in ,

शहीद जवानो के परिवार की मदद करने के लिए अक्षय कुमार ने खोज निकाला एक बेहतरीन उपाय!

बॉलीवुड के जाने माने अभिनेता अक्षय कुमार कई बार अपनी बेबाक देशभक्ति के लिए सुर्ख़ियों में आते रहे है। हाल ही में उन्होंने ट्विटर पर एक विडिओ जारी किया है जिससे एक बार फिर ये साबित हो जाता है कि एक बेहतरीन अभिनेता होने के साथ साथ वे एक बेहतरीन इंसान भी है।

मंगलवार को जारी किये इस  वीडियो में अक्षय ने जवानों और उनके परिवार की मदद करने के लिए आम जनता को जोड़े जाने का एक सुझाव दिया है।

इसमें उन्होंने कहा कि वो जवानों के लिए एक एप बनाना चाहते हैं, ताकि भारतीय सेना के जवानों की हर संभव मदद कर सके। इस एप के जरिए वो लोग भी जवानों की मदद कर सकते हैं, जो चाहते हुए भी उन तक नहीं पहुंच पाते।

Promotion

अक्षय कुमार ने कहा, “हमारी सरकार जवानों की मदद कर रही है, लेकिन हम में से भी बहुत लोग उनकी मदद करना चाहते हैं लेकिन, उन तक पहुंच नहीं पाते हैं।”

अक्षय ने कहा कि हर आम आदमी किसी भी अफसर और अथॉरिटी की मदद के बिना सीधे फंड ट्रांसफर कर सकता है। लोग अपनी योग्यता के मुताबिक 100 रुपये भी दे सकते हैं और एक लाख भी। इसकी पूरी डिटेल वेबसाइट पर उपलब्ध होगी।

अक्षय ने आगे कहा, अगर आप लोग साथ देंगे और भारत सरकार इजाजत देगी तो मैं खुद वेबसाइट बनवा दूंगा। अगर ये वेबसाइट बन गई तो 26 जनवरी को जवानों को हमारी तरफ से यह बड़ा सेल्यूट होगा।

अक्षय के मुताबिक़ किसी भी अकाउंट में जब 15 लाख रूपये तक जमा हो जायेंगे तब उस अकाउंट की जानकारी हटा दी जाएगी क्यूंकि ये राशि उस परिवार के लिए पर्याप्त होगी।

इस विडिओ को अब तक करीब 35000 लोग पसंद कर चुके है और लोग अक्षय के इस प्रस्ताव की जमकर सराहना कर रहे है।

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें contact@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter (@thebetterindia) पर संपर्क करे।

Written by मानबी कटोच

मानबी बच्चर कटोच एक पूर्व अभियंता है तथा विप्रो और फ्रांकफिंन जैसी कंपनियो के साथ काम कर चुकी है. मानबी को बचपन से ही लिखने का शौक था और अब ये शौक ही उनका जीवन बन गया है. मानबी के निजी ब्लॉग्स पढ़ने के लिए उन्हे ट्विटर पर फॉलो करे @manabi5

सिक्यूरिटी गार्ड पिता की सीमित आय में बिना कोचिंग के ही संदीप बने चार्टर्ड अकाउंटेंट!

सरकारी स्कूल की ईमारत गिरा दिए जाने पर गांववालों ने मिलकर किराये के मकान में चलाये रखा स्कूल!