in

सितंबर में बोइए इन सब्ज़ियों के बीज और दिसंबर में खाइए ताज़ा सब्ज़ियाँ

अगर आपके इलाके में फिलहाल तापमान 30 से 35 डिग्री के बीच है और मौसम में नमी होने लगी है तो यह उपयुक्त समय है बीज लगाने का!

धीरे-धीरे मौसम बदल रहा है। गर्मियाँ जाने लगी और एक-दो महीने बाद सर्दियां शुरू हो जाएंगी। मौसम के साथ बहुत कुछ बदलता है जिअसे हमारे पेड़-पौधे। अगर आप गार्डनिंग करते हैं तो यकीनन सर्दियों के हिसाब से गार्डन की देखभाल की तैयारियां शुरू होने लगी होंगी। साथ ही, सितंबर महीने में लोग सर्दियों की सब्जियां उगाने की तैयारी भी करने लगते हैं। इस महीने में बीज बोकर पौधे तैयार किये जाते हैं और फिर उन्हें बड़े गमलों और ग्रो बैग्स में लगाया जाता है।

दो-तीन महीने बाद सर्दियों में आपको अपने गार्डन से अच्छी उपज मिलने लगती है। आज हमारे गार्डनिंग एक्सपर्ट अंकित बाजपेई बता रहे हैं कि आप सितंबर के महीने में कौन-कौन सी सब्ज़ियां और फूल लगा सकते हैं।

अंकित कहते हैं कि सामान्य तौर पर सितंबर से मौसम में नमी होने लगती है और तापमान भी कम होता है। यही सब इशारे होते हैं कि आप कब कौन-सी सब्ज़ियां लगा सकते हैं।

Ankit Bajpai

“गार्डनिंग करते समय महीनों से ज़्यादा आपको तापमान पर ध्यान देना चाहिए कि आपके इलाके का तापमान किया है। अगर तापमान अनुकूल है तो फिर आपकी सब्ज़ियां लग जातीं हैं। उत्तर भारत और दक्षिण भारत के तापमान में काफी अंतर है, इसलिए हमारे यहां जो अब हो सकता है, वह शायद वहां दो महीने बाद हो,” उन्होंने कहा।

अगर आपके इलाके का तापमान 30 डिग्री से 35 डिग्री होने लगा है तो आप सर्दियों के लिए सब्ज़ियाँ बोना शुरू कर सकते हैं। पॉटिंग मिक्स बनाने के लिए आप मिट्टी में रेत और गोबर की खाद या फिर वर्मी कंपोस्ट मिलाएं। याद रहे कि इसमें मिट्टी 30%, रेत 30% और कंपोस्ट 40% होना चाहिये। इसमें आपको पर्लाइट और वर्मीक्यूलाइट मिलाना होगा ताकि पोषक तत्व बढ़ें। आपका पॉटिंग मिक्स तैयार है।

जानिए कौन-कौन से बीज लगा सकते हैं:

1. फूलगोभी:

Cauliflower

फूलगोभी सर्दियों की सब्ज़ी है और आप सितंबर महीने से इसे लगाना शुरू कर सकते हैं। इसकी अलग-अलग वैरायटी आप लगा सकते हैं।

  • सबसे पहले एक थोड़े बड़े ग्रो बैग या गमले में पॉटिंग मिक्स डाल लें।
  • इसके साथ ही आप कागज के छोटे-छोटे ग्रो बैग तैयार करें।
  • इन ग्रो बैग को समान दूरी पर बड़े ग्रो बैग या गमले में लगा दें।
  • आपको बीज इन छोटे-छोटे ग्रो बैग में लगाने हैं।
  • लगभग 6 दिन बाद आपके बीज अंकुरित होने लगेंगे।
  • नियमित तौर पर पानी देते रहने से लगभग एक महीने में आपकी पौध तैयार हो जाएगी।
  • इस पौध को आप अलग-अलग करके अलग-अलग गमलों में लगा दें।
  • दो-ढाई महीने में गोभी तैयार हो जाएँगी।

आप वीडियो यहां देख सकते हैं:

2. धनिया:

Coriander

अगर आपके घर में सूखा धनिया उपलब्ध है तो आपको कहीं बाहर से बीज खरीदने की जरूरत नहीं है।

  • साबुत धनिया को एक कपड़े में रखकर हल्का से मसल लें, इससे इसके अंदर से एक दम छोटे-छोटे बीज निकलेंगे।
  • जिन्हें आपको गमले में लगाना है।
  • गमले में बीजों को बुरककर डाले और अब ऊपर से मिट्टी की परत से ढक दें और फिर पानी दें।
  • कुछ ही दिनों में धनिया अंकुरित होने लगेगा।

3. टमाटर:

Tomatoes

सबसे पहले टमाटर के बीजों से आप पौध तैयार करें। इसके लिए आप किसी ग्रो प्लेट या फिर छोटी बोतल आदि से प्लांटर बनाकर इस्तेमाल कर सकते हैं।

  • किसी भी ग्रो प्लेट में पॉटिंग मिक्स भरकर बीज लगाइए और स्प्रे करके पानी दें।
  • कुछ दिनों बाद जब ये अंकुरित होने लगे और पौधा थोड़ा बड़ा हो जाए तो आप इसे ट्रांसप्लांट कर सकते हैं।
  • टमाटर का पेड़ बड़ा होने पर थोड़ा फैलता है तो आप एक पेड़ के लिए एक गमला इस्तेमाल करें।
  • गमले में पॉटिंग भरें और पौधों को बिना कोई नुकसान पहुंचाए ट्रांसप्लांट कर दें।
  • नियमित तौर पर ज़रूरत के अनुसार पानी दें और महीने में 2 बार खाद आदि देते रहें।
  • 2-3 महीनों में ही आपको अच्छी उपज मिलने लगेगी।

4. हरी मिर्च:

Vegetables Grown in September
Green Chili

हरी मिर्च लगाने के लिए आप अपने घर से ही बीज इस्तेमाल कर सकते हैं। हम सबके घर में जब भी हरी मिर्च आती हैं तो उनमें से कुछ मिर्च तो सुखकर लाल हो ही जाती हैं।

  • सूखी लाल मिर्च के बीज आप ले सकते हैं।
  • याद रहे कि मिर्च की पौध बनाने के बाद आपको उसके पेड़ों को ट्रांसप्लांट करना पड़ेगा।
  • इसलिए एक ही गमले में बहुत से बीज न डालें।
  • बाकी इन्हें भी धनिया के बीजों की तरह ही लगाएं।

जब पौधे अंकुरित होने लगें और इस पर ऊपर चार-पांच पत्ते आ जाएं तो आपको हर एक पौध को अलग-अलग गमले में या प्लांटर में लगाना है क्योंकि मिर्च का पेड़ काफी जगह लेता है।

वीडियो यहां देखें:

Promotion
Banner

5. शिमला मिर्च:

Vegetables Grown in September
Bell pepper/Capsicum

शिमला मिर्च के लिए आप शिमला मिर्च से बीज निकाल कर उन्हें सीधा बो सकते हैं। आपको इसके बीज भी बाहर से खरीदने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी।

  • हरी मिर्च की ही तरह आप शिमला मिर्च के बीजों को भी पहले एक बड़े गमले में लगाकर पौध तैयार कर लें।
  • लगभग 1 महीने बाद इन पौधों को बिना कोई नुकसान पहुंचाए अलग-अलग गमलों में लगा दें।
  • नियमित तौर पर पानी और खाद आदि देते रहें ताकि पौधों को पोषण मिलता रहे।
  • लगभग तीन महीने बाद आप हार्वेस्ट ले सकते हैं।
  • शिमला मिर्च का पौधा बहुत ज्यादा गर्मी और सर्दी नहीं सह सकता, उन्हें सामान्य तापमान चाहिए होता है।

वीडियो भी देखें:

6. बैंगन:

Vegetables Grown in September
Eggplant/Brinjal

सबसे पहले बैंगन के बीजों के लिए पॉटिंग मिक्स तैयार करें। इसके लिए थोड़ी हल्की मिट्टी रखें इसलिए रेत ज्यादा और मिट्टी कम और इसमें गोबर की खाद मिला दें।

  • इस पॉटिंग मिक्स में बीज लगाने के बाद इसमें पानी छिडकें और फिर इस गमले को ऐसी जगह रखें जहां थोड़ी धूप आती हो और छांव भी रहती हो।
  • लगभग 6-7 दिन बाद ये अंकुरित होंगे और कुछ हफ्तों में पौध तैयार हो जाएगी।
  • इसके बाद पौधों को ट्रांसप्लांट कर दें और अलग-अलग गमलों में लगाएं।
  • पहले 7 दिन गमलों को थोड़ी धूप, थोड़ी छाँव में रखें और फिर ऐसी जगह जहां अच्छी धूप आती हो।
  • हर 15 दिन में खाद दें और लगभग 3 महीने बाद आपको आपकी उपज मिलने लगेगी।

आप वीडियो देखें:

सब्ज़ियों के अलावा, सितम्बर महीने में आप गुलदाउदी और गेंदें के फूल भी लगा सकते हैं। अंकित कहते हैं यह सबसे अच्छा मौसम होता है फूलों के पेड़ लगाने का। बदलते मौसम के साथ आपको अपनी पानी देने की आदतों और थोड़ा खाद आदि में बदलाव करना होगा।

टिप्स:

*सबसे पहले तो आप पेड़ की ज़रूरत के हिसाब से पानी दें।
*एक ही जैसी खाद न दें, हर 15 दिन पर बदलते रहें ताकि सभी पोषक तत्व मिलें जैसे कभी फिश्मील, कभी बॉनमील, कभी सामान्य खाद।
*जब सर्दियां थोड़ी अधिक बढ़ जाएं तो ऐसी खाद दें जिससे थोड़ी गर्माहट भी पेड़ों को मिले जैसे सरसों की खली की खाद।
*सब्जियों और फूलों को ऐसी जगह पर रखें जहां उन्हें धूप अच्छी मिले।
*अगर आप अभी से ये सब्जियां लगाते हैं तो आप सर्दियों के मौसम में इनकी कई उपज ले सकते हैं।
*आप अपने इलाके के हिसाब से तापमान को ध्यान रखकर सब्जियां लगाएं।

हैप्पी गार्डनिंग!


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

79 वर्षीया परदादी ने 10 साल पहले सीखी पिछवाई चित्रकला, जीवन की सांझ में बनाई अपनी पहचान

UPPCL Recruitment 2020: बिजली विभाग में नौकरी का अच्छा मौका, 9 सितंबर से शुरू होंगे आवेदन