in ,

‘अच्छी नीयत में बहुत ताकत होती है,’ विजिटिंग कार्ड ने बदली काम वाली मौसी की ज़िंदगी!

एक व्हाट्सएप ग्रुप से ही उनका कार्ड इस कदर वायरल हो गया कि गीता को पुणे, मुंबई और भी कई इलाकों से फ़ोन आने लगे!

पुणे के बावधन इलाके में  रहने वाली गीता काले घर घर जाकर झाड़ू-पोछा, बर्तन व खाना बनाने का काम करती हैं। पर पिछले कुछ दिनों से उन्हें काम पर रखने के लिए पुणे ही नहीं बल्कि मुंबई से भी फोन आ रहे हैं। देखते-देखते ये कॉल्स इतने बढ़ गए कि उन्हें अपना फ़ोन स्विच ऑफ रखना पड़ा।

उनके साथ ऐसा क्यों हो रहा है, इसकी वजह जानकर आप मुस्कुरा उठेंगे और आपको इस बात पर यकीन हो जायेगा कि हम पूरी दुनिया तो नहीं बदल सकते लेकिन अगर चाहें तो किसी एक इंसान की दुनिया बिल्कुल बदल सकते हैं। क्योंकि ‘अच्छी नीयत में बहुत ताकत होती है।’

ऐसा ही कुछ गीता के साथ हुआ। घरेलु सहायक का काम करने वाली गीता का विजिटिंग कार्ड इंटरनेट पर आपको आसानी से मिल जाएगा। जी हाँ, विजिटिंग कार्ड, जिस पर गीता का नाम, वह क्या-क्या काम करती हैं और किस काम के कितने पैसे लेती हैं आदि लिखा है और साथ ही लिखा है- ‘आधार कार्ड वेरीफाईड’!

Geeta’ Visiting card that went viral

जब से उनका यह विजिटिंग कार्ड सोशल मीडिया पर गया है तब से उन्हें लगातार लोगों के फ़ोन आ रहे हैं। इंटरनेट पर बहुत से लोग उनके इस आईडिया की सराहना कर रहे हैं।

पर हर किसीको हैरानी है कि गीता जो यह आईडिया आया कहाँ से?

दरअसल, यह विजिटिंग कार्ड बनाने का आईडिया एक मार्केटिंग प्रोफेशनल, धनश्री शिंदे का था, जिनके घर पर गीता काम करती हैं। कुछ दिनों पहले जब गीता काम कर रही थी, तो धनश्री को लगा जैसे गीता कुछ परेशान सी हैं। उन्होंने गीता से उसकी परेशानी की वजह पूछी तो पता चला कि किसी वजह से उनका एक दूसरा काम छुट गया है। इसमें उनकी कोई गलती नहीं थी, बस हालात ही ऐसे हो गये थे।

लेकिन इस एक काम के छूटने से गीता की महीने की आमदनी पर बहुत ज़्यादा असर हुआ। इसलिए वह जल्द से जल्द दूसरी जगह काम ढूँढना चाह रही थीं।

Geeta Kale

उनकी परेशानी सुनकर धनश्री गीता के लिए कुछ करना चाहती थीं। वह सोचने लगीं कि अपनी तरफ से वह ऐसा क्या कर सकती हैं जिससे गीता को जल्द से जल्द काम मिल जाए। ऐसे में, उनकी ब्रांडिंग और डिजाइनिंग स्किल्स उनके काफ़ी काम आयी। उन्होंने बताया कि फ़ोन स्क्रॉल करते समय उन्हें अचानक एक वेबसाइट का ख्याल आया, जिस पर विजिटिंग कार्ड डिजाईन कर सकते हैं। उन्होंने गीता के लिए भी विजिटिंग कार्ड बनाने की सोची।

Promotion

उन्होंने तुरंत गीता को अपने पास बुलाया, उनसे सभी ज़रूरी जानकारियां ली और एक विजिटिंग कार्ड डिजाईन कर दिया। इतना ही नहीं, उन्होंने खुद उनके लिए कुछ कार्ड्स प्रिंट भी करवाए, जिसमें कुछ उन्होंने खुद ले लिए रखे, कुछ अपने जान-पहचान वालों को दिए और बाकी कार्ड्स गीता को दे दिए।

Geeta Kale with Dhanashree Shinde

धनश्री ने गीता से कहा कि वह ये कार्ड्स सोसाइटी में गार्ड्स और दूसरे कर्मचारियों को दे दें  क्योंकि अक्सर उन लोगों से ही सोसाइटी में रहने वाले घरेलु सहायक के लिए पूछते हैं। धनश्री ने खुद भी कार्ड की फोटो अपने एक व्हाट्सएप ग्रुप में डाल दी और अपने कुछ दोस्तों से इसे शेयर करने को भी कहा।

हालांकि, उनकी सोच सिर्फ़ इतनी थी कि गीता को बावधन में कहीं काम मिल जाये। लेकिन एक व्हाट्सएप ग्रुप से ही उनका कार्ड इस कदर वायरल हो गया कि गीता को पुणे, मुंबई और भी कई इलाकों से फ़ोन आने लगे। दूसरे दिन जब गीता उनके यहाँ काम करने पहुंची तो लगातर उनका फ़ोन बज रहा था।

एक वक़्त के बाद तो उन्होंने फ़ोन को स्विच ऑफ ही कर दिया। लेकिन इन सबके बीच अच्छी बात यह हुई कि उन्हें अपने ही इलाके में अच्छी जगह काम मिल गया और अब उन्हें कोई परेशानी नहीं है। इसके अलावा, उनका वायरल विजिटिंग कार्ड बहुत से लोगों के लिए एक अच्छी प्रेरणा भी बन गया है कि काम छोटा या बड़ा नहीं होता, काम सिर्फ़ काम होता है, जिसका सभी को सम्मान करना चाहिए।

अंत में धनश्री सिर्फ़ यही कहती हैं, “जो लोग हमारी रोज़मर्रा की ज़िंदगी में हमारी मदद करते हैं, चाहे वह काम वाली मौसी हो या फिर ड्राईवर, उनके प्रति हमें संवेदना रखनी चाहिए। ये लोग भी मेहनत से काम कर रहे हैं तो उन्हें वह सम्मान देना चाहिए जिसके वे हक़दार हैं और इसी से ये दुनिया खुबसुरत बनेगी।”

संपादन – मानबी कटोच 


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

मदन मोहन मालवीय: वह स्वतंत्रता सेनानी जो अकेले 172 क्रांतिकारियों को बचा लाया था।

अब खुद अपने पैरों पर खड़े हो पाएंगे दिव्यांग, IIT मद्रास ने बनायी ख़ास ‘स्टैंडिंग व्हीलचेयर’!