Search Icon
Nav Arrow

#अनुभव : “चलते-चलते ही मरना है”; क्योंकि जीना इसी का नाम है!

Advertisement

“तीन महीने बाद मैं 100 साल की हो जाऊंगी और मेरे जन्मदिन पर मेरी बेटी मेरे लिए खीर बनाएगी! किसी भी इंसान के लिए इतनी लंबी ज़िंदगी जीना आसान नहीं होता… मैंने बहुत कुछ देखा है। मैंने मेरे दोनों बेटों की मौत देखी है, एक शराबी था और दूसरे को दिल का दौरा पड़ा। पर फिर भी, ज़िंदगी चलती रहती है। इसलिए, अगर कोई कुछ कर सकता है, तो वह है आगे बढ़ते रहना। हमेशा याद रखो, ‘चलते- चलते ही मरना है!'”

https://www.facebook.com/humansofbombay/photos/a.188058468069805/1041070542768589/?type=3&theater

Advertisement

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

Advertisement
_tbi-social-media__share-icon