in ,

घर में कैसे उगाएं प्याज, जानिए सस्ते और आसान तरीके!

प्याज उगाना बहुत ही आसान है और साथ ही, इसे बहुत ज्यादा जगह की ज़रूरत भी नहीं होती है।

प्याज, चाहे कच्चा खाया जाए या फिर ग्रेवी के लिए पकाया जाए, खाने के स्वाद को सिर्फ बढ़ाता ही है। अगर ये सब्ज़ी के डाइनिंग टेबल पर न हो तो सब-कुछ बहुत सूना-सूना लगता है।

अब ऐसे में, प्याज के दाम आसमानों को छूने लगें तो यह बैठे- बिठाए जेब का दर्द बन जाता है और साथ में, स्वाद का भी। पिछले कुछ महीनों से प्याज के दाम लोगों को बिन आंसू रुला रहे हैं। ऐसे में, दो ही रास्ते हैं या तो जेब की चिंता छोड़ दीजिए या फिर प्याज खाना।

थोड़ा मुश्किल चयन है, लेकिन इसे हम आपके लिए आसान बना सकते हैं। इससे न तो आपको जेब की फ़िक्र रहेगी और न ही सब्ज़ी में प्याज न होने का गम रहेगा- जी हाँ, इसका सस्ता और टिकाऊ रास्ता है कि आप खुद अपने घर में प्याज उगाइए और खाइए, साथ ही, आस-पड़ोस वालों को भी खिलाइए!

प्याज उगाना बहुत ही आसान है और इसे बहुत ज्यादा जगह की ज़रूरत भी नहीं होती है। द बेटर इंडिया आज आपको बता रहा है कि कैसे आप खुद अपने घर में प्याज उगा सकते हैं।

प्याज उगाने के लिए आपको कुछ बातें ध्यान में रखनी चाहिये:

सबसे पहले प्याज को पनपने के लिए ठंडे और खुशनुमा मौसम की ज़रूरत होती है। प्याज उगाने का सबसे अच्छा मौसम है नवंबर से फरवरी तक। किसी भी खुली जगह और यहाँ तक कि एक डिब्बे में भी प्याज उगा सकते हैं। पर ध्यान रखें कि मिट्टी उपजाऊ हो।

प्याज उगाने के तरीके:

1. अपने घर के बगीचे में उगाइए प्याज

आपको चाहिए:

  • प्याज के बीज- किसी नर्सरी से खरीदें या फिर ऑनलाइन मंगवाएं
  • ट्रे
  • ग्रो बैग्स
  • जैविक उर्वरक
  • गोबर
  • पानी

स्टेप 1: बीजों को तैयार करें

 

बीजों को एक दिन भिगोकर रखें। इसके बाद उन्हें सुखाएं और 2- 3 दिन के लिए खुले में रखें। इसके बाद ट्रे में मिट्टी भरकर बीजों को उसमें बो दें।

स्टेप 2: फसल के लिए जगह तैयार करें

 

बीजों को अंकुरित होने के लिए 6 से 8 हफ्ते चाहिए होते हैं। इस वक़्त में आप अपनी सैप्लिंग बोने के लिए जगह तैयार कर सकते हैं। आप अपने बगीचे, बालकनी या फिर ग्रो बैग में इन्हें लगा सकते हैं। आपको पौधों को पोषण देने के लिए उर्वरकों की ज़रूरत होगी। किसान अक्सर गोबर, यूरिया, और पोटाश आदि इस्तेमाल करते हैं, पर हम आपको सुझाव देंगे कि आप सिर्फ जैविक उर्वरक इस्तेमाल करें।

स्टेप 3: ट्रे का भी रखें ध्यान

ट्रे में लगाई सैप्लिंग्स का ध्यान रखें, रेग्युलर मॉनिटर करते रहें। हर रोज़ इनमें पानी दें ताकि बीजों को पनपने के लिए पर्याप्त नमी मिले। जब ट्रे में सैप्लिंग्स अंकुरित हो जाएं तो इन्हें तैयार जगह पर बो दें।

स्टेप 4: ध्यान रखें कि सैप्लिंग्स एक कतार में बोई गयी हैं

हर एक सैप्लिंग के बीच की दूरी लगभग 15 सेंटीमीटर होने चाहिए ताकि उन्हें उगने के लिए पर्याप्त जगह मिले।

स्टेप 5: 4- 5 महीने में आपकी फसल तैयार ही जाएगी

जब मिट्टी के ऊपर प्याज का तना दिखने लगें तो समझ जाइए आपकी फसल तैयार है। इसके बाद जब पत्तियां सूखने लगें तो आप मिट्टी से प्याज निकाल सकते हैं।

प्याज निकालकर उन्हें तीन दिनों के लिए छोड़ दें। इसके बाद प्याज के पत्तों को काट लें। हल्की धूप में इन पत्तो को सूखाने के बाद आप इनकी भी सब्ज़ी बना सकते हैं।

2. बचे हुए प्याज के टुकड़ों से उगाए प्याज

स्टेप 1. एक कंटेनर तैयार करें

जो भी कंटेनर आप लें, ध्यान रखें कि उसकी गहराई 6 इंच हो। इसकी चौड़ाई आप अपने हिसाब से ले सकते हैं कि आपको कितने प्याज उगाने हैं। आप एक टब का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

स्टेप 2. मिट्टी भरें

टब को मिट्टी से भरें और इस मिट्टी में पहले से ही खाद और पोषक तत्व मिलाकर रखें।

स्टेप 3. बचे हुए प्याज के टुकड़ों को चुने

Promotion

यह प्याज की जड़ वाला हिस्सा होना चाहिए। अक्सर हम प्याज काटते समय जड़ वाला हिस्सा काटकर फेंक देते हैं। आप इस हिस्से का इस्तेमाल कर अपने घर में प्याज उगा सकते हैं।

स्टेप 4. प्याज के टुकड़ों को मिट्टी में 2 इंच गहराई पर बोयें

दो इंच गहरा गड्ढा खोदें और प्याज के टुकड़े को इसमें लगाएं। फिर, इसे मिट्टी से ढक दें और इसमें पानी दें।

स्टेप 5. कंटेनर को ऐसी जगह रखें, जहां हर दिन 6-7 घंटे धूप मिले

मिट्टी को हमेशा नम रखें। बार-बार देखते रहें, जब भी हाथ से छूने पर आपको मिट्टी सूखी हुई लगे तो इसमें पानी दें।

स्टेप 6. हार्वेस्ट करें

इनमें धीरे-धीरे कोंपलें फूटने लगेंगी जो एक समय के बाद मिट्टी के ऊपर दिखने लगती हैं। जब इन कोंपल की लम्बाई 3 इंच हो जाए तो समझिये कि आपकी प्याज तैयार हैं। अब आप प्याज निकालें, इन्हें साफ़ करें और इस्तेमाल करें।

3. प्लास्टिक की बोतल में उगाएं हरे प्याज

यदि आपके घर में गार्डनिंग के लिए पर्याप्त जगह नहीं है तो आप प्लास्टिक की बोतल या फिर किसी और डिब्बे में भी प्याज उगा सकते हैं।

आपको चाहिए:

  • 5 लीटर की प्लास्टिक की बोतल
  • कैंची
  • हरे प्याज
  • मिट्टी

स्टेप 1: बोतल को तैयार करें

बोतल को गर्दन से काटें और फिर कैंची की मदद से बोतल की साइड्स में छेद करें। ध्यान रहे कि छेद प्याज के आकर के हिसाब से हो और एक-दूसरे से 3 इंच की दूरी पर हो ताकि प्याज को पनपने के लिए पर्याप्त जगह मिले।

स्टेप 2: मिट्टी को तैयार करके बोतल में भरें

मिट्टी में खाद आदि मिलाएं और इसे बोतल में भरें। सबसे पहले आपने जो छेद किए हैं वहां तक पहले मिट्टी भरें। ध्यान रहे कि इस मिट्टी में पोषक तत्व उचित मात्रा में हों। आप कोई भी जैविक उर्वरक भी मिला सकते हैं।

स्टेप 3: हरे प्याज बोएं

हरे प्याज के पौधों को आप इस तरह से बोएं कि जब वे पनपना शुरू करें तो उनकी पत्तियां छेद से बाहर निकलें।

पहली परत में प्याज बोने के बाद आप इसमें और मिट्टी भरें और फिर छेदों की अगली परत तक मिट्टी भरके प्याज लगाएं।

इस प्रक्रिया को तब तक करें जब तक कि बोतल भर न जाए।

स्टेप 4: इसके बाद बोतल के मुंह को टेप से बंद कर दीजिए।

स्टेप 5: बोतल को ऐसी जगह रखें जहाँ उसे 6 से 8 घंटों तक के लिए धूप मिले।

 

स्टेप 6: मिट्टी में नमी का ध्यान रखे और लगातार पानी देते रहें

 

स्टेप 7: हार्वेस्ट करें

एक बार जब हरे पत्ते दिखने शुरू हो जाएं तो आप 3 सेंटीमीटर की लम्बाई तक इन्हें काट सकते हैं। एक हफ्ते में ये फिर से बढ़ जाएंगे। अब आप अपनी प्याज की फसल का हर हफ्ते आनंद ले सकते हैं!

मूल लेख: जोविटा अरान्हा

संपादन – अर्चना गुप्ता


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

नौंवी कक्षा में पढ़ने वाले बच्चों को नहीं छोड़ना चाहिए ये मौका, ISRO ने निकाला आवेदन!

एक्सपर्ट सलाह: 100+ परिवारों वाली सोसाइटी कैसे बना सकती है कचरे से कई किलो खाद!