ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
5 दिन की बच्ची को लेकर शहीद पति के अंतिम संस्कार में पहुंची मेजर कुमुद डोगरा को सलाम

5 दिन की बच्ची को लेकर शहीद पति के अंतिम संस्कार में पहुंची मेजर कुमुद डोगरा को सलाम

15 फरवरी को असम के माजुली आयलैंड में भारतीय सेना का माइक्रोलाइट हेलीकॉप्टर क्रैश हो गया था। इसमें सवार दोनों ही पायलटों की मौत हो गई थी। हेलीकॉप्टर ने असम के जोरहट्ट से उड़ान भरी थी और उसे सामान लेकर अरूणाचल प्रदेश पहुंचना था। लेकिन उससे पहले ही माजुली आयलैंड में ये हादसा हो गया। मरने वाले दो पायलटों में से एक थे विंग कमांडर जयपाल जेम्स और दुसरे थे विंग कमांडर दुष्यंत वत्स।

तस्वीर में दिख रही मेजर कुमुद डोगरा, शहीद विंग कमांडर दुष्यंत वत्स की पत्नी हैं।

Major Kumud Dogra

photo source – facebook

इस तस्वीर में मेजर कुमुद अपनी आर्मी यूनिफॉर्म में दिख रही हैं। साथ ही उनकी गोद में उनकी पांच दिन की बच्ची है। पांच दिन की बच्ची को गोद में लिए मेजर कुमुद अपने शहीद पति के अंतिम संस्कार में जा रही है।

हम अक्सर सरहद पर हमारी रक्षा करतें जवानों की हिम्मत की दाद देते हैं। उनके शौर्य की गाथाएं इतिहास में लिखी जाती हैं। पर हमारी सलामी के जितने हक़दार हमारे जवान हैं, उनते ही उन्हें गर्व से ख़ुशी-ख़ुशी देश पर कुर्बान कर देने वाले उनके घर के सदस्य भी हैं।

शहीद विंग कमांडर दुष्यंत वत्स का नाम तो इतिहास में हमेशा अमर रहेगा ही साथ ही उनकी पत्नी के इस जज़्बे को भी लोग कभी नहीं भुला पाएंगे! देश की ऐसी वीरांगनाओं को हमारा सलाम!

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें contact@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter (@thebetterindia) पर संपर्क करे।

मानबी कटोच

मानबी बच्चर कटोच एक पूर्व अभियंता है तथा विप्रो और फ्रांकफिंन जैसी कंपनियो के साथ काम कर चुकी है. मानबी को बचपन से ही लिखने का शौक था और अब ये शौक ही उनका जीवन बन गया है. मानबी के निजी ब्लॉग्स पढ़ने के लिए उन्हे ट्विटर पर फॉलो करे @manabi5
Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव