Search Icon
Nav Arrow

जानिए कैसे रु. 500 से भी कम लागत में घर से शुरू कर सकते हैं चटनी का बिज़नेस

चटनी का बिज़नेस शुरू करने के लिए आपको बहुत ज्यादा इन्वेस्टमेंट की ज़रूरत नहीं है, आप घर की किचन से यह शुरू कर सकते हैं!

Advertisement

बचपन से ही खाना बनाने की, या फिर यूं कहें कि खाने के साथ एक्सपेरिमेंट करने की शौक़ीन रहीं अनिंदिता सेंगर ने पिछले साल अपना छोटा-सा स्टार्टअप शुरू किया- चटनी चाची। मुंबई में अपने घर से चल रहे अपने इस स्टार्टअप के ज़रिए वह लोगों को अलग-अलग जैविक सब्जियों से बनाई गईं चटनियां खिलातीं हैं। भले ही अभी उनके स्टार्टअप को शुरू हुए कम वक़्त हुआ है लेकिन उन्हें मार्किट और ग्राहकों से अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है।

लॉकडाउन के दौरान भी अनिंदिता ने कभी नहीं सोचा की वह अपने इस व्यवसाय को बंद कर दें। बल्कि उन्होंने इस वक़्त को बहुत ही तरीके से इस्तेमाल किया है- अपने ब्रांड पर काम किया है, प्रोडक्ट लाइन बढ़ाने की स्ट्रेटेजी बनाई है और मार्केटिंग के नए तरीके तलाशे हैं।

अनिंदिता सेंगर, चटनी चाची

अनिंदिता कहतीं हैं कि उन्होंने बहुत ही छोटे स्तर से अपने व्यवसाय की शुरुआत की और फिर जो भी वह कमातीं हैं, उसे फिर से बिज़नेस में ही इन्वेस्ट कर रही हैं। आने वाले समय में वह न सिर्फ मुंबई बल्कि दूसरे शहरों में भी अपने प्रोडक्ट्स की पहचान बनाना चाहतीं हैं।

उन्होंने द बेटर इंडिया से बात करते हुए बताया कि कैसे कोई भी पौष्टिक और स्वादिष्ट तरह-तरह की चटनी, अचार बनाने का हुनर रखने वाला इंसान अपने घर से अपना व्यवसाय शुरू कर सकता है।

उन्होंने हमारे साथ अपना अनुभव साझा किया और कहा, “मैं भी अभी सीख रही हूँ और उसी हिसाब से आगे बढ़ रही हूँ। बात जब बिज़नेस की होती है तो हम कुछ भी फिक्स नहीं कह सकते, क्योंकि बिज़नेस का मतलब ही रिस्क है। बस हमने यह तय करना है कि क्या इस रिस्क को लेने की और परेशानियों को हल करके आगे बढ़ने की क्षमता हमारे पास है या नहीं? अगर है, तो फिर देर किस बात की, आप आज से ही अपने आइडियाज पर काम कीजिए।”

1. बिज़नेस की शुरुआत कैसे करें, कितना इंवेस्ट करना चाहिए?

अनिंदिता: सबसे पहले आपको दिमाग में यह स्पष्ट होना चाहिए कि आप क्या बनाना चाहते हैं जैसे चटनी, अचार या फिर कुछ और। शुरुआत किसी एक प्रोडक्ट से करें और उसी पर पूरा फोकस रखें। कुछ समय बाद, जब आपको फीडबैक मिले और दूसरे प्रोडक्ट्स की मांग आए तो आप दूसरे प्रोडक्ट्स शुरू करें।

एक लिस्ट बना सकते हैं कि आपको क्या-क्या चीज़ें चाहिए होंगी आपके प्रोडक्ट्स बनाने के लिए ताकि कुछ भी इधर-उधर न हो। आप सब्ज़ियाँ, मसाले या फिर पैकेजिंग के लिए जार कहाँ से खरीदेंगे- इन सब पर काम करें।

शुरू में, बहुत ज्यादा इंवेस्टमेंट की ज़रूरत नहीं होती है, आप कम से कम पैसे, 500 रुपये से भी कम में यह बिज़नेस शुरू कर सकते हैं, क्योंकि चटनी बनाने के लिए बेसिक चीजें चाहिए होती हैं। इसके अलावा, आपको अपने ऑर्डर्स के हिसाब से इन्वेस्टमेंट करनी चाहिए।

2. बिज़नेस के लिए किस सर्टिफिकेशन की होती है ज़रूरत और कैसे कर सकते हैं अप्लाई?

अनिंदिता: जब भी आप फ़ूड बिज़नेस शुरू करते हैं तो आपको FSSAI सर्टिफिकेट की ज़रूरत पड़ती है। यह आप ऑनलाइन अप्लाई कर सकते हैं या फिर किसी एजेंसी जैसे मुंबई में Legal Docs के ज़रिए भी बनवा सकते हैं। हमें सिर्फ लगता है कि बहुत मुश्किल प्रक्रिया होगी, पर यह बहुत ही आसान प्रक्रिया है और आप खुद से अप्लाई कर सकते हैं।

FSSAI के साथ-साथ न्यूट्रिशनल वैल्यू का सर्टिफिकेट बनवा लेना भी सही रहता है। वैसे तो सिर्फ FSSAI से भी काम चल जाता है लेकिन अगर आप कभी किसी स्टोर पर अपने प्रोडक्ट्स रखना चाहें तो अक्सर दूकान वाले पूछ लेते हैं। इसके लिए कई एजेंसी जैसे मुंबई में Agrobiomics Lab आपकी मदद कर सकती हैं।

3. चटनी बनाने के क्या कोई अलग बर्तन या मशीन की ज़रूरत होती है?

अनिंदिता: चटनी बनाने के लिए आपको कोई बहुत बड़ी मशीन आदि किम ज़रूरत नहीं होती। आपको बस एक मिक्सर चाहिए होता है, जो अक्सर घरों में होता है। इसके अलावा, चाकू, प्लेट आदि बस।  जैसे-जैसे आप आगे बढ़ते हैं तो आपको प्रोडक्ट्स के हिसाब से चीजें खरीदनी चाहिए।

आप हिमामदस्ता और सिलबट्टा का अच्छा इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे चटनी का स्वाद बढ़ता है और पोषण भी पूरा रहता है।

4. पैकेजिंग कैसे करें?

अनिंदिता: अगर हम यह कह रहे हैं कि हमारा प्रोडक्ट एकदम होममेड है और स्वाद के साथ पोषण भी है तो यह हमारी ज़िम्मेदारी बन जाती है कि हमारी पैकेजिंग में यह बात झलके। ऐसे डिब्बे इस्तेमाल करें, जिसमें आपकी चटनी का स्वाद और पोषण एकदम सही रहे जैसे कि ग्लास के जार।

Advertisement
Start Chutney Business
Focus on Packaging

इनका भी साइज़ आपको समझना पड़ेगा कि आपके कितनी क्वांटिटी वाले जार ज्यादा मांग में हैं तो उसी हिसाब से जार खरीदने में इन्वेस्ट करें। जार पर अच्छे से अपने ब्रांड के नाम का लेबल लगाएं ताकि दूसरों की नज़र में भी आपके प्रोडक्ट्स आएं।

5. कैसे तय करें अपने प्रोडक्ट्स का मूल्य?

अनिंदिता: यह बहुत ज़रूरी चीज़ है और आप भले ही गणित में अच्छे हों या न हों पर इसके लिए आपको खुद काम करना होगा। आप जो भी चीजें एक प्रोडक्ट को बनाने के लिए खरीद कर लाए हैं उस लागत को, आपके एक प्रोडक्ट बनने में जो क्वांटिटी इस्तेमाल हुई है, उससे भाग कर दें। आपकी प्रोडक्ट की लागत आ जाएगी और अब इसमें पैकेजिंग की लागत जोड़ें। साथ में, अपनी मेहनत का भी थोड़ा हिसाब कैलकुलेट करें।

इस कैलकुलेशन में आप अपना प्रॉफिट का मार्जिन रखें, लेकिन यह मार्जिन इतना ज्यादा नहीं होना चाहिए कि बेईमानी लगे। साथ ही, अगर आपको लग रहा है कि आपकी इतनी मेहनत है और आपको इतना ही मूल्य रखना चाहिए तो बिल्कुल वही रखें, उससे कम रखने से आपको संतुष्टि नहीं मिलेगी।

बात सिर्फ यह है कि अगर ग्राहक आपसे मूल्य पर सवाल करे तो आप उसे समझा पाएं कि आपके प्रोडक्ट्स का मूल्य इतना क्यों है?

6. कैसे करें मार्केटिंग?

Start Chutney Business
Chutney Chachi’s Facebook Page for example

अनिंदिता: सबसे अच्छी मार्केटिंग होती है ‘वर्ड ऑफ़ माउथ’ यानी कि लोगों के ज़रिए जब एक-दूसरे तक आपके प्रोडक्ट्स की बात पहुँचती है। इसके अलावा, सोशल मीडिया का अच्छा इस्तेमाल करें। फेसबुक और इंस्टाग्राम पर अपना पेज बनाएं और प्रोडक्ट्स के बारे में शेयर करें।

7. बिज़नेस के लिए कुछ टिप्स:

अनिंदिता: आप बिज़नेस कोई भी करें लेकिन कुछ उसूल आपको हमेशा ध्यान में रखने चाहिए। हमेशा खुद को ग्राहक की जगह रखकर सोचें और फिर अपने प्रोडक्ट्स बनाएं और मार्किट करें। अगर आप आगे बढ़ना चाहते हैं तो बहुत ज़रूरी है कि ग्राहकों का विश्वास आप पर बनें।

इसके लिए कुछ बातें आप ध्यान में रखें, जैसे:

  • बात जब फ़ूड बिज़नेस की हो तो हमेशा अपने प्रोडक्ट्स ऐसे बनाएं जैसे आप अपने परिवार के लिए बना रहे हैं।
  • अगर कोई भी चीज़, कोई सब्ज़ी आपको लग रही है कि खराब हो गई है या होने वाली है तो इसे अपनी चटनी में न डालें। क्योंकि अगर कल कुछ भी गलत होता है तो आप पर बात आएगी और आपका नाम भी खराब होगा।
  • हमेशा साफ़-सुथरी जगह पर चटनी बनाएं जैसे आप अपने घर के लिए बनाते हैं।
  • अगर आपने अपने बिज़नेस में दावा किया है कि आपकी चटनी जैविक सब्ज़ियों से बन रही है तो हमेशा जैविक सब्जियां ही इस्तेमाल करें। कभी अगर जैविक सब्जियां नहीं है और ऑर्डर आ गया तो यह नहीं होना चाहिए कि आपने कोई भी सब्जियां इस्तेमाल कर लीं। आप अपने ग्राहक को सच कहें कि फ़िलहाल जैविक नहीं है तो नहीं दे सकते। इससे उनका विश्वास आप पर बनेगा।
  • वक़्त पर अपने ऑर्डर्स पूरे करने की कोशिश करें। हो सकता है कभी इमरजेंसी हो जाए तो आप अपने ग्राहकों से बात करें, उन्हें तसल्ली से परेशानी समझाएं और कोशिश करें भरपाई करने की।
  • हर जगह खुद को इम्प्रूव करते रहने का स्कोप रहता है तो हमेशा कुछ बेहतर करने की कोशिश करें।
  • हर बार अपने ग्राहकों से फीडबैक लें, यह आपकी आगे बढ़ने में मदद करेगा।

अनिंदिता अंत में बस यही कहतीं हैं कि चटनी का स्वाद आप क्या इस्तेमाल कर रहे हैं, उस पर भी निर्भर करता है। जैसे कभी टमाटर का स्वाद अलग है, कभी मिर्च बहुत तेज आ गई तो हर बार आपकी चटनी का स्वाद ऊपर-नीचे होगा। पर आपको यह कोशिश करनी है कि पहली बार आपने जो स्वाद बनाया था, उसके आस-पास ही यह रहे।

वीडियो यहाँ देख सकते हैं:

बिज़नेस को सफलता-नुकसान का सोचकर नहीं बस बिज़नेस सोचकर करें। बस जब दिल में आ गया करना है तो उसी वक़्त उस पर काम करें। अगर आपको लगता है कि आप में यह टैलेंट है तो एक ट्राई खुद को ज़रूर दें!

उम्मीद है अनिंदिता की बातों से चटनी बनाने का हुनर रखने वाले बहुत से लोगों को प्रेरणा मिलेगी कि वो भी अपनी एक पहचान बना सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए आप अनिंदिता सेंगर को उनके इंस्टाग्राम पर फॉलो और मैसेज कर सकते हैं!

यह भी पढ़ें: जानिए कैसे मात्र 1000 रुपये में शुरू कर सकते हैं जैम और सॉस का बिज़नेस


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Advertisement
_tbi-social-media__share-icon