in

निराला : ध्रुपद : गुंदेचा बंधु : अंतिम प्रणाम

आइये एक चाय पद्म श्री रमाकांत गुंदेचा जी के नाम पी जाए. जिनका कुछ दिनों पहले 57 वर्ष की अल्पायु में आकस्मिक निधन हुआ है.

निराला जी शास्त्रीय रागों पर आधारित कविताएँ लिखा करते थे, उनकी एक कविता पर नज़र डालिए:

ताक कमसिनवारि,
ताक कम सिनवारि,
ताक कम सिन वारि,
सिनवारि सिनवारि।

ता ककमसि नवारि,
ताक कमसि नवारि,
ताक कमसिन वारि,
कमसिन कमसिनवारि।

इरावनि समक कात्,
इरावनि सम ककात्,
इराव निसम ककात्,
सम ककात् सिनवारि।

शास्त्रीय संगीत के बारे में कोई कभी नहीं कहेगा कि इसमें अनर्थक शब्दों के साथ खेल होता है. और मश्हूरे-ज़माना संगीतज्ञ के मुँह से ऐसी बात सुन कर हम चौंक पड़े थे. बात हो रही थी ध्रुपद गायन के चमकते सितारे गुंदेचा बंधुओं से. ‘तब हमने सोचा कि इन अनर्थक शब्दों के बजाय क्यों न हम सार्थक कविता को चुनें..’ उसके बाद उन्होंने हिंदी कविता के मूर्धन्य कवि सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ जी के संगीत प्रेम और ज्ञान के बारे में बताया और उनकी कुछ कविताएँ भी सुनायीं जो आज आपके लिए शनिवार की चाय में प्रस्तुत हैं.

Promotion

आइये एक चाय पद्म श्री रमाकांत गुंदेचा जी के नाम पी जाए. जिनका कुछ दिनों पहले 57 वर्ष की अल्पायु में आकस्मिक निधन हुआ है.


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

शेयर करे

mm

Written by मनीष गुप्ता

हिंदी कविता (Hindi Studio) और उर्दू स्टूडियो, आज की पूरी पीढ़ी की साहित्यिक चेतना झकझोरने वाले अब तक के सबसे महत्वपूर्ण साहित्यिक/सांस्कृतिक प्रोजेक्ट के संस्थापक फ़िल्म निर्माता-निर्देशक मनीष गुप्ता लगभग डेढ़ दशक विदेश में रहने के बाद अब मुंबई में रहते हैं और पूर्णतया भारतीय साहित्य के प्रचार-प्रसार / और अपनी मातृभाषाओं के प्रति मोह जगाने के काम में संलग्न हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

बंगलुरु के इस शख्स के लिए है ‘कचरा माने घर,’ सेकंड हैंड और वेस्ट मटेरियल का किया इस्तेमाल!

20 लाख+ महिलाओं का किया हेल्थ चेक अप, ब्रेस्ट कैंसर को फर्स्ट स्टेज में ही रोकने की है मुहिम!