in

इस कलेक्टर ने बिना किसी संकोच के अपने हाथों से किया शौचालय-गड्ढे को साफ़!

ज तक आपने खुले में शौच को लेकर या फिर मल की दस्ती सफाई को लेकर दलितों के साथ हो रहे अन्याय के बारे में पढ़ा और सुना होगा। कहने को तो भारत में शौच या मल की दस्ती सफाई प्रतिबंधित है। पर आज भी भारत के बहुत से राज्यों में खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में यह प्रचलित है और यही दस्ती सफाई प्रथा भारत में दलितों के प्रति हीन भावना और भेदभाव के मुख्य कारणों में से एक है।

लेकिन आज हम द बेटर इंडिया पर आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसा वाकया जो आपको इस बारे में सोचने पर मजबूर कर देगा कि क्या हमारे समाज को साफ़ रखने वाले यह लोग वाकई में हीन हैं या यह केवल हमारी सोच की हीएंता को दर्शाता है।

हाल ही में तेलंगाना राज्य के मेदक ज़िले में नए जिला कलेक्टर धरम रेड्डी को नियुक्त किया गया।

कलेक्टर साहब ने पुणे में आयोजित एक कार्यशाला में बिना किसी संकोच के एक शौचालय के गढ्ढे में स्वयं घुसकर जैविक खाद को अपने हाथों से निकाला।

फोटो: तेलंगाना टुडे

दरअसल स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत पुणे में हुई एक कार्यशाला जिसका उद्देशय खुला शौच मुक्त भारत की स्थिरता पर काम करना था, में अधिकारी और कर्मचारियों को अलग-अलग गुर सिखाये गए। उन्हीं में एक था मल को जैविक खाद में तब्दील करना।

Promotion

तेलंगाना टुडे अख़बार की रिपोर्ट के मुताबिक कर्मचारियों के प्रदर्शन के बाद जिला कलेक्टर ने बिना किसी संकोच के प्रक्रिया को दोहराया। धरम रेड्डी साल 2012 जत्था के आईपीएस अधिकारी हैं और मार्च, 2018 में उन्हें मेदक में नियुक्त किया गया। मेदक में अपनी नियुक्ति के कुछ समय में ही उन्होंने आम लोगों से सीधा संपर्क बनाया ताकि वे लोगों की  समस्याएं समझकर, उन्हें हल कर सकें।

यदि हमारे अधिकारी इसी सोच के साथ आगे बढे तो यक़ीनन परिस्थितियों में बदलाव आएगा। मेदक तेलंगाना का आठवां खुला शौच मुक्त जिला है। और जल्द ही, तेलंगाना भी खुला शौच मुक्त राज्यों की सूची में शामिल हो जाएगा।

(संपादन – मानबी कटोच)


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

मृत्यु : आख़िरकार है क्या?

घर की छत को बनाया खेत, थर्मोकॉल के डिब्बों में उगाये 500 से अधिक पेड़-पौधे!