in

ऑपरेशन संकटमोचन: अब तक 149 भारतीयों को हिंसाग्रस्त दक्षिण सूडान से लाने में कामयाब !

हिंसाग्रस्त दक्षिण सूडान में फंसे हुए भारतीयों को स्वदेश लाने के लिए वायुसेना ने 2 एयरक्राफ्ट, जूबा भेजे हैं। वायुसेना के दो C-17 एयरक्राफ्ट से सूडान में फँसे लगभग 600 भारतीयों को वापस लाया जाएगा। गुरुवार, 14 जुलाई 2016 को 149 भारतीयों को सुरक्षित वापस लाया गया है।

विदेश राज्यमंत्री जनरल वी.के सिंह के नेतृत्व में होने वाले इस अभियान को “ऑपरोशन संकटमोचन” नाम दिया गया है।

“हमारी पूरी कोशिश होगी कि फंसे हुए भारतीयों को सुरक्षित ले आया जाए”, रवाना होने से पहले जनरल वी.के सिंह ने कहा।

उनके साथ विदेश मंत्रालय में आर्थिक संबंधों के सचिव अमर सिन्हा, संयुक्त सचिव सतबीर सिंह और निदेशक अंजनी कुमार भी गए हैं। मंत्रालय के अनुसार सूडान में करीब 600 भारतीय हैं, जिनमें 450 राजधानी जूबा में ही हैं।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने उनको निकाले जाने के अभियान की घोषणा की थी। सूडान में भारतीय राजदूत श्रीकुमार मेनन अपनी टीम के साथ जूबा में इसका प्रबंध देख रहे हैं।

Promotion
Banner

केवल वैध दस्तावेजों के साथ ही लोगों को आने की इजाजत दी गयी। गुरुवार, 14 जुलाई को 149 भारतीयों को सुरक्षित वापस लाया गया है

 


दक्षिण सूडान में राष्ट्रपति सल्वा कीर और उपराष्ट्रपति रिएक मचर के समर्थकों के बीच युद्ध छिड़ा हुआ है। संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक सूडान में युद्ध की वजह से करीब 36,000 लोग अपने घरों से पलायन कर चुके हैं।
इसके पहले 2015 में जनरल वीके सिंह के नेतृत्व में हिंसाग्रस्त यमन से लोगों को छुड़ाने के लिए “ऑपरोशन राहत” चलाया गया था। इसमें भारत के अलावा पड़ोसी देशों के नागरिकों को भी सुरक्षित लाया गया था। “ऑपरेशन राहत” की विश्व पटल पर काफी प्रशंसा हुई थी।

यदि आपको ये कहानी पसंद आई हो या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें contact@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter (@thebetterindia) पर संपर्क करे।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by आकाँक्षा शर्मा

आकाँक्षा शर्मा ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय के सेंटर ऑफ मीडिया स्टडीज से पत्रकारिता
की पढ़ाई की है। लिखने का इतना शौक रखती है कि लिखने का बस बहाना चाहिए। किताबों से गहरी दोस्ती है। आकाँक्षा अपनी पढ़ाई के दौरान जी मीडियाके साथ भी काम कर चुकी है।

अमरनाथ यात्रियों की बस दुर्घटनाग्रस्त हुई तो कर्फ्यू तोड़ कर बचाने पहुंचे कश्मीरी मुसलमान !

कश्मीर में उपद्रव के बीच, 40 किमी पैदल चलकर, घायलों के इलाज के लिए अस्पताल पहुंची ये नर्स !