in , ,

17 सालों से ऑर्गनिक सब्जियाँ उगाते हैं यह हेडमास्टर, जिससे बनता है बच्चों का मिड-डे मील

ताजी सब्जियाँ और पौष्टिक मिड-डे मील के अलावा चौहान छात्रों को यूनिफॉर्म, स्टेशनरी और जूते भी मुफ्त में देते हैं।

Gujrat teacher

यह कहानी गुजरात के एक स्कूल की है, जहाँ एक शिक्षक के प्रयास से बच्चों को मिड-डे मील में जैविक तरीके से उगाई गई सब्जियाँ मिल रही हैं, वह भी पिछले 17 साल से!

2001 में नरेंद्र चौहान वडोदरा स्थित वायदपुर प्राथमिक विद्यालय में हेडमास्टर के रूप में नियुक्त हुए। वहाँ उन्हें दो चीजें नज़रआईं।

पहली यह कि स्कूल छोड़कर जाने वाले छात्रों की संख्या बहुत ज्यादा थी और दूसरी यह कि स्कूल आने वाले ज्यादातर छात्र गाँव के गरीब परिवारों से थे और वे सिर्फ़ मिड-डे मील के लालच में स्कूल आते थे।

चौहान कहते हैं, “स्कूल में बच्चों को जो मिड-डे मील परोसा जाता था, वह बेस्वाद था। भोजन पौष्टिक नहीं होता था और न ही बच्चों की सेहत के लिए फायदेमंद था।”

उन्होंने इस समस्या को दूर करने का विचार किया। संयोग से स्कूल के आस-पास आधा एकड़ परती जमीन खाली थी। उन्होंने उसे घेरकर वहाँ सब्जियाँ उगाने का फैसला किया।

Gujrat teacher

चौहान बताते हैं, “मैं छात्रों को हर दिन लंच में स्वस्थ और स्वादिष्ट भोजन देना चाहता था, इसलिए मैंने खुद ही ऑर्गेनिक खेती करनी शुरू की। धीरे-धीरे छात्रों ने भी मदद करना शुरू कर दिया।”

17 साल बीत चुके हैं। आज वह अपने स्कूली बच्चों के साथ मिलकर टमाटर, बैंगन, फूलगोभी, पत्ता गोभी, मूली, गाजर, लौकी के साथ ही पालक, मेथी और धनिया जैसी पत्तेदार साग-सब्जियां उगाते हैं।

वह बताते हैं, “हम अपने स्कूल के किचन गार्डन में किसी तरह के रसायन का इस्तेमाल नहीं करते हैं। मैं खुद ही सभी जैविक खादों और कीटनाशकों को बनाता हूँ। गाँव के कुछ किसान भी मुझसे प्रभावित होकर जैविक खेती कर रहे हैं।”

Gujrat teacher
छात्र पढ़ाई के साथ एक्स्ट्रा एक्टिविटी में खेती के गुर सीखते हैं

स्वादिष्ट लंच पौष्टिक भी होता है!

वायदपुर प्राथमिक विद्यालय में बच्चों को हर रोज मिड-डे मील में पालक पनीर, मेथी ठेपला और  पौष्टिक सलाद परोसा जाता है। यह बात उस तहसील में सबकी जुबान पर है।

चौहान बताते हैं, “छात्रों के माता-पिता अक्सर यह कहते हैं कि उनके बच्चे हर सुबह इस उत्साह से स्कूल जाते हैं कि आज लंच में क्या कुछ नया मिलेगा।”

Promotion
Banner

वह कहते हैं कि पिछले कुछ सालों में बच्चों की सेहत में काफी सुधार हुआ है। इन 17 सालों में बच्चे न सिर्फ स्वस्थ हुए हैं बल्कि कक्षा में भी बहुत ज्यादा एक्टिव रहते हैं।

अब तक चौहान स्कूल के खेत में 8000 किलो से अधिक ताजी सब्जियाँ उगा चुके हैं।

Gujrat teacher
फार्मिंग में जुटे बच्चे

छात्र खेती में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते हैं

बच्चे सिर्फ ताजे खाने की थाली पाने के उत्साह में ही स्कूल नहीं आते, बल्कि उन्हें खेती में भी काफी मजा आता है। यही कारण है कि वायदपुर के बच्चे नियमित स्कूल आते हैं। वे अपने नन्हें हाथों से बीज बोने से लेकर हर तरह की सब्जियों की कटाई में माहिर हैं। ऑर्गेनिक खेती की हर गतिविधि में वे काफी उत्साह से हिस्सा लेते हैं।

कभी-कभी सब्जियों की अधिक पैदावार होने पर चौहान छात्रों को कुछ सब्जियाँ अपने घर ले जाने की छूट देते हैं।

चौहान आगे बताते हैं, “इन बच्चों के माता-पिता बहुत गरीब हैं। अधिकांश माता-पिता तो एक टाइम भी अपने बच्चों को पौष्टिक खाना नहीं दे पाते हैं। ऑर्गेनिक स्कूल फूड के कारण अपने बच्चों को स्वस्थ और तंदुरुस्त देखकर उन्हें काफी राहत मिलती है। वे स्कूल में भोजन मिलने वाली इस योजना के प्रति आभारी हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि हम यह सारा काम मुफ्त में कर रहे हैं।”

Gujrat teacher
हेल्दी मिड डे मील

चौहान छात्रों को ऑर्गेनिक खेती सीखने की आवश्यकता पर जोर देते हैं। उनका कहना है कि ज्यादातर छात्र किसान परिवार से हैं और वे भविष्य में वैज्ञानिक तरीके से खेती कर सकते हैं। ताजी सब्जियाँ और पौष्टिक मिड-डे मील के अलावा चौहान छात्रों को यूनिफॉर्म, स्टेशनरी और जूते भी मुफ्त में देते हैं। उन्हें उम्मीद है कि उनके इस प्रयास से ज्यादा से ज्यादा बच्चे शिक्षा की ओर आकर्षित होंगे और उन्हें बेहतर भविष्य बनाने का अवसर मिलेगा।

मूल लेख- SAYANTANI NATH

यह भी पढ़ें- दिल्ली: मिनटों में खुल बन सकता है बस्ती के बच्चों के लिए, बाँस से बना यह स्कूल

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by अनूप कुमार सिंह

अनूप कुमार सिंह पिछले 6 वर्षों से लेखन और अनुवाद के क्षेत्र से जुड़े हैं. स्वास्थ्य एवं लाइफस्टाइल से जुड़े मुद्दों पर ये नियमित रूप से लिखते रहें हैं. अनूप ने कानपुर विश्वविद्यालय से हिंदी साहित्य विषय में स्नातक किया है. लेखन के अलावा घूमने फिरने एवं टेक्नोलॉजी से जुड़ी नई जानकारियां हासिल करने में इन्हें दिलचस्पी है. आप इनसे anoopdreams@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं.

जंगलों से 11 लाख देसी बीज इकट्ठा कर लोगों को मुफ्त बाँट चुके हैं शिक्षक पति-पत्नी

Salute Teachers! स्मार्टफोन, इंटरनेट के अभाव में भी इन शिक्षकों ने नहीं रुकने दी शिक्षा