in ,

[वीडियो] : तुम खूबसूरत हो !

म में से हर कोई, खासकर लडकियां, अक्सर खूबसूरती की परिभाषा उसी को समझती है जिसे समाज ने तय किया है। समाज के बनाये खूबसूरती के मापदंडो पर यदि हम कही से भी थोड़े से भी कम पड जाते है तो अपने आपको परफेक्ट नहीं समझते… परिपूर्ण नहीं समझते!

पर क्या है खूबसूरती की परिभाषा? क्या है उसके मापदंड? क्या ये वही है जो हम बरसो से सुनते आये है ? क्या छरहरा शरीर, नशीली आँखे, गोरा रंग और काले, घने लम्बे बाल होना ही खूबसूरती है? और अगर ये सब आपके पास नहीं है तो क्या आप खुबसूरत नहीं है ?

इसका जवाब आपको ब्लश द्वारा निर्मित विडिओ – फाइंड योर ब्यूटीफुल में राधिका आप्टे बतायेंगी !

इस विडियो में २४ -२५ साल की राधिका १७ साल की राधिका से कुछ कहना चाहती है। नहीं ! वो ये नहीं कहना चाहती कि उसे ज्यादा पढाई करनी चाहिए या ज्यादा सलीके से रहना चाहिए। वो १७ साल की नटखट राधिका से सिर्फ तीन शब्द कहना चाहती है – “तुम खूबसूरत हो!”

वो कहना चाहती है –

कि भले ही तुम्हारी आँखे झील सी नहीं है पर वो सुन्दर है क्यूंकि वो अलग है !

भले ही तुम्हारे बाल रेशम जैसे नहीं है पर उन्हें उलझने दो उन्हें उड़ने दो …वो ऐसे ही तुम्हे औरो से अलग करते है !

हो सकता है तुम्हारा वज़न तुम्हारे दोस्तों से थोडा ज्यादा हो पर तुम्हे इन्टरनेट से वज़न कम करने के तरीके तलाशने की कोई ज़रूरत नहीं है क्यूंकि तुम ऐसे ही परफेक्ट हो !

Untitled

तुम जियो ….और खुल के जियो! समाज के मापदंड कोई लक्ष्मण रेखा नहीं है जो तुम पार नहीं कर सकती! कभी कभी नियमो को तोड़ो और अपनी ज़िन्दगी अपने मुताबिक जियो!

पूरा विडिओ देखने के बाद आपको भी इस सच पर यकीन हो जाएगा कि – “आप खुबसूरत है !”

यदि आपको ये कहानी पसंद आई हो या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें contact@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter (@thebetterindia) पर संपर्क करे।

शेयर करे

Written by मानबी कटोच

मानबी बच्चर कटोच एक पूर्व अभियंता है तथा विप्रो और फ्रांकफिंन जैसी कंपनियो के साथ काम कर चुकी है. मानबी को बचपन से ही लिखने का शौक था और अब ये शौक ही उनका जीवन बन गया है. मानबी के निजी ब्लॉग्स पढ़ने के लिए उन्हे ट्विटर पर फॉलो करे @manabi5

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

अंधी माँ को कंधे पर उठाकर बीस वर्षो से चल रहे है जबलपुर के कैलाश गिरी !

जानिये क्यूँ ये कलाकार अपनी तस्वीरों में औरतों की जगह गहनों, जमीन और पैसो से बदल रही है !