in

नया गैस कनेक्शन लेना है? ऐसे करें अप्लाई!

क्या आपको पता है कि प्राइवेट और सरकारी गैस एजेंसियों के सिलिंडरों का साइज़ अलग-अलग होता है और इसलिए आप अदला-बदली नहीं कर सकते हैं? जानिए इस तरह की और भी बातें।

मेरी एक दोस्त ने तीन साल पहले ही गैस का कनेक्शन लिया था और कुछ दिन पहले उसके यहाँ गैस लीक की समस्या होने लगी। जब उन्होंने तकनीशियन को बुलाया तो उसने कहा कि इसे ठीक करने की बजाय अच्छा विकल्प यह है कि नया कनेक्शन लिया जाए।

बस फिर क्या था, उसके और उसके पति के लिए शुरू हो गयी एक और जंग। जी हाँ, हमारे यहाँ इस तरह के कामों की प्रक्रिया यदि सही ढंग से न पता हो तो काम होने से पहले कई धक्के खाने पड़ते हैं। उसने भी यहां-वहां से पूछ-पूछकर जैसे-तैसे नया कनेक्शन लिया।

उसने मुझे बताया कि कैसे सबकी अलग-अलग राय ने एक साधारण-सी प्रक्रिया को उसके लिए लम्बा-चौड़ा बना दिया था। जो काम चंद दिनों का था उसमें महीने लग गए।

नया गैस कनेक्शन लेना अक्सर लोगों को टेढ़ी खीर लगता है, लेकिन अगर सही तरीके से किया जाए तो प्रक्रिया बड़ी ही आसान है। आज द बेटर इंडिया आपको इसी बारे में बता रहा है कि आप कैसे गैस कनेक्शन ले सकते हैं।

सबसे पहले तो गैस कनेक्शन दो तरह के होते हैं- सरकारी और प्राइवेट।

यदि आप सरकारी गैस कनेक्शन लेते हैं जैसे कि इंडेन, भारत गैस, और एचपी गैस, तो आपको कुछ सिलिंडर सब्सिडी पर मिलते हैं। इस प्रक्रिया के लिए आपके पास राशन कार्ड होना आवश्यक है।

वहीं, प्राइवेट गैस कनेक्शन के लिए आपको सिर्फ एड्रेस प्रूफ/ निवास स्थान का प्रमाण पत्र ही चाहिए होगा।

ज़्यादातर प्राइवेट और सरकारी गैस एजेंसियों से आपको 14.2 किलो और 5 किलो गैस की क्षमता वाले सिलिंडर मिलते हैं।

इस बात का ध्यान हमेशा रखें कि प्राइवेट और सरकारी गैस एजेंसियों के सिलिंडरों का साइज़ अलग-अलग होता है और इसलिए आप अदला-बदली नहीं कर सकते हैं।

ऑनलाइन करें अप्लाई:

ऑनलाइन अप्लाई करने पर आपको अपने घर के सबसे पास की गैस एजेंसी से संपर्क करना होगा। उनके यहाँ ऑनलाइन पेमेंट होने के बाद, वहां से कोई एजेंट आपके घर आकर कनेक्शन इनस्टॉल करेगा। पेमेंट के बाद आपको एक रेफेरेंस नंबर मिलता है, जिससे आप अपने सिलिंडर की डिलीवरी ट्रैक कर सकते हैं।

गैस कनेक्शन के लिए अप्लाई करने के लिए ज़रूरी कागज़ात:

पहचान के लिए:

Promotion
  • आधार कार्ड
  • पासपोर्ट
  • PAN कार्ड
  • ड्राइविंग लाइसेंस

निवास-स्थान के प्रमाण के लिए:

  • राशन कार्ड
  • पिछले तीन महीने का कोई बिजली बिल
  • पिछले तीन महीने का कोई टेलीफोन बिल
  • वोटर आईडी कार्ड
  • घर के किराए की रसीद
  • जहां नौकरी करते हैं वहां का सर्टिफिकेट

ऑफ़लाइन तरीके से सरकारी गैस कनेक्शन अप्लाई कैसे करें:

  • सबसे पहले गैस एजेंसी का पता लगाएं जो आपके इलाके में एलपीजी गैस सिलिंडर देती है।
  • एजेंसी पर जाइये, एप्लीकेशन फॉर्म लिजिए और अपनी पूरी जानकारी ठीक से भरिए।
  • डॉक्यूमेंट सबमिट करने के बाद आपको रिसीप्ट के साथ एक रजिस्ट्रेशन और गैस बुकिंग नंबर दिया जाएगा।
  • एजेंसी से आपकी गैस बुकिंग का ब्यौरा रखने के लिए एक डोमेस्टिक गैस कंज्यूमर कार्ड (DGCC) बुकलेट या फिर पासबुक दी जाती है।
  • एजेंसी के हिसाब से सिलिंडर के लिए सिक्योरिटी डिपोजिट फीस अलग-अलग हो सकती है। इस डिपोजिट से सिलिंडर की लागत, एक रेगुलेटर, पहले सिलिंडर में हवा भरने की फीस, एक गैस ट्यूब और इंस्टालेशन की फीस शामिल होती है।

इस पूरी प्रक्रिया में एक महीने तक का समय लग सकता है।

ध्यान रखें: एक घर के लिए सिर्फ एक ही एलपीजी कनेक्शन का नियम है, इसलिए यदि आप नए कनेक्शन के लिए अप्लाई कर रहे हैं तो पुराने (यदि कोई है तो) कनेक्शन को बंद करवा दें।

प्राइवेट सेक्टर से एलपीजी कनेक्शन:

ज़्यादातर प्राइवेट एजेंसियों में डॉक्यूमेंटेशन करने की ज़रूरत नहीं पड़ती। ऊपर दी गयी प्रक्रिया को ही फॉलो करें और 24 घंटे के भीतर आपको गैस कनेक्शन मिल जाएगा।

सिलिंडर भरवाना:

  • आपने सरकारी गैस कनेक्शन लिया है तो आपको एक साल में छह सिलिंडरों पर सब्सिडी मिलती है। यदि आप इससे ज्यादा सिलिंडर लेते हैं तो आपके रेग्युलर फीस ही ली जाएगी।
  • हमेशा सिलिंडर की सील और सेफ्टी कैप चेक करके ही लें।
  • सेफ्टी कैप हटाकर चेक करें कि वाल्व से कोई लीकेज तो नहीं हो रहा।
  • सिलिंडर को स्टोव से लगाएं और चेक करें कि लीकेज तो नहीं है।
  • अब पेमेंट करके रसीद लेना न भूलें।

यदि आप एक ही शहर में रहते हुए अपना पता बदल रहे हैं तो फॉलो करें यह प्रक्रिया:

  • अपने नए पते के प्रमाण पत्र और गैस सिलिंडर की रसीद के साथ अपनी गैस एजेंसी जाएं।
  • सभी जानकारी वेरीफाई कराने के बाद, एजेंसी आपको ट्रांसफर टर्मिनेशन वाउचर देता है।
  • इस वाउचर को आप अपने नए पते के पास वाली गैस एजेंसी को दें।
  • यहाँ से आपको नया ट्रांसफर सब्सक्रिप्शन वाउचर मिलेगा और एक नया गैस कनेक्शन नंबर भी।
  • याद रखें कि यह सभी जानकारी आप अपनी पासबुक में अपडेट करा लें।

ध्यान रखें: आपको अपने नए पते पर भी अपना पुराना सिलिंडर और प्रेशर रेगुलेटर लेकर जाना पड़ेगा।

यदि आप अपना शहर बदल रहे हैं तो यह प्रक्रिया फॉलो करें:

  • आपको सबसे पहले अपना सिलिंडर और प्रेसर रेगुलेटर अपनी एजेंसी को वापस करना होगा।
  • अपनी रसीद और पासबुक भी एजेंसी को वापस करें और नयी जगह के लिए वे आपको टर्मिनेशन सर्टिफिकेट दे देंगे। ध्यान से अपना डिपोजिट वापस लेना न भूलें।
  • नए शहर में अपने घर के पास एजेंसी का पता करें और आप नए सिरे से गैस कनेक्शन के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

इस लेख को आप अपने जानने-पहचानने वालों से साझा करें ताकि उनकी मदद हो सके!

मूल लेख: गोपी करेलिया

संपादन – अर्चना गुप्ता


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

20 साल से खराब ट्यूबलाइट्स को ठीक कर गाँवों को रौशन कर रहा है यह इनोवेटर!

इस महिला के बिना नहीं बन पाती भारत की पहली फिल्म!