in ,

दो बहनों ने बनाया गृहिणी माँ को सोशल मीडिया स्टार!

मंगलम के फेसबुक पेज के एक लाख से भी ज़्यादा लाइक हैं और आज दिल्ली से लेकर मलेसिया, यूएस तक उनके फॉलोअर्स हैं!

ज के डिजिटल जमाने में किसी के लिए भी अपनी स्किल और टैलेंट को दुनिया को सामने रखना बहुत आसान हो गया है। पहले लोगों के गुर और ख़ासकर कि गृहिणियों के गुर सिर्फ़ दो-चार गली-मोहल्लों तक ही सीमित होते थे, फिर वो चाहे अच्छे पकवान बनाने का हो, घर को सजाने का हो, सिलाई-कढ़ाई या फिर कोई और कला।

आज सोशल मीडिया की मदद से बहुत-सी गृहिणियां न सिर्फ़ बाहर की दुनिया से जुड़ रही हैं, बल्कि अपनी कला को भी चारदीवारी से निकाल कर दुनिया तक पहुंचा पा रही हैं। इस फ़ेहरिस्त में आज हम बात कर रहे हैं सोशल मीडिया स्टार, मंगलम श्रीनिवासन की।

52 वर्षीय मंगलम अपने फेसबुक पेज My Mom’s Art Gallery के ज़रिए पूरी दुनिया में मशहूर हैं और वह भी अपने खूबसूरत कोलम/रंगोली बनाने के हुनर के चलते। वे हर त्यौहार पर चावल, आटा या फिर चॉक पाउडर का इस्तेमाल करके रंगोली के डिजाईन बनाती हैं।

मंगलम की बनायी एक रंगोली

तमिलनाडु के त्रिची में श्रीरंगम की रहने वाली मंगलम के फेसबुक पेज के एक लाख से भी ज़्यादा लाइक हैं। उनका फेसबुक पेज उनकी बेटियों ने साल 2013 में शुरू किया था। आज दिल्ली से लेकर मलेसिया, यूएस तक उनके फॉलोअर्स हैं और आए दिन उन्हें मेसेज-कमेंट करते हैं ताकि उनकी कला के बारे में और अधिक जान पाएं।

यह भी पढ़ें: जब ‘मानव कंप्यूटर’ शकुंतला देवी ने पति के लिए लड़ी समलैंगिक अधिकारों की लड़ाई!

मम्स एंड स्टोरीज की एक रिपोर्ट के मुताबिक, उनकी बनाई रंगोली का आकार कुछ इंच से लेकर 11 फीट तक का होता है। सबसे बड़ी कोलम (11 फीट की) जो उन्होंने बनाई थी, वह शिवजी की थी। इसके अलावा उन्होंने जयललिता के निधन के बाद, दूसरे दिन उनकी भी कोलम बनाई। अक्सर, वे अपने डिजाईन पर 1 से 12 घंटे तक काम करती हैं और कभी-कभी यह इससे ज़्यादा भी हो जाता है।

उनकी बेटी भार्गवी बताती हैं कि उनकी माँ रंगोली और वाटर-कलर पेंटिंग बनाने में माहिर हैं। बचपन से ही वे और उनकी बहन, अपनी माँ के इस हुनर पर गर्व करते हैं। मंगलम ने रंगोली बनाने की कला अपनी माँ से सीखी और तंजौर पेंटिंग सीखने का मौका उन्हें तमिलनाडु सरकार से मिला।

तंजौर पेंटिंग बनाते हुए

वैसे तो उनकी यह कला उनके घर तक ही सीमित थी, पर फिर एक दिन उनकी बेटियों को उनकी कला को सहेजने के लिए सोशल मीडिया का ख्याल आया। इस एक ख्याल से बना उनका फेसबुक पेज, जिस पर वे मंगलम की बनाई कोलम या फिर पेंटिंग की तस्वीरें और विडियो शेयर करते हैं। इस काम में मंगलम को उनके पूरे परिवार का साथ मिल रहा है।

Promotion
Banner

यह भी पढ़ें: पिता से सीखा ऑर्गेनिक अचार बनाने का गुर, नौकरी छोड़ कर शुरू किया स्टार्टअप!

उनकी बेटियों का कहना हैं कि मंगलम का यह शौक उन्हें बहुत ख़ुशी देता है और इसके चलते वे शारीरिक और मानसिक तौर पर स्वस्थ रहती हैं।

मंगलम का परिवार

मंगलम की शादी 20 साल की उम्र में हुई थी। उनके पति एक पब्लिक-सेक्टर कंपनी में काम करते हैं। भार्गवी और ऐश्वर्या, उनकी दोनों बेटियों की शादी हो चुकी है और वे उनके साथ ही रहती हैं। उनके पति, उनकी रंगोली और पेंटिंग्स की विडियो शूट करते हैं और फिर उनकी बेटियाँ इसे अपलोड करती हैं।

मंगलम की ख्वाहिश है कि उनकी कला के लिए उन्हें चाहे कोई छोटा ही सही पर सरकार की तरफ से कोई सम्मान मिले। हम उम्मीद करते हैं कि उनका यह सपना जल्द से जल्द पूरा हो।

मूल लेख 

संपादन – भगवती लाल तेली


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

mahatma gandhi

गाँधीजी का वह डाइट प्लान जिसे सुभाष चंद्र बोस ने भी अपनाया!

suraj singh parihar

कॉल सेंटर की नौकरी से लेकर IPS बनने तक का सफर!