Search Icon
Nav Arrow
Pearl Farming (1)

टीचर की नौकरी गई तो बन गए किसान, घर पर ही मोती उगाकर शुरू कर दिया काम 

कम निवेश और कम देखभाल में ज्यादा मुनाफे के लिए मोती की खेती कर रहे अजमेर, रसूलपुरा गांव के 41 वर्षीय रजा मोहम्मद ने प्रयोग के तौर पर एक छोटी सी शुरुआत की थी, लेकिन आज वह इससे लाखों का मुनाफा कमा रहे हैं।

अजमेर, रसूलपुरा गांव के 41 वर्षीय रजा मोहम्मद, कोरोना के पहले तक गांव में अपने खुद के  स्कूल में पढ़ाया करते थे। लेकिन कोरोना समय में, जब स्कूल बंद हो गए और उनकी आय भी ख़त्म हो गई, तब वह रोजगार के अवसर की तलाश में थे। उनके पास अपने दो बीघा खेत भी हैं, जिसमें वह कुछ मौसमी फसलें उगाते थे, लेकिन ज्यादा मुनाफा नहीं हो पा रहा था। इसी दौरान, उन्हें मोती की खेती (pearl farming) के बारे में पता चला। 

पहले तो उन्हें लगा कि शायद यह बहुत मुश्किल काम होगा, जिसमें ज्यादा समय भी देना होगा। लेकिन इसी दौरान, उन्हें राजस्थान के किशनगढ़ के नरेंद्र गरवा के बारे में पता चला, जिन्होंने काम बंद होने के बाद मोती की खेती (Pearl Farming) शुरू की थी।  नरेंद्र की खेती से वह इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने भी इसे सीखने का फैसला कर लिया।  

मात्र एक दिन की ट्रेनिंग के बाद शुरू की मोती की खेती (pearl farming)

Advertisement

जब रजा मोहम्मद ने मोती की खेती से जुड़ने का फैसला किया था, तब देश में कोरोना के हालात थे। इसलिए वह सिर्फ एक दिन ही ट्रेनिंग ले पाए थे। एक दिन की ट्रेनिंग के बाद, उन्होंने अपने खेत में ही 10/25 की जगह में एक छोटा तालाब बनवाया और इस पर तिरपाल लगाकर मोती उगाना (pearl farming) शुरू कर दिया।
उन्होंने ज़रूरी सामान जैसे दवाएं, अमोनिया मीटर, पीएच मीटर, थर्मामीटर, एंटीबायोटिक्स, माउथ ओपनर, पर्ल न्यूक्लियस जैसे उपकरण खरीदें। इसके बाद, उन्होंने सीप के लिए भोजन (गोबर, यूरिया और सुपरफॉस्फेट से शैवाल)  तैयार किया। 

pond for pearl farming

उन्होंने अपने तालाब में डिज़ाइनर मोती के न्यूक्लियस को तक़रीबन 1000 सीपों में लगाए थे।
हर एक सीप में न्यूक्लियस डालकर छोड़ देना होता है और उसके भोजन और विकास का ध्यान रखना होता है। सब अच्छा रहा तो एक सीप से दो मोती मिलते ही हैं।    

वह कहते हैं, “मोती की फसल आने में 18 महीने का समय लगता है। मैंने इस पूरी प्रक्रिया में करीबन 60 से 70 हजार का कुल खर्च किया था, जबकि मुझे कुछ दिनों में ही करीबन ढाई लाख का मुनाफा होने की उम्मीद है।”

Advertisement

बिलकुल कम देखभाल में हो सकती है मोती की खेती (Pearl Farming)

रजा मोहम्मद ने बताया कि इसमें उन्हें दिन के एक घंटे ही खर्च करने होते हैं।  अगर आप कोई दूसरा काम कर रहे हैं, तब भी आप मोती की खेती (Pearl Farming) कर सकते हैं। 

वह कहते हैं, “मुझे सिर्फ दिन में एक बार पानी का पीएच और अमोनिया लेवल देखना होता है और हफ्ते में एक बार सीप चेक करने होते हैं। इसमें पानी का  पीएच स्तर 7-8 के बीच रखना होता है। हर एक जगह का तापमान अलग होता है इसलिए कभी-कभी इसमें कम या ज्यादा समय लग सकता है।

Advertisement

 वहीं, तालाब के रखरखाव में कोई खर्च नहीं आता है, लेकिन जलस्तर, सीप का स्वास्थ्य, शैवाल की उपस्थिति आदि सुनिश्चित करनी पड़ती है और सतर्क रहना पड़ता है। सबसे महत्वपूर्ण बात, आपको एक साल के लिए धैर्य रखना होगा।”

Rja Mohamad at her fish pond

एक बार मोती तैयार हो जाने के बाद, इसे प्रयोगशाला भेजना होता है और गुणवत्ता के आधार पर, एक मोती की कीमत 200 रुपये से लेकर 1,000 रुपये के बीच मिलती है। 

रजा मोहम्मद,  मोती की खेती (pearl farming) से इतने खुश हैं कि इस साल वह इसे एक बड़े स्तर पर करने की तैयारी भी कर रहे हैं। इस पूरे काम में उन्हें नरेंद्र का हमेशा सहयोग भी मिलता रहा।

अगर आपके पास भी थोड़ी बहुत जगह है और आप दिन के एक घंटे निवेश करने को तैयार हैं, तो मोती की खेती (pearl farming) मुनाफे का एक अच्छा साधन बन सकती है। 

Advertisement

आप भी रजा मोहम्मद की तरह नरेंद्र से ट्रेनिंग लेने के लिए उन्हें 9414519379 या 8112243305 पर संपर्क कर सकते हैं। आप उन्हें nkgarwa@gmail.com पर ईमेल भी भेज सकते हैं।  

संपादन- मानबी कटोच

यह भी पढ़ें: लोगों ने कहा डॉक्टर बनकर खाद बेचोगे? आज महीने के 30 टन वर्मीकम्पोस्ट बनाकर कमाते हैं लाखों

Advertisement

close-icon
_tbi-social-media__share-icon