in

पटाखे : पंछी : मिस श्रीवास्तव की लाइटिंग

आज की शनिवार की चाय महानगरों में अकेले रहने वाले दिलजलों के नाम, चियर्स!!


फड़ फड़ फड़ फड़

दो दिन हैं अभी दीवाली को
साफ़ आसमान
गुलाबी ठण्डक
कोई पटाखा नहीं
लेकिन मन अभी से
दीवाली की शोरीली रात
का पंछी हुआ है
न पिए चैन
न बिन पिए

 

फड़ फड़

 

देर तक गूँजती
महानगर के शोर में
अंदरूनी सन्नाटे की भाँय भाँय
धाँय सी, पड़ोस से आती हँसी
साल भर अकेले रहने के मज़े ले लो
त्यौहार पूरी क़ीमत वसूल लेते हैं

 

फड़ फड़
फड़ फड़

 

बाप का अस्थमा
माँ के अनरसे
बिखर तो नहीं गए होंगे इस बार..
हैं? पड़ोस में ये लाल साड़ी में कौन पधारी है
बिल्कुल समीक्षा की तरह दिखती है
वही तो नहीं?
ये बीस की है, वो
चालीस के करीब होगी
लेकिन फिर भी झाँकता है
दरवाज़े की चौखट पर जा बैठा पंछी

 

फड़ फड़

 

ये कभी समझ नहीं आया
मिसेज़ श्रीवास्तव ने
मिस्टर से शादी क्यों की?
न अमीर है ऐसा कोई
न दिखने में संजीव कुमार

 

फड़ फड़
आज चमकीले नीले में है.
मुंबई का असर,
मोगरे का गजरा
जँच रहा है
फड़

 

फड़ फड़ फड़
फड़ फड़

Promotion

 

चौखट से थोड़ा और आगे खिसकता है पंछी
आज किसी को फ़ोन लगा
अपनी जान जलाने से अच्छा है
मिस श्रीवास्तव ही
लाइट्स लगाने के लिए बुला लें

 

फड़ फड़
फड़ फड़ फड़ फड़ फड़ फड़
फड़ फड़ फड़ फड़ फड़ फड़
फड़ फड़ फड़ फड़
फड़ फड़ फड़ फड़
फड़

 

गिर जा लाइट
गिर जा लाइट.. फड़!

 

आज की शनिवार की चाय महानगरों में अकेले रहने वाले दिलजलों के नाम, चियर्स!!
और ये वीडियो, शायद दिल बहल जाए :


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

शेयर करे

mm

Written by मनीष गुप्ता

हिंदी कविता (Hindi Studio) और उर्दू स्टूडियो, आज की पूरी पीढ़ी की साहित्यिक चेतना झकझोरने वाले अब तक के सबसे महत्वपूर्ण साहित्यिक/सांस्कृतिक प्रोजेक्ट के संस्थापक फ़िल्म निर्माता-निर्देशक मनीष गुप्ता लगभग डेढ़ दशक विदेश में रहने के बाद अब मुंबई में रहते हैं और पूर्णतया भारतीय साहित्य के प्रचार-प्रसार / और अपनी मातृभाषाओं के प्रति मोह जगाने के काम में संलग्न हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

पॉजिटिव एटीट्यूड से हराया कैंसर को, अब 65 वर्ष की उम्र में दौड़ती हैं मैराथन!

सेनापति बापट : गुलाम भारत में किसानों को आज़ाद कराने वाला वीर सिपाही!