Search Icon
Nav Arrow
Corona Warriors busting myths

जानिए कैसे बन सकते हैं आप भी ‘कोरोना वॉरियर,’ आज ही करें रजिस्टर!

चुने गए कोरोना वॉरियर्स को ट्रेनिंग के बाद एक ऑफिशियल पहचान पत्र और सेफ्टी किट दी जाएगी!

Advertisement

कोरोना वायरस से संबंधित फ़ैल रहे मिथकों और झूठी खबरों को रोकने के लिए, डिपार्टमेंट ऑफ़ इंफॉर्मेशन एंड पब्लिक रिलेशन (कर्नाटक) ने इंडियन रेड क्रॉस सोसाइटी और कर्नाटक स्टेट लेबर इंस्टिट्यूट के साथ मिलकर एक अभियान शुरू किया है। इस अभियान में युवा वॉलंटियर्स को राज्य भर में ‘कोरोना वॉरियर्स’ के तौर पर नियुक्त किया जाएगा।

इन कोरोना वॉरियर्स की प्राथमिकता सोशल मीडिया पर फ़ैल रही अफवाहों और गलत ख़बरों को रोकना है। COVID-19 के बारे में व्हाट्सएप, फेसबुक और ट्विटर के ज़रिए बहुत-सी गलत जानकारियाँ, ऑडियो क्लिप और वीडियो क्लिप साझा की जा रहीं हैं। जिसकी वजह से लोगों के दिलों में डर पैदा हो रहा है।

इसलिए, कर्नाटक सरकार ने यह पहल की और इस आइडिया का श्रेय जाता है डिपार्टमेंट ऑफ़ इंफॉर्मेशन एंड पब्लिक रिलेशन के वर्तमान सेक्रेटरी, पी.मणिवण्णन को।

26 मार्च को इस पहल की घोषणा की गई थी और अब तक उन्हें 400 से ज्यादा एप्लीकेशन आ चुके हैं, जिसमें से 120 सिर्फ बंगलुरु से हैं।

Corona Warriors

प्रोग्राम की जानकारी:

1. सरकार ने राज्यभर में 3000 वॉलंटियर्स को कोरोना वॉरियर्स के तौर पर नियुक्त करने का प्रावधान किया है।

2. आवेदन करने वालों की पहचान वेरीफाई करने के बाद उन्हें फाइनल सलेक्शन के लिए चुना जाएगा।

3. सेलेक्ट होने वाले कोरोना वॉरियर्स को अपने-अपने जिला ऑफिस में एक ट्रेनिंग के लिए जाना होगा।

4. ट्रेनिंग के बाद उन्हें एक लोकल अफसर द्वारा एक ऑफिशियल पहचान पत्र और सेफ्टी किट दी जाएगी।

5. वॉलंटियर्स को कर्नाटक के हर एक तालुका में नियुक्त किया जाएगा और एक तालुका में कम से कम 4 वॉलंटियर्स होंगे।

6. वॉलंटियर्स की शिफ्ट ड्यूटी होगी, जिसके तहत 4 वॉलंटियर्स को दिन में अलग-अलग शिफ्ट में काम करना होगा।

7. अभी के लिए, वॉलंटियर्स की यह सर्विस दो महीने/60 दिनों के लिए है।

Advertisement

आप यहाँ पर अप्लाई कर सकते हैं:

Corona Warriors

‘कोरोना वॉरियर्स’ की ड्यूटी:

1. स्थानीय सोशल मीडिया की गतिविधियों पर नज़र रखना ताकि अफवाहों और झूठी खबरों को रोका जा सके।

2. गलत खबरों की पड़ताल करके लोगों में जागरूकता लाना

3. सही जानकारी देना।

यह भी पढ़ें: कोरोना लॉकडाउन: गरीबों के लिए 1 लाख 70 हज़ार करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा!

आज ही कोरोना वॉरियर बनने के लिए रजिस्टर करें! देश को आपकी ज़रूरत है। अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें!

हर जगह डॉक्टर और वैज्ञानिक यही सलाह दे रहे हैं कि लोग गलत खबरों और झूठी जानकारी से बचें, ऐसे में कर्नाटक सरकार का यह कदम सराहनीय है। भारत में यह पहला राज्य है जिसने इस समस्या को नीतिपूर्वक हल करने की पहल की है।

इसके अलावा, भारत सरकार ने भी ‘कोरोना वॉलंटियर’ पहल शुरू की है। इसके ज़रिए, देश का कोई भी नागरिक COVID-19 से लड़ने में अपने स्तर पर देश की मदद कर सकता है। आज ही वॉलंटियर बनने के लिए या फिर डोनेट करने के लिए यहाँ क्लिक करें! 

मूल लेख: सायंतनी नाथ 


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Advertisement
close-icon
_tbi-social-media__share-icon