in , ,

अकेली रह रही बुज़ुर्ग महिला का जन्मदिन मनाकर मुंबई पुलिस ने सबका दिल जीता!

ज की युवा पीढ़ी को काम के सिलसिले में अक्सर अपने मूल स्थान को छोड़कर जाना पड़ता है। ऐसे में पीछे छूट जाते है घर के बुज़ुर्ग, जो अपने बच्चो का भविष्य संवारने के लिए उन्हें जाने देते है और खुद अकेले रह जाते है। ऐसी ही एक बुज़ुर्ग महिला है मुंबई शहर के माटुंगा इलाके में रहनेवाली ललिता सुब्रमनियम। ललिता पिछले 25 साल से माटुंगा में स्थित अपने फ्लैट में अकेली रहती है।

ललिता के दो बच्चे अमरीका में रहते है और एक बंगलुरु में। इस वजह से उनके ज़्यादातर दिन-त्यौहार अकेले ही गुज़रते थे। पर इस अकेलेपन को दूर करने के लिए अब उनके पास एक ख़ास परिवार है और वो है मुंबई पुलिस के कर्मचारी।

बुजुर्गो की सुरक्षा की पहल के तहत मुंबई पुलिस अकेले रह रहे बुजुर्गो की एक फेहरिस्त अपने पास रखती है, जिसमे ललिता का भी नाम शामिल है। इन बुजुर्गो की मदद के लिए मुंबई पुलिस हर संभव प्रयास करती है। महीने भर का सामान लाने से लेके बैंक के कामो तक मुंबई पुलिस इन बुजुर्गो का साथ देती है।

पर इसके अलावा भी मुंबई पुलिस के कर्मचारियों ने ललिता के लिए कुछ ऐसा किया जो उनकी ड्यूटी का हिस्सा नहीं था।

ललिता के 83वें जन्मदिन पर मुंबई पुलिस केक लेकर उनके घर पहुँच गयी और उनके जन्मदिन का जश्न उनके साथ मना कर उन्हें चकित कर दिया।

grandma-party

Photo source: Twitter

प्यार से ‘मदर’ पुकारी जानेवाली ललिता के लिए ये बेहद भावुक क्षण था। उन्होंने सभी कर्मचारियों को आशीर्वाद देकर अपनी ख़ुशी का इज़हार किया।

इस पुरे जश्न की तस्वीर मुंबई पुलिस ने ट्विटर पर साझा की तथा लोगो से ललिता को शुभकामनाएं देने को भी कहा, जिन्हें वो ललिता तक पहुचाएंगे।


जहाँ पुलिस का नाम सुनते ही आम लोगो में डर की भावना ही जागती है वहीँ इस तरह के उदाहरण हमे हमारी पुलिस तथा व्यवस्था पर एक बार फिर से यकीन करना सिखायेंगे। इसके अलावा इन बुजुर्गो के वो बच्चे भी निश्चिंत होकर रह पाएंगे जिन्हें अपने काम की वजह से मजबूरी में इन्हें अकेला छोड़ कर जाना पड़ता है।

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें contact@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter (@thebetterindia) पर संपर्क करे।

शेयर करे

Written by मानबी कटोच

मानबी बच्चर कटोच एक पूर्व अभियंता है तथा विप्रो और फ्रांकफिंन जैसी कंपनियो के साथ काम कर चुकी है. मानबी को बचपन से ही लिखने का शौक था और अब ये शौक ही उनका जीवन बन गया है. मानबी के निजी ब्लॉग्स पढ़ने के लिए उन्हे ट्विटर पर फॉलो करे @manabi5

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

अनाथालयो की बच्चियों को ‘दंगल’ दिखाने के लिए पूरा सिनेमाघर बुक किया इंदौर के डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर ने!

फोगाट बहनों के बाद हरियाणा की इन तीन बहनों ने सेना में भर्ती होकर खड़ी की एक नयी मिसाल!