह और भी अभियान शुरू करना चाहती हैं।

waste bottle craft business
Turning Junk into Art

अपर्णा अंत में बस इतना कहती हैं कि त्यौहारों पर हम तरह-तरह के प्लास्टिक डेकॉर का इस्तेमाल करके सिर्फ अपने घर का वेस्ट बढ़ाते हैं। इससे अच्छा है कि हम थोड़ा-सा वक़्त निकालें और खुद कुछ करने की कोशिश करें। कुछ ऐसा जिससे कि पर्यावरण भी सुरक्षित रहे और हमारा हुनर भी निखरे।

अगर आप अपर्णा की क्रिएटिविटी देखना चाहते हैं या फिर उसके प्रोडक्ट्स ऑर्डर करना चाहते हैं तो उन्हें फेसबुक पर संपर्क कर सकते हैं!

यह भी पढ़ें: प्रोजेक्ट साईट से निकली मिट्टी से ईंटें बनाकर, घरों का निर्माण करते हैं ये आर्किटेक्ट


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

UGC Scholarship: इन 4 स्कॉलरशिप के लिए निकले आवेदन, आज ही करें अप्लाई

ISRO ने शुरू किए दो नए फ्री ऑनलाइन कोर्स, जानिए कैसे करें आवेदन