in

घर बैठे मिल रही है कार वॉश की सुविधा, वह भी बिना एक बूँद पानी खर्च किए!

अगर आप अपने घर पर कार धोते हैं तो बाल्टी से 40 लीटर, पाइप से 80 लीटर और सर्विस सेंटर पर लगभग 150-200 लीटर पानी खर्च होता है। लेकिन ‘गो वॉटरलेस’ की तकनीक से आप यह सारा पानी बचा सकते हैं!

जून 2018 में नीति आयोग ने भारत में पानी की स्थिति पर कुछ आंकड़े जारी किए थे। इन आंकड़ों के मुताबिक, देश में 60 करोड़ लोग पानी की किल्लत का सामना कर रहे हैं और आने वाले चंद सालों में भारत के कई शहरों में भूजल एकदम खत्म हो जाएगा।

इतना ही नहीं, भारत में सिर्फ 4% ही साफ़ पानी है और यदि हमने अभी से स्थिति को सुधारने पर काम नहीं किया तो साल 2040 तक साफ़ पानी बिल्कुल नहीं बचेगा। इसलिए आज की ज़रूरत है कि हम अपनी लाइफस्टाइल में कुछ बड़े बदलाव करें। अपने रहन-सहन के हर एक पहलू को जाँच-परख कर यह समझने की कोशिश करें कि हम कहाँ-कहाँ पानी बचा सकते हैं।

इन गंभीर आंकड़ों को समझते हुए छत्तीसगढ़ के चंपा में रहने वाले एक 36 वर्षीय व्यवसायी नितिन शर्मा ने भी अनोखी पहल की है। नितिन बताते हैं कि उनका ऑटोमोबाइल का पारिवारिक व्यवसाय है। यहाँ पर वह वर्कशॉप, कार सर्विसिंग और कार वॉश, की सुविधाएं देते हैं।

“अगर आप अपनी कार घर पर धो रहे हैं तो कम से कम दो बाल्टी यानी कि 40 लीटर पानी खर्च होता है, पाइप से धोएं तो कम से कम 90 लीटर और अगर आप सर्विस सेंटर पर जाकर धुलवाते हैं तो कम से कम 150 लीटर पानी खर्च होता है। हमारे देश में वर्तमान में 23 करोड़ से भी ज्यादा कारें हैं। अब आप अंदाजा लगा सकते हैं कि अगर हम हफ्ते में सिर्फ एक बार भी कार धोते हैं तो कितना पानी बर्बाद होता है,” उन्होंने कहा।

नितिन कहते हैं कि पिछले दो-तीन सालों में गर्मियों के मौसम में उन्होंने पानी की काफी किल्लत झेली, जिस वजह से कार वॉश करने का उनका काम एकदम ठप हो गया था। इसके बाद उन्होंने पानी और कार वॉश से संबंधित आंकड़ों पर रिसर्च किया। उनके सामने जब भारत में पानी मौजूद होने की असल तस्वीर आई तो उनकी हैरानगी का ठिकाना नहीं रहा। इस बारे में काफी- कुछ पढ़ने के बाद नितिन ने ठाना कि अब वह अपने बिज़नेस के लिए कोई और विकल्प ढूढेंगे और पानी जैसे अनमोल संसाधन को यूँ ही व्यर्थ नहीं करेंगे।

Nitin Sharma, Founder of Go Waterless

“मैंने अपने घर-परिवार के लोगों से इस बारे में चर्चा की और मुझे एक रिश्तेदार से पता चला कि बाहर कई देशों में कार धोने के लिए वाटरलेस स्प्रे का इस्तेमाल होता है। मैंने तुरंत इस विषय में और पढ़ना शुरू किया और कुछ केमिकल इंजीनियरस से बातचीत की। उनकी मदद से मैंने नैनोटेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके एक प्लांट बेस्ड लुब्रीकेंट स्प्रे तैयार किया। इसके लिए हमने रॉ मटेरियल ब्राज़ील से मंगवाया और फिर इस पर फिजिक्स और केमिस्ट्री के कुछ कॉन्सेप्ट इस्तेमाल करके वाटरलेस स्प्रे बनाया,” उन्होंने कहा।

लगभग डेढ़ साल तक रिसर्च एंड डेवलपमेंट की बदौलत उन्होंने यह तकनीक इजाद की और फिर काफी समय तक इसे टेस्ट किया। टेस्टिंग में सफलता मिलने के बाद नितिन ने साल 2019 में ‘गो वॉटरलेस’ अभियान की शुरुआत की। इस पहल की शुरुआत उन्होंने अपनी कंपनी Rewowlution Ventures Pvt Ltd. के अंतर्गत की।

नितिन बताते हैं कि उन्होंने अपना स्टार्टअप शुरू करने के लिए अपने परिवार से मदद ली और लगभग 10 लाख रुपये की इन्वेस्टमेंट करके उन्होंने यह ‘वॉटरलेस कार वॉशिंग तकनीक’ बनाई। इसके बाद उनके पास इतने साधन नहीं थे कि वह खुद वॉटरलेस कार वॉशिंग की सर्विसेज शुरू करते और इसलिए उन्होंने अपने अभियान को फ्रेंचाइजी मॉडल पर आगे बढ़ाया। नागपुर में उनकी पहली फ्रेंचाइजी शुरू हुई और यहाँ पर उनकी इस तकनीक के लिए लोगों की प्रतिक्रिया काफी अच्छी है।

Go Waterless Spray

“एक कार को साफ़ करने के लिए हम सिर्फ 100 मिली स्प्रे का इस्तेमाल करते हैं और फिर कार को एक माइक्रो फाइबर तौलिया से अच्छे से पोंछा जाता है। बहुत से लोगों को लगता है कि कार पानी के बिना कैसे साफ़ होगी, धूल-मिट्टी रह जाएगी। लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है क्योंकि हमारी तकनीक से कार कम समय में और बहुत अच्छे से साफ़ हो जाती है। इसमें ज्यादा मेहनत भी नहीं है जबकि सामान्य तरीके से कार धोने में काफी समय लगता है। पहले आप पानी से साफ़ करते हैं फिर शैम्पू से धोते हैं और फिर सूखे कपड़े से पोंछते हैं और फिर दाग-धब्बे न रह जाएं इसलिए पॉलिश आदि करते हैं। इस सब प्रक्रिया में काफी समय लगता है,” नितिन ने बताया।

जितने समय में सामान्य तरीकों से एक कार धुलती है उतने में नितिन के यहाँ 3 कार वॉश हो जाती हैं और वह भी बिना एक बूंद पानी के। ज़रूरी नहीं कि ‘गो वाटरलेस’ की सर्विसेज के लिए आपको उनके यहाँ पर जाना पड़े। आप अपने घर बैठे या फिर अपने ऑफिस में, यहाँ तक कि फिल्म देखते समय भी उनकी सर्विसेज ले सकते हैं। उनके यहाँ से आपको बस अपनी ज़रूरत के हिसाब से कार वॉशिंग का पैकेज चुनना है और फिर आप दिन और समय चुनकर बुकिंग कर सकते हैं। इसके बाद उनके यहाँ से प्रोफेशनल्स आकर आपकी गाड़ी साफ़ कर देंगे।

Promotion
Banner

नितिन के मुताबिक उनकी फीस भी सामान्य से कम है। गाड़ी के हिसाब से उनकी फीस 150 रुपये से शुरू होती है और उनके अलग-अलग पैकेज हैं। आप महीने के लिए, छह महीने के लिए और उससे ज्यादा समय के लिए भी पैकेज ले सकते हैं। इसके साथ ही, उनकी कार वॉशिंग इको-फ्रेंडली, केमिकल-फ्री है और वे इस काम में बिजली का भी कोई इस्तेमाल नहीं करते हैं तो इससे बिजली भी बच रही है।

From left to right, before the car being cleaned by GO Waterless and after the service

फ़िलहाल, नागपुर में उनकी टीम काम कर रही है और पिछले छह महीनों में उनके ग्राहकों की संख्या 1000 से ज्यादा पहुँच गई है। अब नितिन का उद्देश्य है कि उनकी अन्य शहरों में भी फ्रेंचाइजी हों ताकि ज्यादा से ज्यादा पानी बचाया जा सके। साथ ही, वह युवाओं को प्रोफेशनल ट्रेनिंग देकर लोगों को रोज़गार भी देना चाहते हैं। आने वाले समय में वह पूरे देश से लगभग 20 हज़ार लोगों को ट्रेनिंग देने की और फिर अपनी फ्रेंचाइजी में उन्हें जॉब देने की योजना पर काम कर रहें हैं।

“मेरा पहला उद्देश्य इस बिज़नेस से पानी बचाना है और बाद में, पैसे कमाना। मैं चाहता हूँ कि ज्यादा से ज्यादा लोग हमारी सर्विसेज लें ताकि जल-संरक्षण की मुहिम में वे भी भागीदार बन पाएं। इससे हम देश में लगभग 1 ट्रिलियन पानी बचा सकते हैं। देश में लगभग 23 करोड़ कार हैं और अगर हर कार हफ्ते में एक बार भी धुलती है तो उस पर औसतन 100 लीटर पानी खर्च होता है। मतलब कि 2300 करोड़ लीटर पानी हर हफ्ते हम औसतन सिर्फ कार धोने में खर्च कर रहे हैं। अगर यही कारें वाटरलेस स्प्रे से साफ़ हों तो हम यह सारा पानी बचा सकते हैं,” नितिन ने कहा।

नितिन शर्मा की कोशिश काबिल-ए-तारीफ है। आज के समय की ज़रूरत यही है कि हम हर कदम पर रुकें और सोचें कि कहाँ-कहाँ हम अपने प्राकृतिक संसाधनों को बचा सकते हैं। नितिन की ‘गो वाटरलेस’ तकनीक अगर पूरे देश के लोगों तक पहुंचे तो बेशक यह पानी बचाने का एक अभियान बन जाएगा।

अगर आप अपने शहर में ‘गो वाटरलेस’ की फ्रेंचाइजी शुरू करना चाहते हैं तो उनकी वेबसाइट पर जाकर फ्रेंचाइजी फॉर्म भर सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए आप नितिन शर्मा से 8305121705 पर संपर्क कर सकते हैं!

संपादन – अर्चना गुप्ता


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह युवती बांस से बना रही है इको-फ्रेंडली ज्वेलरी, तिगुनी हुई आदिवासी परिवारों की आय!

ज़रूरतमंद बच्चों का मॉल है रांची का ‘महाबाज़ार,’ यहाँ बच्चे खरीदते हैं अपनी मनपसंद चीजें!