in

सिर्फ सही डाइट चुनकर इस माँ ने घटाया 25 किग्रा वजन, जानिए कैसे!

ऑनलाइन हेल्दी वीगन रेसिपी सीखा रही है यह महिला

पनी बेटी के जन्म के दो साल बाद तक भी कीर्ति यादव की स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां खत्म नहीं हुईं। उन्हें उबकाई, कब्ज़, ऊर्जा की कमी और नींद न आना जैसी परेशानियां लगातार हो रही थीं। वैसे तो यह परेशानियां असामान्य नहीं थीं लेकिन फिर भी कीर्ति ने इस बारे में थोड़ी रिसर्च की और उन्हें समझ आया कि शायद यह सब उनके खान-पान के चलते है। उन्हें लगा कि उन्हें अपने खाने-पीने में थोड़ा बदलाव करना चाहिए।

कीर्ति शुरू से ही शाकाहारी थीं और फिर साल 2017 में उन्होंने वीगन डाइट शुरू करने की ठानी। वीगन लाइफस्टाइल अपनाते ही उन्होंने अपनी तबीयत में काफी सुधार महसूस किया और सबसे ज्यादा फर्क पड़ा उनके वजन पर। आज, वह हर रोज़ वीगन रेसिपीज़ पर ऑनलाइन वर्कशॉप करती हैं। आप भी उनकी वर्कशॉप जॉइन कर सकते हैं और अपनी डाइट को डेयरी प्रोडक्ट्स फ्री बना सकते हैं!

पेड़-पौधों पर आधारित डाइट लेकर हुआ वजन कम

Vegan Diet

द बेटर इंडिया (TBI) से बात करते हुए, कीर्ति कहती हैं, “अपनी डाइट बदलने से पहले, मैंने ब्लड टेस्ट कराया और मुझे हैरानी हुई कि सामान्य तौर पर भी मेरे कोलेस्ट्रॉल का स्तर बहुत अधिक था। मुझे लगता था कि सिरदर्द, कब्ज और इस तरह के स्वास्थ्य संबंधित परेशानियाँ सामान्य हैं और होती रहती हैं। लेकिन इस सबसे उन्हें काफी परेशानियाँ हुईं। ब्लड टेस्ट के बाद, मैंने डाइट पर रिसर्च किया, और मुझे ऐसे कई लोग मिले जिन्होंने वीगन डाइट अपनाई है और उन सबने मुझे इसके सकारात्मक प्रभावों के बारे में ही बताया।”

मक्खन, घी, पनीर, दूध और अन्य डेयरी उत्पाद भारतीय व्यंजनों का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं, और इनके बिना हम अपने खाने की कल्पना भी नहीं कर सकते। कीर्ति को अपने स्वास्थ्य को सुधारना था और इसके लिए उन्होंने एक एक्सपेरिमेंट करने की ठानी। चंद महीनों में ही नतीजा उनके सामने था। उनका कोलेस्ट्रोल कम हो गया था, उन्हें कोई कब्ज़ नहीं हुई और धीरे-धीरे उन्होंने अपना वजन भी कम किया जो प्रेगनेंसी के दौरान काफी बढ़ गया था।

Online Workshop

“प्रेगनेंसी से पहले मेरा सामान्य वजन 75 किग्रा था और प्रेगनेंसी के बाद और 10 किग्रा बढ़ गया। फिर जब मैंने डेयरी प्रोडक्ट्स एकदम अपनी डाइट से हटा दिए तो मेरा वजन 60 किग्रा हो गया और अब यह मेरा सामान्य वजन है। सिर्फ इतना ही नहीं अब मैं काफी एक्टिव भी रहती हूँ। मुझे समझ में आ गया कि इस डाइट से मेरी सभी परेशानियाँ दूर हो रही हैं,” उन्होंने आगे कहा।

अपनी तरह के और लोगों के लिए, जो वीगन डाइट शुरू करना चाहते हैं, कीर्ति ऑनलाइन वर्कशॉप करतीं हैं। आप भी उनके इन वर्कशॉप में अलग-अलग वीगन रेसिपी सीख सकते हैं। आज ही रजिस्टर करने के लिए क्लिक करें!

वीगन रेसिपीज के लिए कीर्ति की वर्कशॉप:

हेल्दी डिप्स, चटनी और सॉस: ब्लैंड रोटी, ब्रेड और डोसा के स्वाद को बढ़ाने के लिए इनके साथ डिप्स, चटनी और सॉस बनाएं। अगर आप सही सामग्री चुनते हैं तो आपके स्नैक्स पौष्टिक और स्वादिष्ट दोनों हो सकते हैं। आज ही ऑनलाइन वर्कशॉप में रजिस्टर करने के लिए यहाँ पर क्लिक करें!

Online Workshop

वजन कम करने का मंत्र, सही खाएं और भूखे न रहें:

कीर्ति ने भूखे रहकर नहीं बल्कि अपनी डाइट से अस्वस्थ खाने को निकालकर और सही खाने के विकल्पों को चुनकर अपना 15 किग्रा वजन कम किया है। इस वर्कशॉप में वह उन लोगों को गाइड करेंगी जो अपना वजन कम करने की कोशिश में लगे हैं और उन्हें बताएंगी कि कैसे वह अपने मनपसन्द रोटी और चावल को अपनी डाइट से निकाल सकते हैं। आज ही रजिस्टर करें!

अब सलाद नहीं रहेगी बोरिंग:

अगर आपको भी सलाद बोरिंग लगती है तो आपको कीर्ति की यह वर्कशॉप ज़रूर लेनी चाहिए। क्योंकि इसमें वह बताएंगी कि सलाद को कैसे स्वादिष्ट और पौष्टिक बनाया जा सकता है। आप उनके वेबिनार में अपने लिए जगह बुक कर सकते हैं!

बच्चों के लिए समर कैंप:

इस बार गर्मियों में बच्चों को समर कैंप जाने को नहीं मिला तो क्या? इस बार उन्हें शेफ बनने की ऑनलाइन ट्रेनिंग तो मिल सकती है। अपने इस वेबिनार में कीर्ति बच्चों को वीगन रेसिपी बनाना सिखाएंगी। आज ही अपने बच्चों के लिए जगह बुक करें!

यह भी पढ़ें: कोरोना लॉकडाउन: आमजन को राहत पहुंचाने वाले सरकार के ज़रूरी कदम!

मूल लेख: तन्वी पटेल


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

‘जल-योद्धा’ के प्रयासों से पुनर्जीवित हुई नदी, 450 तालाब और सैकड़ों गांवों की हुई मदद!

chaipur, bihar quarantine centre

बिहार के इस गाँव में लोगों ने अपने प्रयास से शुरू किया क्वारंटीन सेंटर