in ,

रागी नूडल्स: अब हेल्दी भी हो सकता है फ़ास्ट फ़ूड!

नुक्कड़ की देसी चाउमीन हो या फिर किसी बड़े रेस्तरां के हाका नूडल्स, गार्लिक नूडल्स या शैजवान नूडल्स, ये सब तो आपने बहुत खाए होंगे। लेकिन इस बार ट्राय करें ये ख़ास रागी नूडल्स… जिनमें स्वाद भी है और सेहत भी!

दिल्ली में थी जब पहली बार दोस्तों के साथ चायनीज खाना ट्राय किया था और बस तब से ही पता चला कि अगर चायनीज में कुछ खाना है तो मैं या तो मोमोज खा सकती हूँ या फिर नूडल्स। हाँ, पर तब भी अक्सर कहीं पर भी चायनीज ऑर्डर करने में झिझकती थी।

अब चूल्हे की रोटियों पर आधी कटोरी घी में छोंक मारके बनी हरी मिर्च के स्वाद के साथ बड़ी हुई हरियाणवी छोरी को कहाँ एकदम से विदेशी खाने की लत लगती।

पर कहते हैं न कि लोगों के पलायन के साथ-साथ उनके खाने-पीने के व्यंजन और संस्कृति भी पलायन करते हैं। तभी तो नूडल्स के सबसे ज़्यादा दीवाने चीन के बाद शायद अपने यहां ही मिले। इसीलिए दिल्ली और हैदराबाद जैसे शहरों ने मुझे भी नूडल्स का शौक़ीन बना दिया।

साभार: शटरस्टॉक

और जैसा कि मेरी एक दोस्त कहती है, “यार नूडल्स हैं और नूडल्स किसे पसन्द नहीं होते…” वाकई नूडल्स किसे पसन्द नहीं होते। नुक्कड़ की देसी चाउमीन हो या फिर किसी बड़े रेस्तरां के हाका नूडल्स, गार्लिक नूडल्स या फिर शैजवान नूडल्स। अब कोई इसे बहुत सोफिस्टिकेटेडली चॉपस्टिक से खाए या फिर मेरी तरह कांटे वाली चम्मच से… पर नूडल्स का कोई सानी नहीं।

यह भी पढ़ें: गोवा के बीच रिसोर्ट तो बहुत देखे होंगे, इस बार देखिये मसाला बागान के फार्म स्टे!

हाँ, लेकिन नूडल्स के प्यार में सेहत को ध्यान में रखना भी बहुत ज़रूरी है। क्योंकि मैदे से बनें नूडल्स भले ही कितने भी टेस्टी हों पर जीभ के स्वाद के साथ-साथ अपने स्वास्थ्य का स्वाद भी बनाये रखने वाले होने चाहिए। खासकर कि बच्चों के मामले में, क्योंकि अक्सर दूसरे दिन ही उनकी फरमाइश पर नूडल्स टिफिन में जाते हैं।

अब बच्चों को उनके फेवरेट नूडल्स खाने से तो रोक नहीं सकते, इसलिए जरूरी है कि आप नूडल्स के विकल्प बदल लें। जी हाँ, मैदे की जगह रागी के नूडल्स बनाएं, ये हेल्दी तो है ही और स्वाद में भी लाजवाब हैं।

Promotion

एक कटोरी-भर रागी नूडल्स, दो लोगों के लिए पर्याप्त होते हैं। पर बाजार में इन ऑर्गेनिक रागी नूडल्स और अन्य पौष्टिक नूडल्स का मिलना आसान नहीं। इसलिए अगर आप ये हेल्दी और टेस्टी नूडल्स खरीदना चाहते हैं तो यहां क्लिक करें

साथ ही, नूडल्स बनाने के लिए ज़रूरी ऑर्गेनिक आरेबियाता सॉस (Arrabiata Sauce) भी आप यहां से खरीद सकते हैं।

सामग्री :

1 कटोरी रागी नूडल्स
3/4 कटोरी लाल, पीली और हरी शिमला मिर्च, लम्बी कटी हुई
1/2 कटोरी कटी हुई गाजर
1 बड़ी चम्मच कटे हुए हरे प्याज
1 लहसुन की पत्ती
1 कटा हुआ प्याज
1 चम्मच मक्खन
1 चम्मच तेल
1 चुटकी काली मिर्च पीसी हुई
नमक स्वादानुसार
ज़रुरत के हसाब से आरेबियाता सॉस

तैयारी:

  1. मध्यम आंच पर एक बर्तन में पानी गर्म करें।
  2. इसमें एक चुटकी नमक और 1/4 चम्मच तेल डालें।
  3. अब इसमें नूडल्स को डालें और 5 मिनट तक पकने दें।
  4. फिर बचे हुए पानी को निकाल दें और ठंडे पानी से नूडल्स को धो लें और इसे ठंडा होने दें।
  5. दूसरे पैन में, तेल और मक्खन को मध्यम आंच पर गर्म करें।
  6. इसमें लहसुन डालें और इसे हल्का लाल होने तक भूनें।
  7. लहसुन पर रंग आने के बाद इसमें लाल, हरी, पीली शिमला मिर्च डालें और भूनें।
  8. इसमें दो चम्मच भर कर आरेबियाता सॉस डालें, थोड़ा नमक डालें और अच्छे से मिलाएं।
  9. यह पूरा तैयार होने के बाद इसमें नूडल्स डाल दें और अच्छे से मिलाएं ताकि सभी नूडल्स पर बराबर मसाला चढ़े।
  10. ध्यान रखें कि सभी सामग्री अच्छे से मिल गई है और फिर ऊपर से काली मिर्च का पाउडर छिड़कें।
  11. कुछ देर पकने के बाद अपने नूडल्स को आंच से उतार लें।
  12. हरे प्याज से सजाएं और गर्म-गर्म सर्व करें।

यह भी पढ़ें: पिता से सीखा ऑर्गेनिक अचार बनाने का गुर, नौकरी छोड़ कर शुरू किया स्टार्टअप!

संपादन: भगवती लाल तेली
(Inputs From Tanvi Patel)


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

hunger free india

5.6 महीने तक दौड़कर जुटाया 650 से ज्यादा गरीब बच्चों के लिए साल भर का खाना!

लीक हो रहे नलों को ढूंढकर ठीक करते हैं ये युवा; 30% नगर निगम के पानी को बर्बादी से बचाया!