in ,

अमृतांजन बाम: देशवासियों के लिए एक स्वतंत्रता सेनानी का स्वदेशी उपहार!

ऐसा कहा जाता है कि शतरंज के महान खिलाड़ी, बॉबी फिशर ने एक बार विश्वनाथन आनंद से अमृतांजन बाम लाने के लिए कहा था। उन्होंने बताया था कि आइसलैंड में उन्हें ये बाम नहीं मिलता है।

Story behind Amrutanjan Balm

‘अमृतांजन बाम’, 1980 या 1990 के दशक में भारत में बड़े होने वाले बच्चों के यह उनकी ज़िन्दगी का एक ज़रूरी हिस्सा है। उस समय यह बाम शायद हर घर में पाया जाता था। पीले रंग की छोटी सी शीशी में एक जादुई सा मलहम होता था जिसे लगाते ही सिर दर्द और बदन दर्द से मुक्ति मिल जाती थी। मुझे हमेशा लगता था कि दर्द वाले बाम का मराठी नाम अमृतांजन है क्योंकि मेरी दादी को जब भी सिर दर्द होता था वह यही बाम माँगती थीं।

क्या आप जानते हैं कि दर्द से मुक्ति दिलाने वाले इस बाम को, काशीनाधुनी नागेश्वर राव नामक एक स्वतंत्रता सेनानी, पत्रकार और सामाज सुधारक द्वारा डिजाइन किया गया था?

इन्हें नागेश्वर राव पंतुलु के नाम से भी जाना जाता है। क्या आप जानते हैं कि बाम बनाने के अलावा इन्होंने महात्मा गांधी के साथ सविनय अवज्ञा आंदोलन में भी भाग लिया था और आंध्र प्रदेश के गठन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी?

एक स्वतंत्रता सेनानी ने बनाया था अमृतांजन बाम

Story behind Amrutanjan Balm
अमृतांजन कैंपेन 1962 source

राव का जन्म आंध्र प्रदेश के कृष्णा जिले में 1867 में हुआ था। अपने गृहनगर से प्राथमिक शिक्षा और मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज से ग्रैजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के बाद, दवा बनाने वाले व्यवसाय के साथ काम करने के लिए राव कलकत्ता (अब कोलकाता) चले गए। यहाँ उन्होंने दवा बनाने की मूल बातें सीखी। 

इसके बाद, वह एक यूरोपीय फर्म, विलियम एंड कंपनी के लिए काम करने के लिए मुंबई चले गए जहाँ उन्होंने एक के बाद एक तरक्की की सीढ़ियाँ चढीं और जल्द ही मालिक भी बन गए। 

हालाँकि, वह खुद अपना कुछ शुरू करना चाहते थे और शायद उनकी राष्ट्रवादी मान्यताओं ने इसमें एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वह तेलुगु में पुनर्जागरण आंदोलन के जनक, कंदुकुरी वीरसलिंगम पंतुलु से काफी प्रभावित थे।

कलकत्ता में किए गए अपने काम से अनुभव लेते हुए, राव ने एक मजबूत महक वाला, पीला एनाल्जेसिक बाम तैयार किया और बड़े पैमाने पर इसका निर्माण करने के लिए 1893 में मुंबई में एक कंपनी की स्थापना की।

हर व्यवसाय के शुरुआती चरण बहुत कठिन होते हैं। नागेश्वर राव के लिए भी था। उन्होंने अपने ब्रांड को लोकप्रिय बनाने के लिए संगीत समारोहों में यह बाम मुफ्त में बांटा!

(यह रणनीति हमारे कई पसंदीदा ब्रांडों के लिए काफी सफल रही है। करसनभाई पटेल ने वाशिंग पाउडर ‘निरमा’ को लोकप्रिय बनाने के लिए इसी अभियान का इस्तेमाल किया था।)

जल्द ही नागेश्वर राव के कारोबार में तेजी आई। हालाँकि बाम की कीमत शुरुआती दिनों में महज दस आना थी, अमृतांजन ने आंध्र प्रदेश के व्यापारी को करोड़पति बना दिया।

आंध्र प्रदेश का विचार:

Promotion
Banner
Story behind Amrutanjan Balm
काशीनाधुनी नागेश्वर राव source

जब व्यवसाय अच्छी तरह चल रहा था, तब राव ने इस प्रभाव का उपयोग भी किया और सामाजिक सुधारों को अंजाम तक पहुंचाया। उन्होंने महसूस किया कि तेलुगु लोगों के लिए एक अलग राज्य की आवश्यकता है। उन्होंने मुंबई में, जहाँ अमृतांजन लिमिटेड कंपनी थी, तेलुगु भाषी जनता के लिए काम करना शुरू किया। इसके बाद, उन्होंने आंध्र पत्रिका नामक एक साप्ताहिक पत्रिका भी शुरू की।

पाँच वर्षों में, यह पत्रिका बहुत लोकप्रिय हो गई और राव ने इसे 1936 में मद्रास (चेन्नई) स्थानांतरित करने का फैसला किया, जहाँ वह एक बड़ी तेलुगु आबादी तक पहुँच सकते थे। उनकी पत्रिका यहाँ एक दैनिक बन गई और उन्होंने मद्रास प्रेसीडेंसी से आंध्र राज्य को अलग करने के पक्ष में कई लेख लिखे।

बाद के वर्षों में, अपनी मांग के साथ राव मजबूती से सामने आए और जल्द की इनका नाम आंध्र आंदोलन के संस्थापकों में शामिल हुआ। इस आंदोलन को तेलुगु बोलने वालों से बहुत अधिक समर्थन मिला और प्रयासों को व्यवस्थित करने के लिए एक आधिकारिक समिति बनाई गई थी।

1924 से 1934 तक राव ने आंध्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के रूप में काम किया। इस आंदोलन में उनके निरंतर प्रयासों, स्वतंत्रता संग्राम में उनकी भागीदारी और उनके राष्ट्रवादी लेखों के कारण उन्हें ‘देसोद्धारका’ (यानी जनता का उत्थान करने वाला) नाम दिया गया। नवंबर 1937 में, उनके घर पर ही तेलुगु नेताओं ने आंध्र राज्य के लिए एक कार्य योजना तैयार करने के लिए एक बैठक आयोजित की थी।

हालाँकि, विश्व युद्ध और भारत के स्वतंत्रता के बाद के संघर्षों के कारण आंध्र को अलग राज्य बनाने का मुद्दा थोड़ी देर के लिए शांत पड़ गया और बाद में 19 दिसंबर, 1952 को औपचारिक रूप से इसकी अलग राज्य होने की घोषणा की गई। 

दुर्भाग्यवश, अपने घर में तेलुगु नेताओं की बैठक की अध्यक्षता करने के पांच महीने बाद, 11 अप्रैल 1938 को राव का निधन हो गया और वह अपने सपने को पूरा होते हुए नहीं देख पाए। हालाँकि, उनके विचार, उनका पब्लिकेशन हाउस और उनके द्वारा बनाई गई लाइब्रेरी और भारत का सबसे लोकप्रिय पेन बाम, अमृतांजन, उनकी विरासत के रूप में आज भी हमारे साथ है।

मूल लेख- TANVI PATEL

यह भी पढ़ें- गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकार्ड्स में शामिल है सुनील दत्त की ‘यादें’!

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999
mm

Written by पूजा दास

पूजा दास पिछले दस वर्षों से मीडिया से जुड़ी हैं। स्वास्थ्य और फैशन से जुड़े मुद्दों पर नियमित तौर पर लिखती रही हैं। पूजा ने माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है और नेकवर्क 18 के हिंदी चैनल, आईबीएन7, प्रज्ञा टीवी, इंडियास्पेंड.कॉम में सक्रिय योगदान दिया है। लेखन के अलावा पूजा की दिलचस्पी यात्रा करने और खाना बनाने में है।

chennai 200 year old library

चेन्नई जाएं तो 200 साल पुरानी इस लाइब्रेरी को जरूर देखें जहाँ आया करते थे सुभाष चंद्र बोस!

kota dm

छात्र डिप्रेशन में न जाएँ इसलिए कोटा डीएम ने उठाया इतना बड़ा जोखिम!