in , ,

इस 50 रुपये के डिवाइस से घर में बचा सकते हैं 80% तक पानी!

न प्लम्बर की ज़रूरत! न बिजली की!

म सबके घरों में ऐसे नल होते हैं जिनसे काफ़ी पानी बर्बाद होता है। उदाहरण के लिए जब भी आप कोई बर्तन जैसे प्लेट आदि धोने के लिए नल चलाते हैं तो काफ़ी मात्रा में पानी यूँ ही बह जाता है। पर अगर आप नल बंद किये बिना ही, पानी के फ्लो को कंट्रोल कर पाएं तो?

वॉटर सेविंग/पानी बचाने वाले अडैप्टर

आज हम आपको पानी बचाने वाले इस बेहतरीन डिवाइस के बारे में बताएंगें।

यह डिवाइस बहुत ही आसानी से आपके नल के ऊपर फिट हो जाता है, और इसकी मदद से आप लगभग 80% तक पानी बचा सकते हैं, जो वरना यूँ ही बर्बाद हो जाता है। इसके बारे में अधिक जानने और खरीदने के लिए यहाँ पर क्लिक करें!

कैसे लगाएं?

Promotion

इस डिवाइस को नल में लगाना बहुत ही आसान है। 1 मिनट से भी कम समय में आप इसे लगा सकते हैं और आपको किसी प्लम्बर या फिर मैकेनिक की भी ज़रूरत नहीं पड़ेगी!

आप नीचे दिए गए दिशा-निर्देश देख सकते हैं,

इस प्रोडक्ट के बारे में अधिक जानने और खरीदने के लिए यहां पर क्लिक करें!

इस डिवाइस के साधारण इंस्टॉलेशन और अच्छे स्प्रे के कारण इसे अपने दैनिक जीवन में अपनाना बेहद आसान है। कभी हमारे नल सूख न जाएं, इसके लिए ज़रूरी है कि सभी परिवार अपनी ज़िम्मेदारी समझते हुए इस तरह के स्मार्ट डिवाइस का इस्तेमाल करें!

अच्छी बात यह है कि इस प्रोडक्ट को प्लास्टिक-फ्री रीसाइकल्ड कार्डबॉर्ड में पैक किया गया है!


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

ट्रैफिक के साथ सिग्नल पर भटकते बच्चों का जीवन भी संभाल रही है अहमदाबाद की ट्रैफिक पुलिस!

स्लम में पला-बढ़ा यह डेंटिस्ट आज आदिवासी छात्रों को कर रहा है साइकिल गिफ्ट!