in , ,

मुंबई: 10,000 किसानों के 300 से ज्यादा जैविक उत्पाद सीधे बाज़ार तक पहुंचा रही है यह युवती

मुंबई की उद्यमी कहती है, “मेरा अंतिम लक्ष्य छोटे पैमाने के किसान समुदायों को सशक्त बनाना है। मैं उन्हें आत्मनिर्भर बनाने में मदद करना चाहती हूं।” #FarmersFirst #WomenEntrepreneurs

मुंबई की उद्यमी रूचि जैन एक ऐसे परिवार में पली-बढ़ी, जो ताजा उपज खाने में विश्वास रखते थे। उन्होंने बचपन से ही देखा था कि कैसे उनकी माँ प्लेट में परोसे जाने वाले खाने का ध्यान रखती थी। 33 वर्षीय रूचि ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से एन्वाइरन्मन्ट चेंज एंड मैनेजमेंट में मास्टर्स की डिग्री हासिल की है।

वह कहती हैं, “हम जो खाना खाते थे, उस बारे में मेरी माँ विशेष ध्यान रखती थी। उनका ध्यान हमेशा ताजा और जैविक उत्पाद पर होता था, जिसे हम घर पर उगाते थे। दरअसल, हमारे पास घर पर ही एक वन है जहां मोरिंगा, आंवला, अमरूद, शहतूत जैसे पेड़ हैं।”

अपने मास्टर्स की पढ़ाई के दौरान रूचि ने विश्व बैंक प्रोजेक्ट के साथ काम किया और उन्हें पूरे भारत में ग्रामीण परिदृश्य को जानने का मौका मिला। इससे उन्हें पर्यावरण के मुद्दों और भारतीय किसानों की दुर्दशा पर समझ विकसित करने में मदद मिली।

Mumbai Woman Organic Startup
Ruchi with farmers from Assam from whom she sources different varieties or rice.

प्रकृति के लिए यह ज्ञान और श्रद्धा और भारत के किसानों के प्रयासों के प्रति संवेदनशीलता से यह स्टार्ट-अप शुरू किया गया और अब 14 से ज्यादा राज्यों के 10,000 से अधिक किसानों को इससे लाभ मिल रहा है।

2016 में, तरु नेचुरल्स ने नाम से रूचि ने स्टार्ट-अप शुरू किया। यह स्टार्टअप महाराष्ट्र, कर्नाटक, असम, केरल, और उत्तराखंड के किसानों से हल्दी, गुड़, चावल, दालों जैसे जैविक उत्पाद लेकर बेचता है। यह किसानों को बाजार से संपर्क स्थापित करने और आय की एक स्थिर धारा सुनिश्चित करने में मदद करता है।

स्टार्ट -अप ने एक वर्ष में 50 टन से अधिक जैविक उत्पादन बेचा है। इतना ही नहीं, उनके प्लेटफॉर्म पर 300 से अधिक विभिन्न प्रकार के उत्पाद हैं और ग्राहकों को आपूर्ति करने के अलावा, वे थोक ऑर्डर भी लेते हैं और देश भर में 70 से अधिक रेस्तरां और कैफे को सामान बेचते हैं!

Mumbai Woman Organic Startup
A few products sold by Taru Naturals based in Mumbai.

दरअसल, महिला दिवस ( 8 मार्च) को इस युवा महिला उद्यमी की कड़ी मेहनत का उल्लेख नीति आयोग द्वारा बनाई गई 15 महिलाओं की उस सूची में है, जिन्होंने भारत को बदलने में अहम भूमिका निभाई है। रूचि की एक और उपलब्धि 2019 में कॉन्डे नास्ट ब्रांड ऑफ द ईयर अवार्ड अपने नाम करना है।

रूचि कहती हैं, “मैं जागरूकता पैदा करना चाहती थी और लोगों को हमारी भूमि पर मौजूद अद्भुत सामग्रियों को स्वीकार करने में मदद करना चाहती थी। साथ ही, मैं जमीनी स्तर पर भी काम करना चाहती थी और परिवर्तन लाने के लिए किसानों को सशक्त बनाने के अलावा कोई और बेहतर तरीका नहीं था क्योंकि मुझे सच में विश्वास है कि हमारे देश में पहले उद्यमी किसान ही हैं। ”

जमीनी स्तर पर लोगों के जीवन में बदलाव लाने के लिए यह जुनून और खेती और भोजन में उनकी गहरी दिलचस्पी के बावजूद, ये वो रास्ता नहीं था जिसके बारे में रूचि ने पहले सोचा था।

Ruchi with her mom Dr. Poonam Jain (who is the co-founder) and a farmer

उन्होंने 2008 में सेंट जेवियर्स कॉलेज, मुंबई से राजनीति विज्ञान में अपनी ग्रैजुएशन की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद वह भारतीय युवा जलवायु नेटवर्क (IYCN) में शामिल हो गईं, जहां उन्होंने दो साल तक काम किया। अपने पर्यावरण ज्ञान को आगे बढ़ाने की इच्छा के साथ, उन्होंने 2010 में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से एन्वाइरन्मन्ट चेंज एंड मैनेजमेंट में मास्टर्स की डिग्री हासिल की है।

इसके तुरंत बाद, वह विश्व बैंक प्रोजेक्ट में शामिल हो गईं, जहां ऑफ-ग्रिड अक्षय ऊर्जा समाधानों की मापनीयता के लिए विभिन्न व्यवसाय मॉडल का परीक्षण किया जा रहा था। यह वह समय था जब उन्होंने असम, उत्तराखंड और महाराष्ट्र जैसे राज्यों की यात्रा की।

हालांकि, वो हाशिए पर रहने वाले लोगों की मदद के लिए सिविल सेवा में करियर बनाने पर विचार कर रही थी लेकिन अक्टूबर 2014 में अपनी नौकरी छोड़ने का फैसला किया और अपने उद्यम के माध्यम से लक्ष्य हासिल करने का फैसला किया।

सफलता से पहले असफलता से सामना

रूचि के सामने कई विकल्प थे और पूरे भारत में किसानों से मिलने वाले जैविक खाद्यान्नों, मसालों और तेलों को बेचने का फैसला लेने से पहले रूचि ने उन सभी विकल्पों को आजमाया।

पहले, वह फ्रीलांसिंग कर रही थी और महिलाओं के उद्यमशीलता, अक्षय ऊर्जा जैसे विषयों पर परामर्श सेवाएं प्रदान कर रही थी। उन्होंने देश के गांवों में यात्रा जारी रखी कि और समझने की कोशिश की कि उन्हें किन विषय पर फोकस करना है।

रूचि बताती हैं, “सबसे पहले, मैंने देखा कि ग्रामीण घरों में बहुत सी महिलाओं को खाना बनाने के स्टोव भी नहीं था और वे चूल्हों का इस्तेमाल करती थीं। इसलिए, मुझे लगा कि मैं स्वच्छ कुकिंग स्टोव उपलब्ध कराने पर काम कर सकती हूं। लेकिन मुझे जल्द ही पता चला कि यह नकदी प्रवाह के लिए सबसे अच्छा विचार नहीं है और जब ग्रामीण क्षेत्र में एलपीजी कनेक्शन बढ़ रहे हैं, तो इसका कोई मतलब नहीं था। इसलिए, मैंने यह विचार छोड़ दिया।”

इसके बाद, उन्होंने सोचा कि वह एक माइक्रोफाइनेंस स्टार्टअप पर काम करेंगी या एक ऐसी कंपनी शुरू करेगी जो सोलर लाइटिंग सिस्टम जैसे काम करती है।

वह आगे कहती हैं, “लेकिन, मुझे अभी पता नहीं था कि इस बारे में आगे कैसे बढ़ना है। एक बिंदु पर, मैं वास्तव में सोचने लगी थी कि मैं अपने जीवन के साथ क्या कर रही हूं।” लेकिन, रूचि के खेत के दौरे नहीं रुके और यह एक नई शुरुआत थी। उन्होंने सतारा में फलटन का दौरा करने और वहाँ के किसानों से बात की। यहीं पर उसे एहसास हुआ कि किसानों को बाज़ार की जुड़ी ज़रूरतों के बारे में उन्हें पता था और वह उनके काम आ सकती थी।

Different varieties of rice sourced from North- East India.

रूचि ने पहले गुड़ बेचने का प्रयोग करके यह देखने का फैसला किया कि उत्पाद पर लोगों की क्या प्रतिक्रिया आती है। 2,000 रुपए के साथ उन्होंने 20 किलोग्राम गुड़ खरीदा जो उसने घर पर पैक किया और व्हाट्सएप के माध्यम से अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को बेच दिया।

एक हफ्ते के भीतर, सब कुछ बिक गया और इसने उसे इस विचार को और आगे बढ़ाने के लिए प्रेरित किया। उसने धीरे-धीरे दाल, चावल, अटा, बाजरा जैसी अधिक उपज की खरीद शुरू की और 2015 की शुरुआत में मेलों आदि में इसे बेचना शुरू कर दिया।

रूचि बताती हैं, “यह सफल रहा और तीन दिनों में सभी उत्पाद बिक गए। इससे मेरा आत्मविश्वास बढ़ा और मुझे लगा जैसे मैं सही दिशा की ओर बढ़ रही हूं। ”

उन्होंने हल्दी और गुड़ जैसे कुछ उत्पादों पर ध्यान केंद्रित करने का फैसला किया। गुड़ का पाउडर बनाया गया था और कैफे और रेस्तरां में बेचने के लिए पाउच में पैक किया गया था। धीरे-धीरे, उसने आम, अंगूर, अनार, और विभिन्न प्रकार की सब्जियां जैसे ताजे उत्पाद बेचना शुरू कर दिया।

Buckwheat pancakes made by a customer who has tried their products

रूचि के पास स्टाफ की कमी थी और बी 2 सी मॉडल का संचालन कर रही थी, इसलिए ऑपरेशन का प्रबंधन करना उसके लिए मुश्किल हो गया।

उन्होंने कहा, “मुझे खुद रेलवे स्टेशन जाना पड़ता था और किसानों द्वारा भेजे जाने वाले नए उत्पाद को उठाना पड़ता था। यहां तक कि डिलिवर भी मैं ही कर रही थी, यह मेरे लिए वास्तव में बहुत मुश्किल हो रहा था। तब मुझे लगा कि जब आप सीमित संसाधनों वाली एक छोटी कंपनी हैं, तो आप थोक में उत्पाद नहीं बेच सकते हैं। ”

एक समय ऐसा भी था, जब उन्होंने महसूस किया कि वह पूरी तरह से व्यवसाय छोड़ना चाहती थी।
लेकिन, उसने एक कदम पीछे लेने का फैसला किया और शोधकर्ता और किसान डॉ. प्रभाकर राव से मार्गदर्शन मांगा, जिनसे वह आर्ट ऑफ लिविंग फाउंडेशन के माध्यम से मिली थी।

रूचि ने ब्रेक लिया और जब तरु का संचालन उनकी बहन कर रही थी। उन्होंने छह महीने आर्ट ऑफ लिविंग में बिताया और साथ ही डॉ प्रभाकर मार्गदर्शन भी पाया कि खाने को कैसे उगाया जाता है और यह भी जानने की कोशिश की कि वहां से लौटने के बाद वह अपने व्यवसाय को आगे कैसे बढ़ाएंगी।

नए सिरे से फोकस और उसकी कंपनी को फिर से बनाना

लौटने पर, उसने ताजे उत्पादों की बिक्री को पूरी तरह से बंद करने का फैसला किया और सूखे उत्पादों या उत्पादों को बेचने पर अधिक ध्यान केंद्रित किया जहां मूल्यवर्धन संभव था। उसने पश्चिम बंगाल से शहद के साथ-साथ असम से कई किस्म के चावल, जम्मू और कश्मीर से मशरूम, और केसर, केरल से मसाले, नारियल का दूध, और तेल के साथ-साथ गेहूं की 10 विभिन्न किस्मों की सोर्सिंग शुरू की।

View this post on Instagram

A post shared by TARU Naturals (@tarunaturals) on

उन्होंने जिन प्रमुख सामग्रियों को बेचना शुरू किया, उनमें से एक असम से उच्च गुणवत्ता वाला काला चावल था और यह उद्यमी के लिए एक बड़ा गेम-चेंजर था।

Promotion
Banner

उन्होंने बताया, ” हम मॉकिंगबर्ड कैफे बार में यह चावल भेज रहे थे। लंदन में स्थित एक मिशेलिन स्टार रेस्टोररेटर, कैमेलिया पंजाबी ने इस अनाज से बना एक व्यंजन चखा। वह जल्द ही हमारे संपर्क में आ गई और 500 किलोग्राम काले चावल का ऑर्डर दिया! उस शिपमेंट की तैयारी ने मुझे उचित गुणवत्ता जांच सुनिश्चित करने के बारे में बहुत कुछ सिखाया और मुझे इस ऑर्डर को बंद करने में तीन महीने लग गए। ”

उसके बाद तरु नैचुरल्स ने पीछे मुड़ कर नहीं देखा। उन्होंने न केवल उन्होंने अपने उत्पादों की श्रेणी को जोड़ा, बल्कि उन्होंने मुंबई के ताज पैलेस सहित 70 से अधिक कैफे और रेस्तरां को भी आपूर्ति शुरू कर दी।

इसी समय, वे ऑनलाइन ऑर्डर की भी आपूर्ति कर रहे थे और उन्होंने अपने लॉजिस्टिक्स को ठीक किया और कुल 11 लोगों की एक टीम बनाई, जिन्होंने ऑपरेशन के विभिन्न पहलुओं को प्रबंधित करने में मदद की। तकनीक के मोर्चे पर, उन्होंने एक उचित वेबसाइट और फिक्स्ड पेमेंट गेटवे स्थापित किए, जिससे उन्हें अपने ऑर्डर को कुशलतापूर्वक प्रबंधित करने में मदद मिली।

Ruchi and her mother while receiving the Conde Nast award

धीरे-धीरे, उन्होंने मूल्य वर्धित उत्पादों के लिए एक छोटी उत्पादन इकाई स्थापित की। उन्होंने पाउच में गुड़ पाउडर की पैकेजिंग जारी रखी और हल्दी के लैट्टे, मूंग की दाल का छिलका, और पैनकेक मिक्स बनाया जो ग्लूटेन मुक्त होता है और इसमें बाजरा जैसे स्वस्थ तत्व होते हैं।

इतना ही नहीं, 2019 तक, विदेशों से भी कई ऑर्डर मिलने लगे। उन्होंने एक साल में अमेरिका को छह टन हल्दी का निर्यात करना शुरू कर दिया! उन्होंने अपने पैनकेक मिक्स और हल्दी लेट्टे दुबई में निर्यात करना शुरू कर दिया।

प्रभाव और आगे बढ़ना

यह रास्ता रूचि के लिए एक आसान नहीं रहा है, लेकिन दृढ़ता और ध्यान के साथ, वह शुरुआती चुनौतियों को पार करने में सक्षम थी जिसने निर्बाध संचालन का मार्ग दिखाया। हालांकि, इन सभी में, किसान हैं, जिन्हें बहुत फायदा हुआ है।

जैसे 34 वर्षीय मल्लिकार्जुन सुरेश देसाई का उदाहरण लेते हैं। किसान कर्नाटक के बेलगाम जिले के बेदकीहल गाँव के हैं और उसके पास 11 एकड़ का जैविक खेत है। वह पिछले चार वर्षों से तरु नैचुरल्स के साथ जुड़े हुए हैं। अब हर साल वह क्रमशः 500 से 700 किलोग्राम अनाज, 250 किलोग्राम गुड़, 40 किलोग्राम हल्दी पाउडर और 5 किलोग्राम अदरक पाउडर की आपूर्ति करता है।

View this post on Instagram

A post shared by TARU Naturals (@tarunaturals) on

मल्लिकार्जुन कहते हैं, “मुझे लगता है कि सबसे अच्छी बात यह है कि एक नियमित आपूर्ति श्रृंखला है और वे हमें हमारे उत्पादों के लिए एक अच्छी कीमत देते हैं। यहां तक ​​कि जब हमें खेती से संबंधित तकनीकी मोर्चे पर मदद की जरूरत होती है, तो हम उनसे बात करते हैं और वे हमारी मदद करते हैं। वे यह सुनिश्चित करने में भी हमारी मदद करते हैं कि हम जिन उत्पादों को भेजते हैं वो उच्च गुणवत्ता की हो।”

मल्लिकार्जुन, तरु नैचुरल्स के नेटवर्क में 10,000 किसानों में से एक है, जो संगठित रूप से प्रमाणित खेतों में कृषि का अभ्यास करते हैं।

नए उद्यमियों के प्रेरणा के लिए रूचि एक संदेश देती हैं –

वह कहती हैं, “दृढ़ता सबसे महत्वपूर्ण है। जब तक आप जुनून, दृढ़ संकल्प और दृष्टि के साथ काम करते हैं, तब तक आप असफल नहीं होंगे। प्रतियोगिता होगी लेकिन यदि आपका कारण महत्वपूर्ण और शुद्ध है, तो आप सफल होंगे। हमेशा खुद पर विश्वास रखें और माइंड मैनेजमेंट जरूरी है। इसलिए, अपने मानसिक स्वास्थ्य को प्राथमिकता दें और ध्यान के साथ तनाव का प्रबंधन करें। ”

रूचि भी इन दिनों कफी व्यस्त हैं। वह इस कठिन समय में अपने नेटवर्क में किसानों के लिए राहत पैकेज दान करने के लिए पैसे जुटा रही है। इन पैकेजों में खाने की चीजें जैसे अटा, दाल, तेल, चावल और सुरक्षा मास्क शामिल हैं।

Mumbai Woman Organic Startup
Women working at Taru Naturals’ unit

इस समय रूचि भविष्य की अपनी योजनाओं पर भी काम कर रही हैं। उन्होंने बताया कि वे स्वस्थ समाग्री के साथ उत्पाद बनाने पर काम कर रही हैं जो पारंपरिक रूप से प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है। वे बच्चों के लिए उत्पादों को लॉन्च करने पर भी काम कर रहे हैं।

वह कहती हैं, “मेरा अंतिम लक्ष्य छोटे पैमाने पर किसानों के समुदायों के साथ काम करना है। मैं उन्हें आत्मनिर्भर और जलवायु-लचीला बनाने में मदद करना चाहती हूं। भोजन की पारंपरिक किस्मों को सुर्खियों में लाना भी लक्ष्य होगा। मेरी ख्वाहिश है कि तरु नैचुरल्स एक प्रसिद्ध ऑर्गेनिक ब्रांड बने जो हमारे मूल्यों को बाकी दुनिया में पेश कर सके।”

रैपिड फायर:

* एक उद्यमी जिसकी आप प्रशंसा करती हैं।
उत्तर: मेरे पिता जो अपना खुद का व्यवसाय चलाते हैं

* नई तकनीक जो छोटे व्यवसायों के भविष्य को बदल सकती है
उत्तर: उत्पादों के लिए ई-कॉमर्स और क्यूआर कोड

* एक मूल्य जो छोटे व्यवसायों को बढ़ने में मदद कर सकता है
उत्तर: विश्वास और पारदर्शिता

* आपकी पसंदीदा किताब
उत्तर: मैं वर्तमान में अष्टावक्र गीता पढ़ रही हूं और मुझे यह बहुत पसंद है

*खाली वक्त में क्या करती हैं
उत्तर: मेडिटेशन, बागवानी, खाद्य नवाचारों पर शोध, दौड़ना और यात्रा करना।

* इस साक्षात्कार से पहले आप क्या कर रही थी …
उत्तर: किताब पढ़ रही थी और COVID-19 संबंधित राहत कार्य के लिए लोगों के साथ समन्वय कर रही थी।

* एक चीज़ जो कॉलेज में नहीं पढ़ाया जाता लेकिन व्यवसाय चलाने के लिए महत्वपूर्ण है
उत्तर: व्यवसाय चलाने के दौरान चुनौतियों से निपटने के लिए आवश्यक व्यावहारिक कौशल।

* एक सवाल जो काम पर रखने से पहले पूछती हैं.
उत्तर: एक समस्या जिसका उन्होंने अतीत में सामना किया था और उन्होंने इसे कैसे हल किया

* सबसे अच्छी सलाह जो आपको मिली है
उत्तर: आभार व्यक्त करें और इस तथ्य को स्वीकार करें कि जीवन छोटी समस्याओं से बड़ा है।

यह भी पढ़ें: सलाद बनाने के पैशन से खड़ा किया व्यवसाय, महीने की कमाई 1.25 लाख रुपये!

मूल लेख: अंगारिका गोगोई 


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999
mm

Written by पूजा दास

पूजा दास पिछले दस वर्षों से मीडिया से जुड़ी हैं। स्वास्थ्य और फैशन से जुड़े मुद्दों पर नियमित तौर पर लिखती रही हैं। पूजा ने माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है और नेकवर्क 18 के हिंदी चैनल, आईबीएन7, प्रज्ञा टीवी, इंडियास्पेंड.कॉम में सक्रिय योगदान दिया है। लेखन के अलावा पूजा की दिलचस्पी यात्रा करने और खाना बनाने में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कैंटीन से लेकर चप्पल और मसाला फैक्ट्री तक संभाल रही हैं इन गांवों की महिलाएं!

#गार्डनगिरी: बेकार पड़ी प्लास्टिक बोतल में लगाएं टमाटर का उल्टा पौधा!