ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
उगाते हैं जड़ी बूटियों का जंगल, बाँटते हैं मुफ्त गिलोय और लेमन ग्रास से कमाते हैं लाखों

उगाते हैं जड़ी बूटियों का जंगल, बाँटते हैं मुफ्त गिलोय और लेमन ग्रास से कमाते हैं लाखों

1985 के आस-पास जब वैज्ञानिकों ने ओजोन परत के क्षरण की बात की तो चंद्रपाल सिंह ने इसे काफी गंभीरता से लिया और तभी से शुरू कर दिया औषधीय जंगल बसाने का काम।

आइए, आज हम आपकी मुलाकात एक ऐसे किसान से कराते हैं जो कवि भी हैं, जिन्होंने अपना जीवन पर्यावरण को समर्पित कर दिया है। खेती-बाड़ी के साथ वह कवि रूप में कृषि की महत्ता का भी गुणगान करते हैं।

उत्तर प्रदेश के शाहजहाँपुर स्थित जलालाबाद तहसील के गुरुगवाँ गाँव में कवि और किसान चंद्रपाल सिंह की पहचान एक ऐसे शख्स के रूप में है, जिसने पर्यावरण की रक्षा के लिए अपने दम पर सागौन के साथ ही फलदार पेड़ों और औषधीय जड़ी-बूटियों से भरा जंगल उगा डाला।

chadrapal singh
औषधीय पेड़ों के साथ चंद्रपाल सिंह

इस दौर में जब हम सभी वैश्विक महामारी कोरोना से जूझ रहे हैं, उस दौर में वह लोगों को इम्युनिटी बढ़ाने में बेहद कारगर नीम गिलोय मुफ्त में उपलब्ध करा रहे हैं। वहीं दूसरी ओर सब्जियों की खेती के साथ ही लेमन ग्रास की प्रोसेसिंग से वह सालाना लाखों की कमाई भी कर रहे हैं।

अकेले शुरुआत की, परिवार साथ आया

चंद्रपाल ने द बेटर इंडिया को बताया, “यह बात 1985 के आसपास की है। उस वक्त पर्यावरण से पृथ्वी को पहुंच रही हानि की खबरें चर्चा में थी। ओजोन परत के क्षरण को लेकर भी वैज्ञानिक बहुत चिंता जता रहे थे। इसका एक बड़ा कारण पेड़ों की अंधाधुंध कटाई भी थी। जंगल उगाने जैसा कोई लक्ष्य इस संबंध में निर्धारित नहीं किया था। लेकिन उसी समय मैंने यह तय कर लिया था कि बड़ी संख्या में पेड़ उगाने हैं। मैंने शुरुआत एक हेक्टेयर से की।”

chadrapal singh
अपने साथियों के साथ चंद्रपाल

चंद्रपाल कहते हैं कि शुरूआत में परिवार ने साथ नहीं दिया लेकिन बाद में सब संग हो गए। अब उनकी खेती की देखभाल उनके पुत्र, दो भाई,  बच्चे और उनका परिवार मिल जुलकर करता है।

नर्सरी से लाए थे सागौन के पौधे

chadrapal singh
अपने खेत में सागैन के पेड़ों के साथ जिसके चारों और है गिलोय व अन्य औषधीय पेड़

चंद्रपाल कहते हैं कि जलालाबाद में नई सरकारी नर्सरी खुली थी, वहीं से उन्होंने सागौन के पौधे लिए थे। उन्होंने कहा, “पर्यावरण की रक्षा का ध्येय मन में था, साथ ही परिवार के लाभ की भी चिंता थी। ऐसे में एक हेक्टेयर में सागौन के पौधे लगा दिए। इसके बाद नींबू, लीची, अनार, आंवला करौंदा भी लगाया। करौंदा को खेत के किनारे, जबकि गिलोय को बीच में उगाया। इसने जैविक बाड़ का काम कर फसल की रक्षा की।”

चंद्रपाल ने अपने खेत को प्रयोगशाला बना दिया है। खेत में विविध प्रजाति के पौधे हैं। उनके यहाँ आपको फलदार से लेकर औषधीय पौधे मिल जाएँगे। वह बताते हैं कि  आज खेत में सागौन के करीब ढाई सौ बड़े पेड़ हैं और इससे दुगुने छोटे पेड़। साथ ही नींबू के दस बड़े पेड़, 50 छोटे पेड़, लीची के 20 और अनार के छह पेड़ हैं।  इसके अलावा वह लौंग, पुत्रजीवा, हल्दी, जिमीकंद भी उगा रहे हैं। धान, गेहूँ, सरसों संग तोरई, ककड़ी खीरा, हरी मिर्च आदि की पैदावार भी उनके खेत में है।

 लेमन ग्रास के तेल से भी कमाई

लेमन ग्रास की खेती

चंद्रपाल कहते हैं कि एक कृषि विशेषज्ञ ने उन्हें लेमनग्रास लगाने की सलाह दी थी, जिसके बाद ही उन्होंने खेत में कुछ-कुछ दूरी पर लेमन ग्रास को रोपा। निराई, गुड़ाई के पश्चात पौध तैयार होने पर इसे काटा और प्लांट में ले जाकर तेल निकलवाया। इस तेल की बिक्री से भी उन्हें अच्छी कमाई हुई। वह विविधतापूर्ण खेती को लाभ के लिए बेहतर मॉडल मानते हैं।

 

जहरमुक्त खेती की शुरूआत

 

चंद्रपाल ने जहर मुक्त खेती की ओर भी कदम बढ़ाया है। वह 20 बीघा जमीन में खेती कर रहे है, जिसमें से अपनी दो  बीघा जमीन में उन्होंने धान, गेहूँ सरसों और आलू बोए हैं। वह इसे शून्य लागत प्राकृतिक खेती करार देते हैं। उनका कहना है लोगों में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बढ़ी है। अब धीरे धीरे वह भी इसकी ओर उन्मुख हो रहे हैं।  उनकी तैयारी अब आम की विभिन्न प्रजातियों के पौधे लगाने की है।

 

सालाना 10 लाख के आसपास है लाभ

chadrapal singh
चंद्रपाल का हरा भरा खेत

चंद्रपाल सिंह की खेती से शुद्ध आय सालाना करीब 10 लाख रुपए के आसपास हैं। उन्हें इस बात का मलाल भी है कि पढ़े-लिखे युवा डिग्री हाथ में आते ही नौकरी के लिए हाथ पैर मारने लगते हैं। उनका मानना है कि युवाओं को खेती की तरफ आना चाहिए। नियोजित तरीके से खेती की जाए तो यह मुनाफे का सौदा है। इस क्षेत्र में काम करके वह रोजगार सृजन में भी सक्षम होंगे।

प्रगतिशील किसान चंद्रपाल सिंह की मानें तो  उन्होंने ऐसे पौधे भी लगाए, जिन्हें अमूमन उगाया नहीं जाता। जैसे-भटहर। इस पौधे की खासियत यह है कि यह अन्य पौधों को कीड़े से बचाता है और फसल की सुरक्षा भी करता है। इसी तरह उन्होंने अन्य कई ऐसे पौधे उगाए, जिनकी वजह से उनकी खेती की सुरक्षा संभव हुई है।

कोरोना काल में बने लोगों के मददगार

chadrapal singh
धान की खेती के साथ चारों और औषधीय पौधे लगे हैं जो कोरोना काल में लोगों की मदद कर रहे

चंद्रपाल ने अपने खेत में अन्य औषधीय पौधों के साथ ही नीम गिलोय भी उत्पन्न किया है। कोरोना संक्रमण काल में गिलोय वटी को इम्युनिटी बढ़ाने में बेहद कारगर माना गया है। ऐसे में बड़ी संख्या में अन्य किसानों और ग्रामीणों ने उनके खेत से गिलोय का लाभ लिया। ईश्वर में अगाध आस्था रखने वाले चंद्रपाल इसे मानवता की सेवा और पुण्य का कार्य मानते हैं। वह बताते हैं कि अब उनकी तैयारियाँ सहजन, बहेड़ा, मूसली, शतावरी, अश्वगंधा, जैसे पौधों का बगीचा खड़ा करने की है। ये सारे औषधीय पौधे हैं और उनका कहना है कि ये सब लोगों के काम आने वाले हैं।

चंद्रपाल कामयाबी का सीधा और सच्चा बस एक ही मंत्र मानते हैं। उनके मुताबिक यदि कोई भी अपना काम ईमानदारी और मेहनत से करे तो उसे निश्चित रूप से सफलता मिलती है। किसान और कवि के तौर पर उनकी दिनचर्या बेहद व्यस्त रहती है। इसके बावजूद वह विश्वविद्यालयों और अन्य केंद्रों के विशेषज्ञों के संपर्क में रहते हैं, ताकि अपनी खेती को और तकनीकि संपन्न बना सकें। वह कुछ किसान संगठनों से भी जुड़े हैं, ताकि खेती संबंधी तकनीकी और जानकारी का आदान-प्रदान किया जा सके।

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है तो आप चंद्रपाल से उनके मोबाइल नंबर 9455098827 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें-हल्दी-अदरक की खेती कर 1.5 करोड़ कमाता है यह IT ग्रैजुएट, अमरीका व यूरोप में हैं ग्राहक

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

प्रवेश कुमारी

प्रवेश कुमारी मॉस कम्युनिकेशन में पोस्ट ग्रेजुएशन कर चुकीं हैं। लिखने के साथ ही उन्हें ट्रेवलिंग का भी शौक है। सकारात्मक ख़बरों को सामने लाना उन्हें सबसे ज़्यादा ज़रूरी लगता है।
Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव