ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
रात भर ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों को चाय पिला रही हैं एसपी तेजस्विनी गौतम!

रात भर ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों को चाय पिला रही हैं एसपी तेजस्विनी गौतम!

तेजस्विनी गौतम और उनकी टीम ने अब तक गरीब और ज़रूरतमंद लोगों में 7 हज़ार पैकेट सूखा राशन और 2500 फ़ूड पैकेट भी बांटे हैं!

भारत में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए लॉकडाउन की अवधि 3 मई 2020 तक बढ़ा दी गई है। इस मुश्किल समय में जहां एक ओर लोग अपने घरों में बैठे हैं, वहीं दूसरी ओर स्वास्थ्य कर्मचारी, सफाई कर्मचारी और पुलिस विभाग दिन-रात स्थिति को बेहतर करने के प्रयास में जुटे हैं। देश के कोने-कोने से इनकी नेकी और साहस की कहानियां सुनने और जानने को मिल रही हैं। ये सभी हमारे नायक हैं।

आज ऐसी ही एक दिल छूने वाली कहानी हम आपको बता रहे हैं। यह कहानी राजस्थान के चुरू जिले की पुलिस अधीक्षक (एसपी) तेजस्विनी गौतम की है। पूरा दिन काम करने के बाद, यह आईपीएस अफसर रात को ड्यूटी कर रहे अपने पुलिसकर्मियों तक चाय पहुंचाती हैं।

अपने पति के साथ मिलकर वह घर से ही चाय बनाकर ले जाती हैं और अलग-अलग जगहों पर तैनात पुलिसकर्मियों से जाकर मिलती हैं। उन्हें चाय देती हैं और साथ ही, उनका हौसला बनाए रखती हैं। इसके अलावा, वह घर से बेसहारा जानवरों के लिए खाना भी लेकर जाती हैं और रात को जहां भी उन्हें कोई बेजुबान दिखता है, उसे खाना खिलाती हैं।

Serving tea to the team and feeding the stray animals

तेजस्विनी ने द बेटर इंडिया को बताया, “अपनी टीम का हौसला बनाए रखना मेरी ज़िम्मेदारी है। इस मुश्किल घड़ी में हम बिना अपना आत्मविश्वास खोए काम करते रहें, इसलिए बस मैंने यह एक छोटा सा कदम उठाया। इसके साथ, मुझे लगा कि रात को बेसहारा घुमने वाले बेजुबान प्राणियों का ख्याल भी हमें रखना होगा, इसलिए मैं उनके लिए भी खाना लेकर जाती हूं।”

एसपी तेजस्विनी गौतम रात को 1 बजे से 4 बजे राउंड लेकर ड्यूटी पर तैनात जवानों को चाय देती हैं और साथ ही, बेसहारा जानवरों को खाना। इसके अलावा, उन्होंने और उनकी टीम ने कुछ लोगों की मदद से अब तक गरीब और ज़रूरतमंद लोगों में 7 हज़ार पैकेट सूखा राशन और 2500 फ़ूड पैकेट बांटे हैं।

Churu police is distributing food kits to the needy

उन्होंने पुलिस विभाग की वर्दियों में से बचे हुए कपड़े से फेस मास्क बनवाए हैं ताकि पुलिस कर्मियों को परेशानी न हो। और स्पाइरल बाइंडिंग में इस्तेमाल होने वाली प्लास्टिक की शीट से फेस शील्ड।

तेजस्विनी बताती हैं, “हर एक काम में हम सभी तरह की सुरक्षा के नियमों का पालन कर रहे हैं। सामाजिक दूरी बनाते हुए ही हमने लोगों में खाना बंटवाया और अभी भी जहां ज़रूरत होती है, टीम तुरंत मदद के लिए पहुंचती है। इसके अलावा, लोगों से यही अपील है कि वे घरों में रहें और उनके मनोरंजन के लिए हमने अपनी तरफ से एक और पहल की है- ऑनलाइन प्रतियोगिता की।”

They have made face-mask from the old uniform cloth and face shield from spiral binding sheet

चुरू पुलिस प्रशासन ने लोगों के लिए विभिन्न सृजनात्मक गतिविधियों पर ऑनलाइन प्रतियोगिता शुरू की है जो 3 मई तक चलेगी। उन्होंने बताया कि सोशल मीडिया के माध्यम से अभिनय, नृत्य, गायन, वाद्य संगीत, पेंटिंग, पोस्टर मेकिंग, स्लोगन लेखन, प्रिटी फेस प्रतियोगिता, कविता लेखन, डायरी लेखन, डिजिटल आर्ट, इन-होम फोटोग्राफी, स्टैंड अप कॉमिक, रेसिपी प्रतियोगिता, निबंध लेखन, लघु कथा लेखन, गीत लेखन, रंगोली कला, मेहंदी कला श्रेणियों में प्रतियोगिता करवाई जा रही है। चूरू पुलिस की इन रचनात्मक गतिविधियों में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए भाग लिया जा सकता है।

ऐसे ले सकते हैं भाग:

इसमें प्रतिभागियों को अपनी पसंद की कैटेगरी का वीडियो अथवा फ़ोटो अथवा पीडीएफ को अपने सोशल मीडिया (फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम) पर प्रतियोगिता के हैशटेग #ChuruPoliceLockdownContest #ChuruFightsCorona को अनिवार्य रूप से साथ लिखते हुए पोस्ट करना है। इसका लिंक प्रतिभागी द्वारा उनके नाम, आयु, पता, प्रतियोगिता श्रेणी के विवरण के साथ + 91-91163-12944 पर व्हाट्सएप / टेलीग्राम या filmsthan@gmail.com पर ईमेल कर भिजवाना होगा।

Churu people can participate in the competition

प्रतिभागियों द्वारा सीधे भी अपनी प्रविष्टि इस ईमेल या नम्बर पर व्हाट्सएप/टेलीग्राम कर भिजवाई जा सकती हैं। प्रतियोगिता संबंधित अधिक जानकारी चूरु पुलिस के अधिकृत फ़ेसबुक पेज पर प्राप्त की जा सकती हैं। प्रतियोगिता के विजेताओं को लॉकडाउन खुलने के बाद जिला मुख्यालय पर कार्यक्रम आयोजित कर सम्मानित किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: रायपुर में जरूरतमंदों तक भोजन पहुंचाने का काम करती है संस्था

तेजस्विनी कहती हैं, “हमारी कोशिश यही है कि हम जल्द से जल्द स्थिति पर काबू कर लें और फिलहाल लोगों की मदद हरसंभव करें। इसलिए आप लोग अपने घरों में रहें और सुरक्षित रहें। साथ ही, अगर किसी भी तरह की मदद आप लोगों को चाहिए तो आप हमसे सोशल मीडिया के ज़रिए या फिर हेल्पलाइन नंबर (01562-252023) पर फ़ोन कर सकते हैं।”


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.
Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव