in ,

मुंबई: 13वें माले के फ्लैट की बालकनी-गार्डन में तितलियाँ पाल रही हैं प्रियंका सिंह!

पिछले 9-10 सालों में प्रियंका लगभग 5000 तितलियाँ पाल चुकी हैं!

रंग-बिरंगी तितलियाँ किसे पसंद नहीं होतीं। जिसे दिखती हैं, उसका मन मोह लेती हैं। आप कहीं पार्क आदि में जाएं और कोई तितली दिख जाए तो मानो दिन ही बन गया। लेकिन अगर कोई कहे कि उनके तो घर में ही तितलियों का आना-जाना लगा रहता है तो?

यकीन नहीं होगा। लेकिन यह सच है। मुंबई की प्रियंका सिंह का फ्लैट तरह-तरह की तितलियों का ठिकाना है। वह इन्हें बंद करके नहीं रखतीं बल्कि उनके घर की बालकनी में उन्होंने अपने गार्डन को कुछ इस तरह तैयार किया है कि तितलियाँ यहाँ आती रहतीं हैं।

प्रियंका इन तितलियों के अंडे से लेकर रसपान तक का ख्याल रखतीं हैं। इनका पालन-पोषण करतीं हैं और जब ये बड़ी हो जातीं हैं तो बाहर खुले आसमान में उड़ जातीं हैं!

मूल रूप से वाराणसी की रहने वाली प्रियंका ने कभी भी नहीं सोचा था कि एक दिन वह प्रकृति के संरक्षक के तौर पर काम करेंगी और लोग उनसे तितलियों की देखभाल करना सीखेंगे। पर कहते हैं न कि किस्मत आपको कहाँ से कहाँ ले जाए, किसी को नहीं पता होता। प्रियंका ने स्कूल की पढ़ाई की, एविएशन सेक्टर में एयरहोस्टेस का कोर्स किया और फिर एमबीए किया।

साल 2008 में उनकी शादी हो गई और वह पति के साथ मुम्बई शिफ्ट हो गईं। वह बताती हैं, “शुरुआत में हम तिलक नगर चेम्बूर में रहते थे और वहां थोड़ी दूरी पर लैंडफिल था जहां से बहुत ही बदबू आती थी। उसके बारे में जानने के बाद मैंने तय कर लिया कि मुझे वेस्ट-मैनेजमेंट पर काम करने की ज़रूरत है। कम से कम मेरे घर का कचरा वहां न पहुंचे।”

Priyanka Singh

वेस्ट-मैनेजमेंट के साथ-साथ उन्होंने कम्पोस्टिंग भी शुरू कर दी। वह बताती हैं कि वह घर के जैविक कचरे से ही काफी खाद बना लेती थीं। इसलिए उन्होंने बालकनी में काफी पेड़-पौधे भी लगा लिए। भांडुप शिफ्ट करने के बाद भी उनका यह काम जारी रहा। उनका फ्लैट 13वीं मंजिल पर है और यहाँ पर उन्होंने अपने एक कमरे की खिड़की पर अच्छे पेड़-पौधे लगाए हुए हैं। एक दिन प्रियंका ने देखा कि उनके एक पेड़ की पट्टी को छोटा-सा कैटरपिलर खा रहा है। उन्होंने उसे वहां से हटाया नहीं। कुछ दिनों बाद उन्होंने देखा कि यह कैटरपिलर एक बहुत ही खूबसूरत तितली बन गया।

और बस वहीं से उनके एक नए सफ़र की शुरुआत हुई। वह अक्सर गार्डनिंग से जुड़े लोगों से अलग-अलग जीवों के बारे में पूछने लगीं। कई बार उसी हिसाब से पेड़-पौधे खरीदतीं। प्रियंका को तितलियों से इतना लगाव हो गया कि उन्होंने तितलियों के बारे में पढ़ना शुरू किया और बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी से अपने मेंटर पीटर स्मेटा चैक के मार्गदर्शन में तितलियों के बारे में 6 महीने की पढ़ाई भी की । इसके बाद में उन्होंने बटरफ्लाई साइंटिस्ट ऑफ़ इंडिया से टैक्सोनॉमी पर कोर्स किया।

उन्होंने सीखा कि तितलियाँ कुछ ही पेड़-पौधों पर रसपान के लिए आती हैं और वहीं पर उनकी प्रजनन प्रक्रिया होती है। तितली यूँ ही किसी भी पेड़ पर अपने अंडे नहीं देती बल्कि कुछ खास किस्म के पेड़ ही उन्हें चाहिए। वह बताती हैं, “पूरे संसार में लगभग 20 हज़ार किस्म की तितलियाँ हैं और उनमें से लगभग 1400 किस्म हमारे यहाँ हैं। मेरे अपने घर में फिलहाल 8 किस्म की तितलियाँ आती हैं।”

Promotion
Banner
Different Butterflies Visiting her garden

प्रियंका ने सिर्फ अपने घर में ही नहीं बल्कि सोसाइटी के आस-पास भी तितलियों के अनुकूल पेड़ लगाना शुरू किया। नियमित रूप से वह यह चेक करती हैं कि कहीं किसी तितली ने अंडे तो नहीं दिए। वह कभी भी अपने पेड़ों से उनके अंडे या फिर कैटरपिलर को नहीं हटाती हैं। उनकी कोशिश सिर्फ यही रहती है कि उनके पेड़-पौधे स्वस्थ रहें ताकि ज्यादा से ज्यादा तितलियाँ उनके यहाँ आए।

साल 2012 में उन्होंने किचन गार्डनिंग के एक इवेंट के दौरान अपना अनुभव लोगों से बांटा और तब से ही उन्हें लोग वर्कशॉप के लिए बुलाने लगे। वह स्कूल और कॉलेज में भी वर्कशॉप के लिए जाती हैं। वह कहती हैं कि सबसे पहले वह लोगों को खुद अपने घर के कचरे की ज़िम्मेदारी लेने के लिए प्रेरित करती हैं। बहुत से लोग तितली वाला गार्डन लगाना चाहते हैं तो वह उन्हें उसके तरीके भी सिखाती हैं। पर समस्या यह है कि लोग तितलियाँ देखना चाहते हैं पर कैटरपिलर उनके पेड़-पौधे खाएं, यह उन्हें गंवारा नहीं।

Her garden on Windowsill

“अगर कोई तितलियाँ चाहता है तो अपने गार्डन में नेक्टर वाले पौधे लगाएं और फिर धीरे-धीरे ऐसे पेड़-पौधे जो इनके लिए होस्ट का काम करें। लोगों को मिट्टी की गुणवत्ता भी देखनी चाहिए। इसलिए हेमशा ही मिट्टी में जैविक खाद मिलाएं और अन्य पोषक तत्वों का भी ध्यान रखें,” उन्होंने आगे कहा।

प्रियंका के मुताबिक, उन्होंने अब तक लगभग 5000 तितलियों को पाला है। वह बताती हैं कि तितलियाँ कभी भी एक जगह नहीं टिकतीं। वो उनके गार्डन में आती हैं, रसपान करती हैं और वहीं पर अपने अंडे देती हैं और चली जाती हैं। उनके अण्डों से कैटरपिलर बनते हैं और फिर नयी तितलियाँ। अगर उन्हें बढ़ने के लिए सही वातावरण न मिले तो ये अंडे नष्ट हो जाएंगे। इसलिए प्रियंका इनका पूरा ध्यान रखती हैं।

Life-cycle of a butterfly

कभी-कभी कम जगह होने से उन्हें परेशानी भी होती है लेकिन उनका जज्बा कम नहीं होता। उनकी कोशिश यही है कि ये तितलियाँ हमेशा उनके यहाँ आती रहें। “अगर हमें प्रकृति के करीब रहना है तो हमें प्रकृति का सम्मान करना होगा। अगर हम खुद अपने कचरे की ज़िम्मेदारी लेते हैं तो इससे हमें अपने गार्डन के लिए अच्छी खाद मिलेगी और हम धरती से कचरे के बोझ को कम कर पाएंगे। इससे बड़ी देशभक्ति और क्या हो सकती है,” उन्होंने अंत में कहा।

प्रियंका के इस काम में उनकी 11 साल की बेटी भी पूरा साथ देती है और वह भी प्रकृति-संरक्षण सीख रही है। अगर आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है तो आप प्रियंका सिंह से greenhope26@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं!

यह भी पढ़ें: कॉल सेंटर की नौकरी छोड़ उगाये वॉटर लिली और लोटस, शौक पूरा होने के साथ शुरू हुई कमाई!


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

मोबाइल एप बनाना सीख सकते हैं स्कूली छात्र, नीति आयोग ने शुरू किया मुफ्त ऑनलाइन कोर्स!

जानिए कैसे भागीरथ प्रयासों से सूखाग्रस्त गाँव बन गया देश का पहला ‘जलग्राम’!