in ,

वॉटरलेस शैम्पू और बॉडी बाथ: अब बेफिक्र होकर जाएँ ट्रेवलिंग या ट्रैकिंग पर!

अब आप बिना पानी के भी खुद को स्वच्छ रख सकते हैं!

हिमालय पर ट्रैकिंग करना किसी सपने से कम नहीं! ज़िंदगी के इस खूबसूरत अनुभव के साथ-साथ और बहुत-सी बातें हैं जो अक्सर परेशानी का सबब बन जाती हैं जैसे कि नहाना और सिर आदि धोना इत्यादि। जी हाँ, अब आपको न जाने कितने दिन उन पहाड़ों में बिताने हैं, जहां नहाने के लिए पानी और साफ़-सुथरी जगह मिलना बहुत ही मुश्किल है और अगर मिल भी जाए तो शरीर जमाने वाली ठंड में नहाना और सिर धोना शायद पहाड़ चढ़ने से भी ज्यादा मुश्किल हो।

इस बात को ध्यान में रखते हुए, आईआईएम कोलकाता से पासआउट डॉ. पुनीत गुप्ता ने वॉटरलेस पर्सनल हाइजीन प्रोडक्ट्स बनाए हैं जैसे कि शैम्पू और बॉडी बाथ, जिससे आप बिना पानी के भी खुद को स्वच्छ रख सकते हैं।

आप इन वॉटरलेस हाइजीन प्रोडक्ट्स को आज ही ऑनलाइन खरीद सकते हैं और अगली बार ट्रैवलिंग या फिर ट्रैकिंग के दौरान इस्तेमाल कर सकते हैं।

कैसे इस्तेमाल करें इन प्रोडक्ट्स को:

क्लेंस्टा प्रोडक्ट्स के लिए आपको पानी की ज़रूरत बिल्कुल भी नहीं होती है।

बॉडी बाथ:

 

इसे अपनी हथेलियों पर छिड़कें और फिर अपने शरीर पर हल्के से मसाज करें। इसके बाद एक साफ़ तौलिया या फिर टिशू से पोंछ लें। आप इसे सीधा अपने शरीर पर भी स्प्रे कर सकते हैं और फिर तौलिए से पोंछ सकते हैं।

शैम्पू:

 

क्लेंस्टा शैम्पू, बाज़ारों में मिलने वाले रेग्युलर एल्कोहल बेस्ड शैम्पू स्प्रे से काफी बेहतर है। जरा-सा शैम्पू अपनी हथेलियों पर लीजिए और रब करके अपने बालों में लगाइए। हल्के से मसाज कीजिए और तौलिए से धीरे-धीरे बालों को सुखाइए।

क्लेंस्टा के बारे में क्या है ख़ास:

  • क्लेंस्टा प्रोडक्ट्स में 0% एल्कोहल, सोडियम लॉरेल सल्फ़ेट, ग्लूटेन और पराबेन होता है।
  • ये प्रोडक्ट्स हैंडी बोतल में आते हैं जिन्हें आप कहीं भी ले जा सकते हैं।
  • बॉडी बाथ और शैम्पू, दोनों ही प्रोडक्ट्स ट्रैवलर्स और चल-फिर न सकने वाले लोगों के लिए अच्छे विकल्प हैं।
  • दोनों प्रोडक्ट्स को त्वचा के लिए टेस्ट किया गया है और 152 देशों में इन प्रोडक्ट्स पर क्लेंस्टा का पेटेंट है।
  • ये प्रोडक्ट्स आपके शरीर से धूल-मिट्टी, बदबू और कीटाणुओं को हटाकर, आपको ताज़गी देते हैं और वह भी पानी के इस्तेमाल के बिना।
  • ये प्रोडक्ट्स शरीर का पीएच लेवल भी मेंटेन करते हैं और आपकी त्वचा को बिल्कुल भी खुश्क नहीं करते हैं।
  • 100 मिली का ये सल्युशन 350 लीटर तक पानी बचा सकता है।

इन प्रोडक्ट्स के बारे में अधिक जानने और खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करें!

मूल लेख: तन्वी पटेल

संपादन: अर्चना गुप्ता


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

60 पेड़ों से शुरू की आंवले की जैविक खेती, 1.25 करोड़ रुपये है कमाई!

प्रोफेसर बना कृषि इनोवेटर, सौर ऊर्जा से किया किसानों का काम आसान!