in , ,

पिता ने चाय बेचकर पढ़ाया, बेटे ने बिना कोचिंग के पास की UPSC की परीक्षा!

“मैं अपनी जड़ों को कभी नहीं भूलूंगा, और यही मेरी सबसे बड़ी ताकत है।”

Tea seller son topper IAS

देशल दान ने बचपन से एक ही सपना देखा था। वह आईएएस बनना चाहते थे। 2017 में देशल के बचपन का सपना पूरा हुआ जब पहले ही प्रयास में उन्होंने न केवल यूपीएससी की परीक्षा पास की बल्कि परीक्षा में टॉप स्थान प्राप्त किया। देशल की खुशी की सीमा नहीं थी। देशल के साथ एक और खास बात ये है कि उन्होंने यह परीक्षा बिना किसी औपचारिक ट्रेनिंग के पास की है।

देशल मूल रूप से जैसलमेर के सुमलाई गाँव के रहने वाले हैं। उनके पिता कुशालदान चरण एक चाय की दुकान चलाते हैं। शुरू से ही उनके परिवार की माली हालत ठीक नहीं थी और उन्होंने आर्थिक रूप से काफी ज़्यादा परेशानियों का सामना किया है। 

देशल आईआईआईटी-जबलपुर से बीटेक ग्रैजुएट हैं। अपने परिवार और सात भाई-बहनों में से वह ऐसे दूसरे शख्स हैं जो शिक्षित हैं। 

Tean seller son topper IAS
देशल दान

द बेटर इंडिया के साथ इस एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में, देशल ने परीक्षा में बैठने की वजह और प्रेरणा के बारे में बात की। वह बताते हैं कि एक चाय की दुकान चलाने वाले के बेटे से यूपीएससी टॉपर बनने के पीछे एक कहानी है। एक व्यक्तिगत नुकसान से इस यात्रा की शुरूआत हुई। घटना से हताश होने की बजाय वह और मजबूत बने और आईएएस बनने का सपना देखना शुरू किया।

देशल ने सिविल सेवा क्यों चुना?

इस सवाल के जवाब में देशल अपने जीवन की एक घटना के बारे में बताते हैं, जिसने उन्हें बदला भी और मजबूत भी बनाया। वह कहते हैं, “मेरे बड़े भाई ने लगभग आठ वर्षों तक भारतीय नौसेना में सेवा की। वह आईएनएस सिंधुरक्षक पनडुब्बी में तैनात थे। दुर्भाग्य से पनडुब्बी में हुई एक दुर्घटना में मेरे भाई की जान चली गई।”

जब यह घटना हुई तब देशल 10 वीं कक्षा में थे। वह कहते हैं, “मैंने भारतीय नौसेना के बारे में उनसे कई कहानियाँ सुनीं थी।”

“वह अपने काम के बारे में बहुत बातें करते थे मुझसे अक्सर कहते थे कि सशस्त्र बल या प्रशासनिक सेवा में शामिल हो जाओ। ”

Tea seller son topper IAS
सफलता के लिए जूनून

अपने भाई से प्रेरित होकर, देशल ने सिविल सेवा परीक्षा में बैठने का फैसला किया। वह कहते हैं, “मैं एक प्रयास करना चाहता था और परिणाम को लेकर बहुत ज़्यादा चिंतित नहीं था।”

चाय-स्टॉल मालिक का बेटा

अपने परिवार और मामूली साधनों के बारे में बात करते हुए, वह कहते है, “मेरे परिवार के पास जमीन थी, लेकिन हम इसके साथ ज़्यादा कुछ नहीं कर सकते थे। शायद ही ऐसी कोई महत्वपूर्ण चीज़ इस पर उगाई जा सकती थी।”

वह बताते हैं, “इस कारण पिता ने मेरे जन्म से पहले ही वर्ष 1989 में एक चाय की दुकान शुरू कर दी थी। ज़मीन पर साल में एक या दो फसल हो जाती थी और चाय की दुकान से मिलने वाली आय से ही घर चलता था। मेरे बड़े भाई ने भी, पिता के साथ चाय की दुकान पर जाना शुरू कर दिया था, लेकिन मैं हमेशा जानता था कि मुझे ज़्यादा चाहिए।”

वह आगे बताते हैं,  “मेरे माता-पिता में से कोई भी शिक्षित नहीं हैं, और यहां तक कि मेरे सबसे बड़े भाई भी शिक्षित नहीं हैं और बहुत कम उम्र से उन्होंने काम करना शुरू कर दिया।”

“केवल मैंने और मेरे छोटे भाई ने शिक्षा पूरी की है।”

Promotion
Banner
Tean seller son topper IAS
भारत दर्शन के दौरान की एक तस्वीर

जब उनसे हमने पूछा कि उनकी उपलब्धि पर उनके परिवार की कैसी प्रतिक्रिया है  तो वह बेहद ईमानदारी के साथ कहते हैं, ”जबकि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं है कि मैं क्या हासिल करने में कामयाब रहा हूं, लेकिन उन्हें मुझ पर गर्व है और जब दूसरों को मुझे सम्मान देते हुए देखते हैं तो उन्हें बेहद खुशी होती है।”

देशल के पिता का मानना था कि आईएएस अधिकारी बनना उन लोगों की पहुंच से बाहर होने जैसा है। देशल बताते हैं, “वह अक्सर मुझसे कहते थे कि मैं जो बनना चाहता था वह मेरी पहुंच से परे है। वह मुझसे अक्सर यह भी पूछते थे कि जो चीज़ पाई नहीं जा सकती उसके लिए मैं इतनी कड़ी मेहनत क्यों कर रहा हूं।”

यह देशल का जुनून और दृढ़ संकल्प था जिसके कारण वह अपने सपने को साकार कर पाए। वह कहते हैं, “अगर मुझे खुद पर यकीन नहीं होता, तो मैं अपने गांव में खेती औऱ दूसरे काम कर रहा होता।”

आईएएस अधिकारी बनने के बाद…

वह कहते हैं, “मैं अपनी जड़ों को कभी नहीं भूलूंगा, और यही मेरी सबसे बड़ी ताकत है। मैंने संघर्ष देखा भी है और मुझे अनुभव भी है और मैं यह कह सकता हूं कि मुझे समझ में आ गया है कि क्या किया जाना चाहिए। खुद को बहुत बड़ा समझने से अहंकार आने लगता है, जिससे मैं हमेशा दूर रहने का प्रयास करूंगा।”

Tean seller son topper IAS
इंस्टिट्यूट के दौरान खींची गईतस्वीर

देशल का कहना है कि अधिकारियों का खुद को जनता के लिए उपलब्ध कराना सबसे महत्वपूर्ण है।

लोगों की आईएएस अधिकारी तक पहुंच होनी चाहिए और उनकी समस्याओं का समाधान निकलना चाहिए। ये ऐसे गुण हैं जो एक अधिकारी को अलग बनाते हैं।

उन्होंने कहा, “हमें यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि हम ‘सिविल सेवक’ हैं और पहले लोगों की सेवा करने के लिए यहां आते हैं।

देशल को हम द बेटर इंडिया की तरफ शुभकामनाएँ देते हैं और आशा करते हैं कि वह अपने सिद्धांतों को बनाए रखेंगे।

मूल लेख-VIDYA RAJA 

यह भी पढ़ें- ज़िन्दगी की पाठशाला: न कोई कोर्स, न सिलेबस, गाँव के कारीगर और किसान हैं शिक्षक!

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999
mm

Written by पूजा दास

पूजा दास पिछले दस वर्षों से मीडिया से जुड़ी हैं। स्वास्थ्य और फैशन से जुड़े मुद्दों पर नियमित तौर पर लिखती रही हैं। पूजा ने माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है और नेकवर्क 18 के हिंदी चैनल, आईबीएन7, प्रज्ञा टीवी, इंडियास्पेंड.कॉम में सक्रिय योगदान दिया है। लेखन के अलावा पूजा की दिलचस्पी यात्रा करने और खाना बनाने में है।

गाँव के खाली खेतों को देख छोड़ी IT की नौकरी, हल्दी की खेती कर लाखों में हुई कमाई!

वैश्विक महामारी पार्ट 3: कहाँ से हुई थी क्‍वारंटाइन की शुरुआत?