in ,

ATM की रौशनी में गरीब बच्चो को पढाता है ये सुरक्षाकर्मी !

माजरा, देहरादून  के रहने वाले बिजेंदर एक ATM में सुरक्षाकर्मी के रूप में काम करते है। पर जैसे ही दिन ढलता है और सडको की बत्त्तियाँ  जलती है तब बिजेंद्र जो करते है वो किसी को भी प्रोत्साहित करने के लिए काफी है।

बिजेंदर का दिन, माजरा, देहरादून में स्थित बैंक ऑफ़ अलाहबाद के एटीएम की चौकीदारी करने से शुरू होता है।

3

पर शाम होते होते उनके इर्द गिर्द बच्चो का जमावड़ा लगना शुरू हो जाता है। कुछ बेघर बच्चे, कुछ भीख मांगने वाले बच्चे, कुछ मज़दूर और कुछ झुग्गियों में रहने वाले- ये सारे इस गार्ड के पास चले आते हैं क्यूंकि वे जानते हैं की ये इंसान उन्हें कुछ ऐसा दे सकता है जो आज तक उन्हें नहीं मिल पाया- शिक्षा का उपहार।

ATM के सामने बने बरामदे में छनती हुई नीली रौशनी में करीब 24 बच्चे रोज़ बिजेंदर से पढने आते हैं।

4

बिजेंदर के मुताबिक़ पिछले 16 सालो से वो ऐसे बच्चो को पढ़ा रहे है और आज उनमे से कई अच्छी नौकरी पा चुके हैं। वे कहते है कि ऐसा करने से उन्हें ख़ुशी के साथ आत्मसंतुष्टि भी मिलती है।

ऐसी पहल की जितनी सराहना की जाए वो कम है। हम बिजेंदर की इस कोशिश को सलाम करते हैं और उम्मीद करते हैं कि इस से प्रेरित होकर और लोग भी आगे बढ़ कर समाज को बेहतर बनाने में अपना योगदान देंगे।

यदि आपको ये कहानी पसंद आई हो या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें contact@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter (@thebetterindia) पर संपर्क करे।

शेयर करे

Written by निधि निहार दत्ता

निधि निहार दत्ता राँची के एक कोचिंग सेंटर, 'स्टडी लाइन' की संचालिका रह चुकी है. हिन्दी साहित्य मे उनकी ख़ास रूचि रही है. एक बेहतरीन लेखिका होने के साथ साथ वे एक कुशल गृहणी भी है तथा पाक कला मे भी परिपक्व है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

बाल विवाह के खिलाफ, एकजुट होकर लड़ रहे है राजस्थान के 47,000 टेंट डीलर !

राईड ऑफ होप – कैंसर के मरीजों को जीने की कला सीखाता 26 साल का युवक !