in ,

सेवा, सुरक्षा और भाईचारे के आदर्श को चरितार्थ करते SSB के जवान!

शस्त्र सीमा बल भारत के केंद्रीय पुलिस सुरक्षा बल में से एक है। सालों से भारत-तिब्बत सीमा पर मुस्तैद भारतीय सशस्त्र सीमा बल के जवान न केवल देश पर मर मिटने का ज़ज्बा रखते है बल्कि वक्त पड़ने पर लोगों की सहायता कर, मानवता की मिसाल भी पेश करते हैं।

एक बार फ़िर से SSB के जवानों ने असम के पलाऊ सोनपुर गाँव के निवासी एक ग्रामीण की न सिर्फ जान बचायी बल्कि उसके इलाज के लिए सहायता राशि भी एकत्र करने में मदद की।

51095a1f6-6f74-438f-b0b2-22af30d64df9
एसएसबी के जवान
(image for representational purpose only)
Photo source: ssb.nic.in

अधिकारियों ने बताया कि , एक स्थानीय महिला ने अर्धसैनिक बल की यूनिट से संपर्क किया और सहायता माँगी कि उसके पति, के. नरज़ारि गंभीर रूप से बीमार हैं और उन्हें चिकित्सकीय सहायता की ज़रुरत है। SSB  चौकी के प्रभारी उपनिरीक्षक सुनील कुमार ने तत्काल महिला की परेशानी के बारे में अपने जवानों से बात की।

इसके बाद तुरंत ही SSB यूनिट के वायरलैस पर सन्देश जारी किया गया  और वहां से 8 किलोमीटर दूर अमटेका गाँव से असम सरकार की एम्बुलेंस बुलाई गयी ।

इसी बीच जवानों ने रु. 11000 जुटाये और यह राशि संभावित चिकित्सकीय ख़र्च के लिए के . नारज़ारि की पत्नी को दे दिए।

जल्द ही के . नारज़ारि को निचले असम के बोगईगांव स्थित एक अस्पताल भेज दिया गया। जवानों के अलावा कुछ स्थानीय लोगों ने भी मदद की पेशकश की ।

मूल लेख – वरुण जड़िया


यदि आपको ये कहानी पसंद आई हो या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें contact@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter (@thebetterindia) पर संपर्क करे।

शेयर करे

Written by भाग्यश्री सिंह

भाग्यश्री सिंह ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से पत्रकारिता की पढाई की है। इन्होंने लाइव इलाहाबाद टीवी चैनल में काम किया और साथ ही ये हेलो कैंपस न्यूज़ पोर्टल और कलाकारी क्रिएशन से भी जुडी हुयी हैं। भाग्यश्री अपने विचारों को लेख, कविता व कहानी के माध्यम से फेसबुक पेज “My thoughts My vision “ पर लोगों से साझा करती हैं। इन्हें घूमना बहुत पसंद है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

समाज को बेहतर बनाने के लिए ‘उद्देश सोशल फाउंडेशन’ के युवा करा रहे हैं लोगों से लोगों की मदद!

सैकड़ों साल पुरानी कुप्रथा तोड़, किन्नरों का पिंडदान करेंगे बनारस के 151 पंडित!