in , ,

कचरे से खाना खाते गरीबों को देख शुरू किया फूड बैंक, मात्र 5 रूपए में खिला रहे लज़ीज़ खाना

गुरुग्राम के सदर बाज़ार में अब कोई कूड़ेदान में फेंके गए अन्न को इकट्ठा कर खाना खाते आपको नहीं मिलेगा। सदर बाजार में कॉस्मेटिक की दुकान चलाने वाले पंकज गुप्ता की वजह से यह सब संभव हो पाया है।

devdoot food bank

रोटी इंसान की सबसे बड़ी जरुरत है। दो वक़्त की रोटी के लिए इंसान सुबह से उठकर सोचता है। किसी के पास इतना भोजन है कि वह खाने के बाद बचे अन्न को बाहर फेंक देता है तो कोई उस फेंके हुए खाने का इंतजार करता है, जिससे वह अपनी भूख शांत कर सके। ऐसे में यदि कोई भूखे जरूरतमंद को सम्मान के साथ भोजन करा दे तो वह व्यक्ति उस जरूरतमंद के लिए किसी फरिश्ते या देवदूत से कम नहीं है। आज हम आपको एक ऐसे ही व्यक्ति कहानी सुना रहे हैं जो जरूरतमंदों को भोजन करवाते हैं। यह कहानी गुरुग्राम के पंकज गुप्ता की है।

devdoot food bank
पंकज गुप्ता

गुरुग्राम के सदर बाज़ार में अब कोई कूड़ेदान में फेंके गए अन्न को इकट्ठा कर खाना खाते आपको नहीं मिलेगा। सदर बाजार में कॉस्मेटिक की दुकान चलाने वाले पंकज गुप्ता की वजह से यह सब संभव हो पाया है।

यदि कोई 5 रुपये में दाल, चावल, रोटी-सब्जी, मिठाई, फल आदि सभी भोजन सम्मान के साथ कराये तो शायद कोई भूखा नहीं रहेगा और न कचरे से खाना खायेगा।

यह है वह 5 रूपए वाली थाली

पंकज गुप्ता ने देवदूत फ़ूड बैंक संस्था की नींव रखी और अब उसी संस्था के जरिए केवल 5 रुपये की भोजन थाली मुहैया करा रहे हैं। एक वक़्त का भरपेट भोजन मात्र 5 रुपये में और यदि 5 रुपये भी नहीं तब भी आप भोजन कर सकते हैं। दिल करे तो 5 रुपये दीजिये और नहीं है तो भी भोजन करिए। देवदूत फ़ूड बैंक के माध्यम से प्रतिदिन 700-800 लोगों को भोजन करवाया जाता है।

पंकज बताते हैं, “मैं हर दिन दुकान जाते समय कचरे के ढ़ेर से बचा खाना खाते लोगों को देखता था। यह सब देखकर मेरा मन दुखी हो जाता था इसलिए मैंने ऐसे भूखे लोगों के लिए कुछ अलग करने की ठानी। परिवार ने भी मेरा  साथ दिया और निश्चय किया कि हम अपनी बचत से कुछ भाग इन लोगों की मदद पर खर्च करेंगे और प्रतिदिन 100 लोगों को भोजन कराने के संकल्प के साथ 14 अप्रैल 2018 को देवदूत फ़ूड बैंक संस्था की शुरूआत की।”

फूड बैंक चलाती टीम

पंकज बताते हैं, “जब मैंने अन्य लोगों को इस काम के बारे में बताया तो सभी ने मेरा मज़ाक बनाया। सभी ने यही कहा कि फंड की दिक्कत आएगी। लेकिन मैंने ठान लिया था कि अब हमेशा यह काम करना है।”  शुरूआत में उन्होंने कैटरिंग से  आर्डर देकर  खाना बनवाकर बाँटना प्रारम्भ किया। खाना लेने में किसी को शर्म या किसी को भीख जैसा न लगे इसके लिए उन्होंने 5 रुपये में भोजन लेने का निश्चय किया और बच्चों के लिए इसे मुफ्त कर दिया।

devdoot food bank
लाइन लगाकर खाना लगाते लोग

भोजन की क्वालिटी और सफाई की कमी महसूस होने पर पंकज गुप्ता ने कम्युनिटी किचन की शुरूआत की, जहाँ उनकी निगरानी में भोजन बनता था। धीरे-धीरे इस मुहिम में अन्य लोग भी साथ आने लगे। पंकज गुप्ता का 100 लोगों के लिए लिया गया भोजन का संकल्प आज प्रतिदिन 500 से ज्यादा लोगों तक पहुँच गया है। हर दिन 12 से 1 बजे के बीच देवदूत फ़ूड बैंक टीम निश्चित स्थान पर पहुँचकर लोगों को भोजन कराती है।

Promotion
Banner

लॉकडाउन के दौरान प्रशासन की अनुमति से पंकज गुप्ता ने 800 जरूरमंद परिवारों को गोद लिया और उनके भोजन की व्यवस्था की।

devdoot food bank
खाना मिलने के बाद कुछ ऐसे खिल उठते हैं चेहरे

अपने घर के लिए भोजन की व्यवस्था के लिए सभी चिंतित होते हैं लेकिन दूसरे की भूख का दर्द बहुत कम लोगों को समझ में आता है। एक महीने में 2 से 3 लाख रुपये खर्च पर चलने वाली देवदूत फ़ूड बैंक की किचन की सभी व्यवस्था के बारे में पंकज गुप्ता कहते हैं, “सभी व्यवस्था भगवान ही करेंगे, मैं सिर्फ काम कर रहा हूँ। कोई भूखा न रहे , कम से कम भोजन की लिए इतना मजबूर न हो की गंदगी में पड़ा खाना खाना पड़े। मेरी इच्छा है कि देश के हर हिस्से में ऐसा फ़ूड बैंक हो जहाँ लोग सम्मान से भोजन कर सकें।”

देवदूत फूड बैंक चलाने वाले पंकज गुप्ता सही अर्थ में खुद एक देवदूत हैं जो जरूरतमंद लोगों के दर्द को समझकर उनकी मदद करने के लिए लगातार काम कर रहे हैं। बेटर इंडिया उनके जज्बे को सलाम करता है।

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है तो आप पंकज गुप्ता से 9278885468 पर संपर्क कर सकते हैं।

लेखक- अमित कुमार शर्मा

यह भी पढ़ें- इलाज के लिए आने वाले 1000 से भी ज्यादा मरीजों को free में खाना बाँटता है यह छात्र

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

थाई एप्पल बेर की बागवानी ने किया कमाल, हर साल 45 लाख रुपये कमाता है यह किसान

लोगों से भरे कमरे में आखिर आप ही को क्यों काटते हैं मच्छर?