in ,

चीड़ पेड़ के पत्तों से बिजली उत्पादन कर महीने के लगभग 45 हज़ार रुपये कमा रहा है यह शख्स!

शेखर बिष्ट के मुताबिक, वह हर दिन 250 यूनिट्स बिजली बना रहे हैं, जिसे वह 7.54 रुपये प्रति यूनिट की दर से उत्तराखंड पॉवर कॉर्पोरेशन लिमिटेड कंपनी को बेच रहे हैं!

ऊर्जा के क्षेत्र में पिछले कई दशकों से भारत नए-नए अवसर तलाश रहा है। सूरज, हवा और पानी जैसे प्राकृतिक संसाधनों के बाद अब वैज्ञानिक बायोमास यानी कि पेड़-पौधों और कृषि से निकलने वाले अपशिष्ट से ऊर्जा के स्त्रोत ढूंढ रहे हैं। हम सब जानते हैं कि पेड़ों के सूखे पत्तों को आसानी से जलाकर ‘हीट एनर्जी’ हमें मिल सकती है। लेकिन क्या इस ऊर्जा को बिजली में बदला जा सकता है जैसे सौर ऊर्जा और पवन ऊर्जा से संभव है? इस विषय में लगातार इनोवेशन और फिर उनमें संशोधन हो रहे हैं।

बहुत ऐसे पेड़-पौधें हैं जिनसे बिजली बनाई जा सकती है। इकोनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत बायोमास से लगभग 18, 000 मेगावाट बिजली का उत्पादन कर सकता है। इसके लिए सरकार ने योजनाएं भी शुरू की हैं। अच्छी बात यह है कि सरकार की यह पहल अब सिर्फ कागज़ों पर सिमित नहीं है बल्कि उत्तराखंड के पहाड़ों में यह पहली रंग ला रही है।

द्वारहाट के कुंथडी गाँव के रहने वाले 32 वर्षीय शेखर बिष्ट पिछले 3 सालों से चीड़ पेड़ के पत्तों से बिजली बना रहे हैं। चीड़ के पत्तों को पहाड़ों में पिरूल कहा जाता है और यह अनगिनत मात्रा में जंगलों में उपलब्ध हैं। बिष्ट के मुताबिक जंगलों में आग लगने की एक बड़ी वजह पिरूल ही है। यह बहुत जल्दी सूखते हैं और तुरंत आग पकड़ लेते हैं। पहाड़ों में लोग इन्हें बतौर ईंधन भी खूब इस्तेमाल करते हैं। और अब इन्हीं पिरूल को बिजली उत्पादन के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है।

Shekhar Bisht

शेखर बिष्ट ने दसवीं के बाद आईटीआई का कोर्स किया और फिर पॉलिटेक्निक की। पॉलिटेक्निक के बाद उन्होंने पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की। वह कहते हैं, “मैंने टाटा मोटर्स जैसे कई नामी कंपनियों में लगभग 5-6 साल तक अपनी सेवाएं दीं। लेकिन इसके साथ-साथ मेरी रूचि हमेशा ही कोई स्वरोजगार ढूंढने में रही और वह मुझे पिरूल में मिला।”

बिष्ट ने पिरूल से बिजली उत्पादन के विषय पर कई सालों तक रिसर्च की। उन्होंने पढ़ाई के दौरान ही इस पर काम शुरू किया था और इस काम में उन्हें सहयोग मिला ‘अवनि संस्था’ का। पहाड़ों के लोगों के लिए रोज़गार के अवसर ढूंढने के उद्देश्य से शुरू हुआ यह संगठन लगातार नए-नए प्रयोगों में लोगों की मदद कर रहा है। बिष्ट ने भी इसी कैंपस में अपने ट्रायल्स करके देखे। इतना ही नहीं, उन्हें अवनि संगठन की मदद से ही अपना प्लांट लगाने के लिए इन्वेस्टमेंट मिली। वह बताते हैं कि साल 2016 में उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी और अपने गाँव आ गए।

यहाँ आकर उन्होंने अपने प्लांट पर काम करना शुरू किया। अपने इस प्रोजेक्ट को उन्होंने उत्तराखंड सरकार के समक्ष भी प्रस्तुत किया और उन्हें कई डेमो प्रोजेक्ट करके दिखाए। पिरूल से बिजली उत्पादन का सफल प्रोजेक्ट देख, सरकार ने भी बिष्ट की मदद की। दरअसल, उत्तराखंड सरकार भी कई सालों से इस दिशा में काम कर रही है। साल 2017 में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने खुद एक ट्वीट के ज़रिए कहा था राज्य में वैकल्पिक ऊर्जा के लिए पिरूल से बायोफ्यूल निकालने का काम शुरू हो चुका है।

His Plant

उत्तराखंड के कुल वन क्षेत्र का 3,99,329 हेक्टेयर भाग सिर्फ चीड़ के पेड़ों का है और यहाँ पर पिरूल की काफी मात्रा है। इसलिए पिरूल से बिजली उत्पादन के सफल प्रयोगों को देखते हुए सरकार ने योजना बनाई। जो भी कंपनी पिरूल से बिजली उत्पादन के लिए पहाड़ों में प्लांट लगाएगी, उनसे वह बिजली उत्तराखंड पॉवर कारपोरेशन (सरकारी बिजली कंपनी) 7.54 रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से खरीदेगी। इसके लिए यूपीसीएल ने कंपनियों के साथ एग्रीमेंट करना भी शुरू कर दिया है।

यूपीसीएल, द्वारहाट के एसडीओ राजेंद्र बताते हैं कि पिरूल से बिजली उत्पादन एक अच्छे स्वरोज़गार के अवसर के रूप में सामने आया है। पिरूल का यह सही उपयोग पहाड़ों में पलायन को रोक सकता है क्योंकि इससे लोगों को अपने घर में ही रोज़गार मिल रहा है। साथ ही, पिरूल जंगलों में आग लगने की बड़ी वजह है जिसमें लाखों-करोड़ों की संपत्ति के साथ वन्यजीवों की भी काफी क्षति होती है।

“सरकार की योजना अनुसार ही हम शेखर बिष्ट के प्लांट से बिजली ले रहे हैं। उनका यह एक प्लांट चल रहा है और दूसरा वह सेट-आप करने में लगे हैं। उम्मीद तो यही है कि और भी कंपनियां इसके लिए आगे आएं ताकि हम बिजली उत्पादन के लिए अपने अमूल्य प्राकृतिक संसाधनों की खपत पर नियंत्रण कर सकें और साथ ही, अन्य सस्ते और आसान विकल्प खोजकर लोगों को उनके अपने गांवों में रोज़गार दें,” उन्होंने आगे कहा।

Promotion
Banner
Women Collecting Pine Leaves

बिष्ट कहते हैं कि उन्होंने द्वारहाट में अपना प्लांट सेट-अप किया और साल 2017 से बिजली उत्पादन करना शुरू किया। 28 किलोवाट ऊर्जा क्षमता वाला यह प्लांट प्रतिदिन 250 यूनिट बिजली उत्पादन कर रहा है और इस बिजली को वह यूपीसीएल को बेच रहे हैं। हर महीने लगभग 6 हज़ार यूनिट्स कंपनी को बेचीं जाती हैं और जिससे उन्हें प्रतिमाह लगभग 45 हज़ार रुपये की कमाई होती है।

साल के अप्रैल महीने से लेकर जुलाई के महीने तक पिरूल गिरते हैं। इन पत्तों को इकट्ठा करने के लिए बिष्ट ने गाँव की ही 20 महिलाओं को लगाया हुआ है। इन महिलाओं से वह 2 रुपये किलोग्राम के हिसाब से पिरूल खरीदते हैं। 4 महीने में वह लगभग 250 टन पिरूल इकट्ठा करते हैं और यह पूरे साल के बिजली उत्पादन के लिए काफी रहता है। एक यूनिट बिजली उत्पादन के लिए एक से डेढ़ किलो पिरूल खर्च होता है।

प्लांट में सबसे पहले पिरूल को जलाया जाता है और इससे निकलने वाले गैस को जनरेटर और गैसीफायर द्वारा ऊर्जा में बदला जाता है। फिर इस ऊर्जा को पैनल और ग्रिड्स के ज़रिए बिजली में परिवर्तित कर यूपीसीएल को दिया जाता है। बिष्ट के प्लांट में गाँव के 4 युवक काम करते हैं और उन्हें भी अच्छा रोज़गार मिला हुआ है।

इस तरह से पिरूल कमाई और रोज़गार, दोनों का अच्छा विकल्प साबित हो रहा है। उत्तराखंड सरकार अपनी इस पॉलिसी के अंतर्गत, साल 2030 तक 100 मेगावाट बिजली उत्पादन का लक्ष्य रख रही है। शेखर बिष्ट जैसे काबिल नागरिकों के चलते यह लक्ष्य साकार होता भी दिखता है।

अगर आप शेखर बिष्ट से संपर्क करना चाहते हैं तो आप उन्हें 8057506070 पर मैसेज कर सकते हैं!

यह भी पढ़ें: किसान का आविष्कार: चंपा के बीज से बनाया तेल, उसी से चलाते हैं मोटर!


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

जहाँ बिजली भी नहीं पहुँचती, वहाँ आदिवासी भाषाओं में जानकारी पहुँचाते हैं ये पत्रकार!

छत्तीसगढ़: ‘जल स्टार’ वीरेंद्र सिंह के अभियानों से एक नदी, 2 कुंड और 35 तालाब हुए स्वच्छ!