Search Icon
Nav Arrow

‘पापा प्लीज़ प्रीच मोर’ : कॉमेडियन ज़ाकिर ख़ान का पिता के लिए इमोशनल वीडियो!

Advertisement

ब कभी एक बच्चे की परवरिश की बात आती है तो सबसे पहले माँ के बलिदानों की ही याद आती है। पिता का त्याग और सहयोग अधिकतर छुपा ही रह जाता है। ऐसा शायद इसलिए है क्यूंकि माँ अक्सर बच्चे के प्रति अपना प्यार ज़ाहिर कर देती है पर पिता अपने प्यार को व्यक्त नहीं कर पाते। पर उनकी डांट और कठोर अनुशासन के पीछे जो छुपा होता है वह है अपने बच्चों के लिए अपार स्नेह और उन्हें अपने से बेहतर बनाने का एकमात्र सपना!

 

मेरे पिता बेहद शर्मीले किस्म के इंसान है और मैं एक स्टैंड अप कॉमेडियन हूँ। आप में अपने पिता की खूबियाँ ज़रूर होंगी पर कमियाँ कभी नहीं होंगी क्यूंकि वे इस बात को सुनिश्चित करते है कि ऐसा बिलकुल न हो!

-ज़ाकिर ख़ान

 

अपने पिता के ऐसे ही कई छोटे छोटे किस्से सुनाकर कॉमेडियन ज़ाकिर ख़ान ने अपने विडियो – पापा प्लीज प्रीच मोर के ज़रिये हमे बताने की कोशिश की है कि एक पिता अपने बच्चों के लिए चुपचाप क्या-क्या कर जाता है!

 

यूँ तो ज़ाकिर के बाकी वीडियो देख कर आप हंस-हंस कर लोटपोट हो चुके होंगे, पर इसके ठीक विपरीत इस वीडियो को देखकर आपकी आँखे भर आएँगी।

photo source – Youtube

ज़ाकिर बताते है कि बचपन में एक बार वे अमिताभ बच्चन के साथ फोटो खिंचाना चाहते थे पर उनके पिता ने खिंचाने नहीं दिया। उनके पिता के मुताबिक़ जाकिर उनके लिए शुरू से ही एक सितारे है और वे ज़ाकिर को किसी भी बड़े सितारे से कम नहीं समझते।

Advertisement

शायद हर एक पिता का यही सच है कि उनके लिए उनका बच्चा सबसे बेहतरीन होता है!

 

इसके बाद ज़ाकिर अपने उस आयु की एक बात बताते है जिस आयु में बच्चे को लगता है कि वह बहुत बड़ा हो गया है और उसे अपने पिता की हर बात से चिढ़ होने लगती है। इस किस्से को सुनाते हुए वे कहते है कि कई बार पिता अपनी भावनाओं को सिर्फ इसलिए छुपाते है ताकि बच्चों को बुरा न लगे। पर वास्तव में वे भी अपने बच्चों की हर हार और जीत को लेकर बेहद भावुक होते है।

 

हमारी छोटी-छोटी खुशियों के लिए पिता बिन बताएं ही बहुत कुछ कर जाते हिं। हमें पता भी नहीं चलता कि हम जिस खिलौने के लिए जिद्द कर रहे है या जिस महँगी चीज़ की फरमाइश कर रहे है, उसे दिलाने के लिए हमारे पापा को किन किन कठिनाईयों का सामना करना पड़ा है।

 

ज़ाकिर के इस विडिओ को देखकर आपको ज़रूर अपने पापा का ख्याल आएगा और इस बात का आभास होगा कि एक पिता अपने बच्चों के लिए क्या कुछ कर जाता है।

 

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें contact@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter (@thebetterindia) पर संपर्क करे।

Advertisement
close-icon
_tbi-social-media__share-icon