in ,

इस मुंबईकर ने भारी बारिश में फंसे लोगों और बेसहारा जानवरों के लिए खोले अपने घर के दरवाज़े!

साल 2005 में मुंबई में आई बाढ़ में वे फंस गए थे और उनकी गर्दन तक पानी था। उस स्थिति में उन्हें बस एक मदद की उम्मीद थी कि कोई उन्हें वहां से बाहर निकाले।

र पल भागती मुंबई मानसून के मौसम में आकर थोड़ी ठहर-सी जाती है। 1 जुलाई से शुरू हुई बारिश मुंबई के लोगों के लिए राहत के साथ-साथ परेशानी का सबब भी बनी हुई है। सड़कों पर पानी भरे होने के चलते यातायात तो ठप्प हो ही गया है, साथ ही, काम के लिए घरों से निकले बहुत-से लोग भी रास्ते में भी फंसकर रह गये।

पर कहते हैं ना, कि उम्मीद पर तो दुनिया कायम है और इसी उम्मीद की डोरी से मुंबई और मुंबई के लोग जुड़े हुए हैं। तभी तो सोशल मीडिया के ज़रिए यहाँ लोग एक-दूसरे की मदद कर रहे हैं। बहुत-से मुंबई निवासियों ने बारिश में फंसे लोगों की मदद के लिए एक चेन शुरू की। यह पहल सोशल मीडिया पर #RainHost और #RainDost के नाम से वायरल हो रही है, इसमें मुंबईकर अपने इलाकों में फंसे अंजान लोगों के लिए अपने घरों के दरवाजे खोल रहे हैं।

इस निःस्वार्थ इंसानियत की पहल की विले पार्ले में रहें वाले मेहुल गोहिल ने।

मेहुल गोहिल (दायें); स्ट्रे डॉग फीडर इंडिया (बाएं)

उन्होंने ट्वीट किया कि अगर कोई भी बारिश में फंसा हुआ है और मदद की ज़रूरत है तो वे बेहिचक उन्हें संपर्क कर सकते हैं। उन्होंने लिखा कि वे विले पार्ले में रहते हैं और उनका घर किसी भी ज़रूरतमंद के लिए खुला है।

उनकी इस पहल के लिए न सिर्फ़ लोगों ने उनकी सराहना की बल्कि कई लोगों ने इस चेन को आगे बढ़ाते हुए, मदद के लिए हाथ भी बढ़ाया। @NatellaPuncakes नामक एक और ट्विटर हैंडलर ने लोगों की मदद के लिए ट्वीट किया।

इस बारे में द बेटर इंडिया से बात करते हुए मेहुल ने बताया कि इस तरह लोगों की मदद करने की प्रेरणा उन्हें अपने एक अनुभव से मिली। उन्होंने बताया कि साल 2005 में मुंबई में आई बाढ़ में वे फंस गए थे और उनकी गर्दन तक पानी था। उस स्थिति में उन्हें बस एक मदद की उम्मीद थी कि कोई उन्हें वहां से बाहर निकाले। जैसे-तैसे वे खुद ही अपने घर पहुंचे और साथ ही, एक और आदमी की उन्होंने मदद की। यह घटना भले ही 14 साल पहले की है, लेकिन आज भी उन्हें अच्छे से याद है। और इसीलिए उन्हें पता है कि इस तरह की स्थिति में इंसान खुद को कितना असहाय महसूस करता है।

Source: Being Maharashtrian/Facebook

ऐसे मुश्किल के समय में ही आपको लोगों की अच्छाई और इंसानियत का पता चलता है। मेहुल को ख़ुशी है कि उनका एक छोटा-सा ट्वीट बड़े अभियान में बदल गया। वे कहते हैं कि बारिश के वक़्त आपको अपने घर में ठहरने की जगह देने वाला शख्स एक सच्चे दोस्त की तरह पूरे दिल से आपकी मदद करता है।

उनकी यह पहल सिर्फ़ इंसानों के लिए ही नहीं बल्कि जानवरों के लिए भी है। इस तरह की प्राकृतिक आपदा के वक़्त, जब इंसान परेशान और असहाय हो जाते हैं तो आप जरा बेज़ुबान जानवरों के बारे में सोचिये। इसलिए मेहुल अपने घर में बेसहारा जानवरों को भी शरण दे रहे हैं।

Source: Heather Elton Photography/Facebook

मेहुल की इस सोच और अभियान की सब जगह तारीफ़ हो रही है और ज़्यादा से ज़्यादा लोग उनके साथ जुड़ भी रहे हैं। बहुत-से लोग मदद के इस काम के लिए फंड इकट्ठा करने के लिए भी तैयार हैं। आपका एक छोटा-सा कदम किसी के लिए बड़ा सहारा बन सकता है और हज़ारों लोगों के लिए प्रेरणा भी। इसलिए जहाँ भी हो, जैसे भी हो बस किसी ज़रूरतमंद की मदद करें!

मूल लेख: अनन्या बरुआ 

संपादन – मानबी कटोच 


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

Promotion

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

20 साल की मेहनत से घर को बनाया पहाड़ों का संग्रहालय; आज देश-विदेश से आते हैं टूरिस्ट!

असफलता से लगता है डर, तो पढ़िए UPSC में असफल हुए इस सफल व्यक्ति की कहानी!