in

मुंबई: 5 मिनट के लिए पश्चिमी रेलवे ने स्थगित की सर्विस, वजह दिल छू जाने वाली है!

साभार: विकीमीडिया कॉमन्स

14-15 जनवरी में जहाँ पुरे देश में लोगों के बीच मकर-सक्रांति की धूम रही तो वहीं पतंग के मांझों से उलझकर पक्षियों के घायल होने की खबरों ने बहुत उदास किया। लेकिन ऐसे में, 16 जनवरी 2019 को महाराष्ट्र के मुंबई से एक दिल छू जाने वाला वाकया सामने आया।

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक मुंबई के गोरेगांव रेलवे स्टेशन पर सुबह के समय रेलवे सर्विस लगभग 5 मिनट स्थगित की गयी। सुबह-सुबह दफ़्तर जाने वाले लोगों के लिए ये 5 मिनट भी बहुत ज्यादा थे। पर इस असुविधा के पीछे की वजह जानना बहुत जरूरी है।

दरअसल, सुबह 10 बजे रेलवे स्टेशन पर डिप्टी स्टेशन मास्टर को किसी यात्री ने सूचित किया की स्टेशन के उत्तरी छोर पर ट्रेन के ऊपर बिजली के तारों में मांझे की वजह से एक कबूतर फंसा हुआ है। डिप्टी स्टेशन मास्टर ने तुरंत इस बारे में तकनीकी स्टाफ और फायर ब्रिगेड को बताया।

Promotion

इसके बाद स्टेशन पर बिजली की सप्लाई बंद की गयी और उस कबूतर को सुरक्षित उतारा गया। पश्चिमी रेलवे के चीफ पब्लिक रिलेशन अफ़सर रविंदर भाकड़ ने बताया, “सुबह के 10:28 बजे से लेकर 10:33 बजे तक बिजली की सप्लाई काट दी गयी और इसी बीच फायर ब्रिगेड ने पहुंचकर उस पक्षी को बचा लिया।”

इस बचाव कार्य में गोरेगांव स्थित संकित ग्रुप ने मदद की। यह समूह पक्षियों के रख-रखाव पर काम करता है।

पश्चिमी रेलवे का यह कदम सराहनीय था कि उन्होंने एक बेजुबान जीव के बारे में सोचा और इंसानियत की मिसाल कायम की।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

जब भारतीय महिला आइस हॉकी टीम की जीत पर रेफरी की आँखें भी हो गयी थी नम!

महाराष्ट्र : ‘पेयर रो सिस्टम’ से खेती कर, सालाना 60 लाख रूपये कमा रहा है यह किसान!