in ,

इन तरीकों से बचा सकते हैं फल और सब्ज़ियाँ ख़राब होने से!

क्या आपको पता है कि आलू को प्याज के साथ रखने से, वे जल्दी ख़राब होते हैं? क्योंकि प्याज से निकलने वाली गैस और नमी की वजह से आलू में स्प्राउट्स होने लगते हैं!#LiveGreen #Lifestyle

म सबको पता है कि सब्ज़ियों और फलों की शेल्फ-लाइफ ज़्यादा नहीं होती है। अगर एक-दो दिन में इन्हें इस्तेमाल न किया जाए तो यह खराब हो जाती हैं। हर किसी के घर में हफ्ते में थोड़ी-बहुत सब्ज़ियाँ और फल तो ख़राब होते ही हैं और इस वेस्ट की कोई गिनती नहीं होती है।

इसलिए आज हम आपको ऐसे कुछ छोटे-छोटे टिप्स बता रहे हैं, जिनसे आप यह वेस्टेज रोक सकते हैं। इससे आपके फल-सब्ज़ियाँ तो बचेंगे ही, साथ ही, इन पर खर्च हुए पैसे भी व्यर्थ नहीं जाएंगे। इन स्टेप्स से आप फल और सब्जियों को ज़्यादा दिन तक स्टोर भी कर सकते हैं और उन्हें फ्रेश भी रख पाएंगे।

1. जितनी ज़रुरत हो, उतना ही खरीदें

फोटो-साभार: शटरस्टॉक

आपके फल और सब्ज़ियाँ खराब न हो, उसके लिए सबसे पहले ज़रूरी है कि आपको पता हो कि आपकी ज़रुरत कितनी है। उसी हिसाब से खरीददारी करें। साथ ही, सबसे पहले स्टॉक में बचे हुए सामान को इस्तेमाल करें। अगर आपका पहला स्टॉक खत्म नहीं हुआ है और आप उससे पहले ही खरीददारी करके ला रहे हैं तो इससे आपका वेस्टेज बढ़ेगा ही।

टिप: आखिर में बची हुई थोड़ी-बहुत सब्ज़ियों का अच्छा इस्तेमाल है कि आप मिक्स-वेज सब्ज़ी बना लें और फलों को आप सलाद के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं।

2. प्लास्टिक से अपनी सब्ज़ियों को बचाएं

खरीदें वैजी टू फ्रिजी बैग

हम सभी को पॉलिथीन में फल और सब्ज़ियाँ लाने में और फिर उन्हें पॉलिथीन में ही फ्रिज में स्टोर करने में बुरा लगता है। पर फिर भी इस समस्या को हम नज़रअंदाज करते हैं। पॉलिथीन में बंद ताज़ा सब्ज़ियाँ और फल बहुत जल्दी ख़राब होते हैं।

यह भी पढ़ें: धारावी में बन रहे हैं बचे-कुचे कपड़ों से ये ख़ूबसूरत और किफायती बैग्स!

इसलिए ज़रूरी है कि आप आज ही एक छोटा-सा कदम उठाए और प्लास्टिक की जगह सूती कपड़े का बैग इस्तेमाल करें। धीरे-धीरे ही सही पर सूती कपड़े के बैग को रोज़मर्रा का हिस्सा बनाएं और कहीं भी जाते समय हमेशा यह अपने साथ रखें। इस बैग को आप फ्रिज में भी आसानी से रख सकते हैं। इसमें आपकी सब्ज़ियाँ बिल्कुल फ्रेश रहेंगी।

टिप : स्मार्ट शॉपिंग करें और आज ही सूती कपड़े से बना ‘वैजी टू फ्रिजी’ बैग खरीदें। इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें!

3. सब्ज़ियों को स्टोर करते समय सावधानी बरतें

फोटो-साभार: शटरस्टॉक

हर एक सब्ज़ी को आप फ्रिज में नहीं रख सकते हैं और ज़रूरी नहीं कि आप तुरंत खरीद के बाद हर एक फल को धोएं। इसलिए अगर आप इनकी सेल्फ-लाइफ बढ़ाना चाहते हैं तो बहुत ही तरीके से स्टोर करें।

Promotion

जैसे कि भले ही प्याज और आलू को सामान्य तापमान में रखना चाहिए, लेकिन उन्हें साथ में रखना नहीं चाहिए। क्योंकि जो गैस और नमी प्याज से निकलती है, उसकी वजह से आलू में स्प्राउट होने लगते हैं और उसकी सेल्फ-लाइफ कम हो जाती है।

यह भी पढ़ें: पिता से सीखा ऑर्गेनिक अचार बनाने का गुर, नौकरी छोड़ कर शुरू किया स्टार्टअप!

इसलिए, इन्हें अलग-अलग ऐसे जगह पर रखें, जहाँ हवा और ठंडक हो, लेकिन नमी न हो।

4. ढक कर रखें

एक सब्ज़ी या फल से निकलने वाली गैस और नमी, दूसरे को नुकसान न पहुंचाए, इससे बचने का एक अच्छा तरीका है कि आप इन्हें अच्छे से कपड़े या फिर स्पेशल रैप से ढक कर रखें। इसके लिए आप बी वैक्स रैप इस्तेमाल कर सकते हैं, ये री-यूजेबल हैं और आप इन्हें आधे कटे प्याज या फिर तरबूज आदि को स्टोर करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसी तरह, केले और संतरे के लिए आप ऑर्गेनिक कॉटन से बनी रैप इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि ये दोनों फल सामान्य तापमान पर रखे जाते हैं।

5. स्वच्छता, ताज़गी की तरफ सबसे पहला कदम है

साभार: शटरस्टॉक

अपने फ्रिज को यदि आप एकदम साफ़-सुथरा रखेंगे तो आपके फल और सब्ज़ियाँ, लंबे समय तक ताज़ा रहेंगे।

कैसे?

कहते हैं न कि एक ख़राब सेब, पूरी टोकरी के फलों को सडा देता है। तो यदि आप उन जगहों की रेग्युलर साफ-सफाई करते हैं जहाँ आप अपने फल और सब्जियां रख रहे हैं तो इससे ख़राब चीज़ें स्टोर में नहीं रहेंगी। इससे सभी तरह के कीट-पतंगे दूर रहेंगे और ताज़ा सब्ज़ियाँ व फल ख़राब नहीं होंगे।

इसलिए यह सुनिश्चित करें कि आप सभी जगहों की हफ्ते में अच्छे से सफाई करते हैं। इसके लिए, आप प्लास्टिक की जगह ग्लास के डिब्बे आदि खरीद कर अपनी किचन को इको-फ्रेंडली बना सकते हैं!

संपादन: भगवती लाल तेली
मूल लेख: तन्वी पटेल


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

saba bano lucknow

मिलिए लखनऊ की शबा बानो से; सपेरों से छीनकर अब तक 1500 सांपों को कर चुकी हैं आज़ाद!

bhuwnesh ojha

18 साल की उम्र में लगाया था पहला पौधा, 6 साल में 22 पार्कों की बदल दी सूरत!