Search Icon
Nav Arrow
azim premji

कोविड-19: विप्रो और अजीम प्रेमजी फाउंडेशन का 1,125 करोड़ रुपये देने का ऐलान

देश में कोविड-19 से संक्रमित लोगों की बढ़ती संख्या से निपटने के लिए अजीम प्रेमजी फाउंडेशन और विप्रो ने आर्थिक और चिकित्सा सहायता की घोषणा की है।

स संकट के समय, कई मशहूर हस्तियां, एनजीओ और बिजनेस कम्युनिटी स्वास्थ्य कर्मचारियों, स्वच्छता श्रमिकों और प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं। कई संस्थाओं ने वित्तीय, तकनीकी और चिकित्सा सहायता की पेशकश की है। सहायता के लिए आगे आए लोगों की लंबी सूची में अब विप्रो लिमिटेड, विप्रो एंटरप्राइजेज लिमिटेड और अजीम प्रेमजी फाउंडेशन का नाम भी शामिल हो गया है।

विप्रो लिमिटेड, विप्रो एंटरप्राइजेज लिमिटेड और अजीम प्रेमजी फाउंडेशन ने संयुक्त रूप से 1,125 करोड़ रुपये दान देने का ऐलान किया है। यह किसी भी संस्था की ओर से किया गया सबसे बड़ा दान है। यह राशि विप्रो की वार्षिक कॉरपोरेट सोशल जिम्मेदारी (CSR) के योगदान से अलग होगी। इसे कोविड-19 के प्रकोप से लड़ने वाली चिकित्सा और सेवा बिरादरी के ऊपर खर्च किया जाएगा।

1 अप्रैल 2020 को जारी किए गए एक बयान में कंपनी ने कहा, “आधुनिक वैश्विक समाज ने इस प्रकार के संकट का सामना नहीं किया है। अजीम प्रेमजी फाउंडेशन और विप्रो का मानना है कि न केवल इस संकट से निपटने और इसके मानवीय प्रभाव को कम करने के लिए हम सभी को मिलकर काम करना चाहिए बल्कि इस असाधारण समय से न्याय, इक्विटी, मानवता और पारिस्थितिक स्थिरता के आधार पर अधिक लचीला वैश्विक समुदाय विकसित करना भी सीखना चाहिए।”


#RiseAgainstCOVID19 द बेटर इंडिया की एक पहल है जिसके ज़रिए हम प्रशासनिक अधिकारियों का साथ देना चाहते हैं ताकि दिहाड़ी मजदूरों, सबसे आगे खड़े स्वास्थ्य कर्मचारियों और ज़रूरतमंदों को इस मुश्किल समय में मदद मिलती रहे।

डोनेट बटन काम नहीं कर रहा? यहाँ पर क्लिक करें


फाउंडेशन की टीम में 1,600 सदस्य शामिल हैं जो देश भर में संबंधित सरकारी विभागों और संस्थानों के साथ कोर्डिनेट करेगी।

यह भी पढ़ें: #RiseAgainstCOVID19: जरूरतमंदों की मदद के लिए जुड़िए IAS और IRS अफसरों से!

कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि इस राशि का उपयोग तत्काल मानवीय सहायता, और स्वास्थ्य सेवा क्षमता बढ़ाने पर किया जाएगा, जिसमें कोविड-19 का प्रकोप और इससे प्रभावित लोगों का इलाज करना शामिल है।

कवर फोटो

मूल लेख: गोपी करेलिया


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

_tbi-social-media__share-icon