in

नौंवी कक्षा में पढ़ने वाले बच्चों को नहीं छोड़ना चाहिए ये मौका, ISRO ने निकाला आवेदन!

प्रोग्राम के लिए सेलेक्ट होने वाले छात्रों के रहने, खाने-पीने, आने-जाने और किताब-कॉपी का सभी खर्च ISRO उठाएगा!

इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (ISRO) के ‘युवा विज्ञानी कार्यक्रम’ यानी कि युविका (Young Scientist Programme) के दूसरे सत्र के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू हो चुके हैं। इस कार्यक्रम का उद्देश्य युवा बच्चों को अंतरिक्ष/स्पेस से संबंधित गतिविधियों, थ्योरी और तकनीकों के बारे में पढ़ाना और सिखाना है।

अहमदाबाद, बंगलुरु, शिलांग और तिरुवनन्तपुरम में इसरों के केंद्र हैं और इन्हीं में से किसी एक केंद्र पर यह कार्यक्रम 11 मई, 2020 से 22 मई, 2020 तक चलेगा। इस दौरान बच्चों को हर तरह से सीखने का मौका दिया जाएगा। इनमें एक्सपर्ट्स के लेक्चर, लैब्स में प्रैक्टिकल और फिर फीडबैक सेशन भी रहेगा।

इस कार्यक्रम के लिए CBSE, ICSE और स्टेट बोर्ड से सिलेबस का चयन किया जाएगा। प्रत्‍येक राज्‍य/केंद्र शासित प्रदेश से तीन विद्यार्थियों का चयन किया जाएगा। प्रवासी भारतीय नागरिक (OCI) प्रतिभागियों के लिए 5 अतिरिक्त सीटें आरक्षित हैं।

ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में रुचि रखने वाले छात्र-छात्राएं इस प्रोग्राम के लिए रजिस्टर कर सकते हैं। रजिस्ट्रेशन की आखिरी तारीख 24 फरवरी 2020 है। सभी आवेदन पत्रों की जांच के बाद 2 मार्च 2020 को रिजल्ट आएगा।

इस रिजल्ट में पास होने वाले बच्चों को सभी तरह के ज़रूरी सर्टिफिकेट्स की सेल्फ-अटेस्टेड (अपने हस्ताक्षर के साथ) ई-कॉपी अपलोड करनी होगी। सर्टिफिकेट अपलोड करने की आखिरी तारिख 23 मार्च 2020 है। वेरिफिकेशन के बाद, प्रोग्राम के लिए चुने गए छात्रों की लिस्ट 30 मार्च 2020 को जारी की जाएगी।

इस प्रोग्राम में रजिस्टर करने के लिए यहां पर क्लिक करें!

योग्यता और मानदंड 

जो बच्चे आठवीं कक्षा पास कर चुके हैं और फ़िलहाल 2019-20 के सेशन में नौवीं कक्षा में हैं, वे इस प्रोग्राम के लिए आवेदन कर सकते हैं।

इसरो ने 5 तरह के मानदंड रखें हैं, जिनके आधार पर बच्चों को अंक दिए जाएंगे:

1. आठवीं कक्षा में मिलें अंक: 60%

2. साल 2016 के बाद, जिला/राज्य/राष्ट्रीय/अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्कूल या फिर बोर्ड द्वारा आयोजित गतिविधियों (भाषण, वाद-विवाद और निबंध लेखन आदि) में मिले पुरस्कार: 2/4/6/10%

3. साल 2016 के बाद, जिला/राज्य/राष्ट्रीय/अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्कूल या फिर बोर्ड द्वारा आयोजित खेल प्रतियोगिताओं में विजेता: 2/4/6/10%

Promotion
Banner

4. वर्तमान अकादमिक सत्र( 2019-20) में स्काउट और गाइड/एनसीसी/एनएसएस सदस्य के तौर पर कार्यरत: 5%

5. ब्लॉक/पंचायत क्षेत्र में स्थित किसी ग्रामीण स्कूल के छात्र: 15%

 

ध्यान में रखें ये बातें:

  • ग्रामीण इलाके के स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को स्कूल के हेडमास्टर या प्रधानाचार्य से प्रमाण के लिए सर्टिफिकेट लाना होगा।
  • ग्रामीण क्षेत्रों के छात्रों को चयन मानदंड में विशेष छूट दी जाएगी।
  • यदि दो प्रतिभागियों के अंक बराबर हैं तो कम उम्र वाले छात्र को प्राथमिकता मिलेगी।
  • प्रोग्राम के लिए चुने गए छात्रों को प्रोग्राम के दौरान इसरो द्वारा दिए जाने वाले गेस्ट हाउस या हॉस्टल में रहना होगा।
  • इस पूरे प्रोग्राम के दौरान बच्चों के रहने, कोर्स के लिए किताबें या जरूरी सामान और आने-जाने का पूरा खर्च इसरो उठाएगा।

याद रहे कि प्रोग्राम के लिए आखिरी तारीख 24 फरवरी 2020 है।

आज ही अप्लाई करें और इस लेख को अपने व्हाट्सअप ग्रुप में शेयर करें ताकि ज़्यादा से ज़्यादा माता-पिता और बच्चों को इस प्रोग्राम के बारे में पता चले!

अधिक जानकारी के लिए आप यहां क्लिक करें। 

यदि आपके कोई सवाल हैं तो आप yuvika2020@isro.gov.in पर ईमेल कर सकते हैं या फिर 080 2217 2269 पर कॉल कर सकते हैं!

मूल लेख: गोपी करेलिया

संपादन – अर्चना गुप्ता

कवर फोटो: इसरो


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Keyword: ISRO ka bachcho ke liye program, ISRO, YUVIKA, Yuva vigyani karykram, Nauvi kaksha ke chhatra kre apply, students of 9th Class can apply

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

अमेरिका छोड़ गाँव में बसा दंपति, 2 एकड़ ज़मीन पर उगा रहे हैं लगभग 20 तरह की फसलें!

घर में कैसे उगाएं प्याज, जानिए सस्ते और आसान तरीके!