Search Icon
Nav Arrow
lemon farming

नींबू की व्यवसायिक खेती की पूरी जानकारी! मौजूदा दौर में इससे फायदेमंद कुछ और नहीं है!

नींबू की फसल किसानों के लिए भी फायदेंमंद है। नींबू की खेती (lemon farming) कर, किसान बेहतर कमाई कर सकते हैं। नींबू की अलग अलग प्रजातियां भारत में उगाई जाती हैं।

नींबू की खेती (Lemon farming) का इतिहास
छोटे-छोटे, हरे-पीले नींबू भारत के हर घर में उपयोग में आते हैं। नींबू की उत्पत्ति भी संभवतः भारत में ही हुई है। हालांकि, इससे संबंधित कोई ठोस प्रमाण नहीं है, लेकिन विशेषज्ञ मानते हैं कि यह पौधा मूल रूप से भारत, उत्तरी म्यांमार एवं चीन का निवासी है। खाने में नीबू का प्रयोग कब से हो रहा है, इसके निश्चित प्रमाण तो नहीं हैं, लेकिन यूरोप और अरब देशों में लिखे गए दसवीं सदी के साहित्य में इसका उल्लेख मिलता है। मुग़ल काल में नीबू को शाही फल माना जाता था। कहा जाता है कि भारत में पहली बार असम में नीबू की पैदावार हुई।

नींबू के गुण (benefits of lemon)
नीबू में ए, बी और सी विटामिनों की भरपूर मात्रा है-विटामिन ए अगर एक भाग है, तो विटामिन बी दो भाग और विटामिन सी तीन भाग। इसमें -पोटेशियम, लोहा, सोडियम, मैगनेशियम, तांबा, फास्फोरस और क्लोरीन तत्त्व तो हैं ही, प्रोटीन, वसा और कार्बोज भी पर्याप्त मात्रा में हैं।
विटामिन सी से भरपूर नींबू शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ ही, एंटी आक्सीडेंट का काम भी करता है और कोलेस्ट्राल भी कम करता है। नीबू में मौजूद विटामिन सी और पोटेशियम घुलनशील होते हैं, जिसके कारण ज्यादा मात्रा में इसका सेवन भी नुकसानदायक नहीं होता। रक्ताल्पता से पीड़ित मरीजों को भी नीबू के रस के सेवन से फायदा होता है। यही नहीं, नींबू का सेवन करने वाले लोग जुकाम से भी दूर रहते हैं। एक नींबू दिन भर की विटामिन सी की जरूरत पूरी कर देता है। नींबू के कुछ घरेलू प्रयोगों पर लगभग हर भारतीय का विश्वास है।

lemon farming

ऐसा माना जाता है कि दिन भर तरोताजा रहने और स्फूर्ति बनाए रखने के लिए एक गिलास गुनगुने पानी में एक नींबू का रस व एक चम्मच शहद मिलाकर पीना चाहिए। एक बाल्टी पानी में एक नींबू के रस को मिलाकर गर्मियों में नहाने से दिनभर ताजगी बनी रहती है। गर्मी के मौसम में हैजे से बचने के लिए नींबू को प्याज व पुदीने के साथ मिलाकर सेवन करना चाहिए। लू से बचाव के लिए नींबू को काले नमक वाले पानी में मिलाकर पीने से दोपहर में बाहर रहने पर भी लू नहीं लगती। इसके अलावा, इसमें विटामिन ए, सेलेनियम और जिंक भी होता है।
गले में मछली का कांटा फंस जाए तो नींबू के रस को पीने से निकल जाता है।

नींबू की खेती (lemon farming)
नींबू की फसल किसानों के लिए भी फायदेंमंद है। नींबू की खेती कर, किसान बेहतर कमाई कर सकते हैं। नींबू की अलग अलग प्रजातियां भारत में उगाई जाती हैं। एसिड लाइम (नींबू की एक प्रजाति ) वैज्ञानिक नाम साइट्रस और्तिफोलिया स्विंग की खेती भारत में ज्यादा प्रचलित है। इस प्रजाति को भारत के अलग-अलग राज्यों में उगाया जाता हैl आंध्र प्रदेश , महाराष्ट्र, तमिलनाडु, गुजरात, राजस्थान, बिहार के साथ ही, देश के अन्य हिस्सों में भी इसकी खेती की जाती है।

नींबू की खेती (lemon farming) के लिए मिट्टी की तैयारी:
नींबू को कई किस्म की मिट्टी में उगाया जा सकता है। मृदा की प्रतिक्रिया, मिट्टी की उर्वरता, जल निकासी, मुफ्त चूने और नमक सांद्रता जैसे मृदा गुण आदि कुछ महत्वपूर्ण कारक हैं, जोकि नींबू वृक्षारोपण की सफलता का निर्धारण करते हैं। अच्छी जल निकासी के साथ हल्की मिट्टी पर नींबू फल अच्छी तरह से फलते हैं। पीएच श्रेणी 5.5 से 7.5 के बीच मिट्टी को नींबू की फसल के लिए अच्छा माना जाता है। हालांकि, नींबू की पैदावार 4 से 9 की पीएच श्रेणी में भी अच्छी हो सकती है।

green lemon in farm

भारत में नींबू की उगाई जाने वाली किस्में:
भारत के अलग-अलग हिस्सों में उगाये जाने वाले नींबू की महत्वपूर्ण किस्में हैं: मैंडरिन ऑरेंज: कुर्ग (कुर्ग और विलीन क्षेत्र), नागपुर (विदर्भ क्षेत्र), दार्जिलिंग (दार्जिलिंग क्षेत्र), खासी (मेघालय क्षेत्र) सुमिता (असम), विदेशी किस्म – किन्नो (नागपुर, अकोला क्षेत्रों, पंजाब और आसपास के राज्यों)। मिठाई ऑरेंज : रक्त लाल (हरियाणा, पंजाब और राजस्थान), मोसंबी (महाराष्ट्र), सतगुडी (आंध्र प्रदेश), विदेशी किस्मों- जाफ, हैमलिन और अनानास (पंजाब, हरियाणा, राजस्थान), वेलेंसिया।
नींबू: प्रामलिनी, विक्रम, चक्रधर, पीकेएम 1, चयन 49, सीडलेस लाइम, ताहिती स्वीट लाइम : मिथाचिक्रा, मिथोत्र लिंबा: यूरेका, लिस्बन, विलाफ्रांका, लखनऊ बीडलेस, असम लीमन, नेपाली राउंड, लेमन 1 मैंडरिन संतरे, नागपुर सबसे महत्वपूर्ण किस्म है।
मोसंबी मध्य-ऋतु के शुरुआत में आता है, लेकिन कम रसदार किस्म की सतगुड़ी बाजार में जल्दी आती है। प्रमिलिनी, विक्रम और पीकेएम 1 आईसीएआर द्वारा अत्यधिक क्लस्टर वाले खट्टे नींबू हैं।

नींबू की खेती (lemon farming) के लिए स्थान / भूमि का चयन:
भूमि को व्यापक रूप से जोता जाना आवश्यक है। गहन जुताई के बाद खेतों को समतल किया जाना चाहिए। पहाड़ी क्षेत्रों में ढलानों के साथ की जगहों में नींबू का रोपण किया जाता है। ऐसी भूमि में उच्च घनत्व रोपण संभव है, क्योंकि समतल जगह की तुलना में पहाड़ी ढलान पर ज्यादा कृषि उपयोग हेतु जगह उपलब्ध रहती है l

नींबू की खेती (lemon farming) के लिए मानक
नारंगी: सामान्य अंतर – 6 मी x 6 मीटर; पौधे की आबादी – 275 / हे०
स्वीट लाइम: सामान्य अंतर – 5 मी x 5 मीटर; पौधे आबादी – 400 / हे०
लाइम / नींबू सामान्य अंतर – 4.5 मी x 4.5 मीटर; पौधे आबादी – 494 / हेक्टेयर बहुत हल्की मिट्टी में, अंतर 4 मीटर x 4 मीटर हो सकता है उपजाऊ मिट्टी में और उच्च वर्षा क्षेत्रों में अंतर 5 मी x 5 मीटर हो सकता है

नींबू की खेती के लिए उत्तम समय :
रोपण का सबसे अच्छा मौसम जून से अगस्त तक है। रोपाई के लिए 60 सेमी x 60 सेमी x 60 सेमी के आकार के गड्ढे खोदे जा सकते हैं। 10 किलोग्राम एफवायएम और 500 ग्राम सुपरफॉस्फेट को प्रति गड्ढे पर लगाया जा सकता है। अच्छी सिंचाई प्रणाली के साथ रोपण अन्य महीनों में भी किया जा सकता है।

नींबू के पौधों की सिंचाई :
नींबू की सर्दियों और गर्मियों के दौरान पहले साल में की गयी सिंचाई, नींबू के पौधों के लिए जीवन रक्षक साबित होती है और पौधों को बचाने में आवश्यक भूमिका अदा करती है। सिंचाई से पौधों में वृद्धि के साथ ही, फलों के आकार पर भी सकारात्मक असर होता है। सिंचाई कम होने की सूरत में नींबू की फसल पर नकारात्मक असर पड़ता है और कई बीमारियाँ भी पौधों को लग सकती है।
राष्ट्रीय कृषि बाज़ार (e-NAM) योजनारूट सड़ांध और कॉलर रोट जैसे रोग अत्यधिक सिंचाई की स्थिति में हो सकते हैं और किसानों को क्यारी क्षेत्र को गीला न रखने की सलाह दी जाती है। उच्च आवृत्ति के साथ हल्की सिंचाई फायदेमंद है। 1000 से अधिक पीपीएम लवण वाले सिंचाई का पानी हानिकारक है। पानी की मात्रा और सिंचाई की आवृत्ति, मिट्टी बनावट और पौधों के विकास के स्तर पर निर्भर करती है। वसंत ऋतु में मिट्टी को आंशिक रूप से सूखा रखना फसल के लिए फायदेमंद है।

खाद और उर्वरक:
फ़रवरी, जून और सितंबर के महीनों में एक वर्ष में खाद/फ़र्टिलाइज़र की तीन समान खुराक खाद नींबू के पौधे में डाली जा सकती है। मिट्टी, पौधों की उम्र और पौधों की वृद्धि के आधार पर, खुराक भिन्न होती है। आठवें वर्ष पर पूर्ण मात्रा तक पहुंचने के लिए खुराक को प्रतिवर्ष अनुपात में वृद्धि करनी चाहिए। सूक्ष्म पोषक तत्व के मिश्रण का छिड़काव एक या दो बार किया जाना चाहिए।

नींबू (lemon farming) के साथ उगाये जा सकने वाले पौधे (अंतर-फसल):
मटर, फ्रांसीसी बीन, मटर की अन्य प्रजातियाँ या अन्य कोई सब्जियां आदि नींबू के बगीचे में उगाई जा सकती हैं। अंतर-फसल केवल प्रारंभिक दो से तीन वर्षों के दौरान उचित है। कटाई और छंटाई एक मजबूत तने के विकास के लिए प्रारंभिक चरण में विकसित हुए पहले 40-50 सेमी में सभी नयी टहनियों को हटा दिया जाना चाहिए। पौधे का केंद्र खुला होना चाहिए। शाखाएं सभी पक्षों को अच्छी तरह वितरित की जानी चाहिए। क्रॉस टहनियां और पानी की सोरियों को जल्दी से हटाया जाना चाहिए। फल लगे पेड़ों को कम या नहीं के बराबर छंटनी की आवश्यकता होती है। सभी रोगग्रस्त और सूखी शाखाओं को समय-समय पर नींबू के पौधे से हटा दिया जाना चाहिए।

कीट / कीड़े और रोग नियंत्रण प्रबंधन:
कीट: नींबू के महत्वपूर्ण कीटों में साइट्रस साइलिया, पत्ती माइनर, स्केल कीड़े, नारंगी शूट बोरर, फल मक्खी, फलों की चूसने वाली पतंग, कण, आदि विशेष रूप से आर्द्र में विशेष रूप से मेन्डिना नारंगी पर हमला करने वाले अन्य कीटक जलवायु मेलीबग, नेमेटोड आदि हैं।
प्रमुख कीटों के नियंत्रण के उपाय नीचे दिए गए हैं:
साइट्रस साइला: मैलेथियन का छिड़काव – 0.05% या मोनोक्रोटोफॉस – 0.025% याकार्बारील – 0.1%
पत्ती माइनर : फॉस्फमोइडन के @ 1 के छिड़काव एमएल या मोनोक्रोटोफ़ोस @ 1.5 एमएल प्रति लीटर 2 या 3 बार पाक्षिक रूप सेस्केल

कीड़े: पैराथायन (0.03%) पायस, 100 लीटर पानी में डाइमिथोएट और 250 मिलीलीटर केरोसिन तेल 0.1% या कार्बरील @ 0.05% प्लस ऑयल 1%
ऑरेंज शूट बोरर: बाग के दौरान मिथाइल पैराथाइन @ 0.05% या एन्डोसल्फान @ 0.05% या कार्बरील @ 0.2% का छिड़काव।

नींबू (lemon farming) के पेड़ पर लगने वाले सामान्य रोग : नींबू के मुख्य रोग त्रिस्टेजा, साइट्रस कैंकर, गमुमोस, पाउडर फफू, एंथ्राकनोज इत्यादि हैं।
इन रोगों के नियंत्रण के उपाय संक्षेप में नीचे दिए गए हैं:
ट्रिज़ेज़ा: एफ़िड्स का नियंत्रण और क्रॉस-संरक्षित रोपाई का उपयोग की सिफारिश की।
साइट्रस कैंकर: 1% बोर्डो मिश्रण या तांबा कवकनाशी का छिड़काव करना एवं प्रभावित टहनियों को काटना।
500 पीपीएम का जलीय समाधान, स्ट्रेप्टोमाइसिन सल्फेट भी प्रभावी है।
गमुमोस: प्रभावित क्षेत्र और बोर्डो मिश्रण या तांबे के ऑक्सिफ्लोराइड के आवेदन के स्क्रैपिंग।
पाउडर फफूंद: पहले से फुफुंद द्वारा प्रभावित टहनियों को छांटना चाहिए।
वेटेबल सल्फर 2 ग्राम / लीटर, तांबे ऑक्कोक्लोराइड – 3 ग्राम / लीटर पानी अप्रैल और अक्टूबर में छिड़काव किया जा सकता है।
कार्बेन्डैज़िम @ 1 ग्रा / लीटर या तांबा ऑक्सी क्लोराइड – 3 ग्रा / लीटर पाक्षिकएंथ्राकनोज: सूखे टहनियाँ को पहले ही छांट देना चाहिए।
कार्बेंडज़िम @ 1 ग्रा / लीटर या तांबा ऑक्सी क्लोराइड के दो स्प्रे के बाद इसे 3 ग्रा / लीटर पाक्षिकयह भी पढ़ें टिड्डी कीट के बढ़ते प्रकोप को रोकने हेतु सरकार इन कीटनाशकों पर 50 प्रतिशत तक सब्सिडी दे रही है।

नींबू की कटाई (harvesting after lemon farming) :
गर्मी, बरसात के मौसम और शरद ऋतु में एक वर्ष में 2 या 3 फसल हो सकती है। ऑरेंज की फसल को तोड़ने का निर्णय फल के विकसित रंग के आधार पर लिया जाता है।
लाइम फार्मिंग नींबू की खेती का उपजनारंगी : 4/5 वें वर्ष से शुरू होता है और प्रति पेड़ 40/45 फल होता है। 10वें वर्ष में पौधे का विकास स्थिर होने के बाद औसत उत्पादन लगभग 400-500 फल प्रति पेड़ है।
मीठे ऑरेंज : तीसरी या चौथी वर्ष से 15 से 20 फलों प्रति पेड़ के साथ शुरू होता है। 8वें वर्ष के आसपास पौधे का विकास स्थिर होने के बाद औसत उत्पादन लगभग 175-250 फल प्रति पेड़ है।
नींबू : 2 / 3 वर्ष से 50-60 फलों प्रति पेड़ के साथ शुरू होता है। 8वें वर्ष में पौधे का विकास स्थिर के बाद औसत उत्पादन लगभग 700 फल प्रति पेड़ है।

Advertisement


नारंगी और मीठे नींबू – 20 से 30 सालखट्टा
नींबू – 15 से 25 सालसाइट्रस के बाद का फसल प्रबंधन: मीठा नारंगी और नारंगी के रंग के विकास के लिए ईथर के साथ छिड़काव किया जा सकता है। 25 C से कम तापमान में इथाइलीन नारंगी के रंग को प्रभावित कर सकता है। साइट्रस का प्री-कूलिंग एयर सिस्टम द्वारा किया जाता है। संतरे के लिए संक्रमण तापमान 100 डिग्री सेल्सियस है। संतरे अच्छी तरह हवादार बक्से में पैक हो सकती हैं – 30 सेमी x 30 सेमी x 30 सेमी धुलाई, छंटाई, आकार ग्रेडिंग, नारंगी के लिए फंगल संबंधी उपचार और फिर सीएफ़बी बॉक्स में पैकिंग के लिए एक यांत्रिक साइट्रस पैकिंग लाइन भी उपलब्ध है।
साइट्रस का भंडारण: मंदारिन ऑरेंज: ऑरेंज 5-70 सेंटीग्रेड पर 4-8 सप्ताह के लिए 85-90% आद्रता के साथ संग्रहीत किया जा सकता है। मीठा ऑरेंज: 5-70 सेंटीग्रेड में मिठाई संतरे को 3-8 सप्ताह के लिए 85-90% आद्रता के साथ संग्रहीत किया जा सकता है।
नींबू / नींबू : नींबू को 9-800 के भंडारण तापमान पर 6-8 सप्ताह के लिए 80-90% आद्रता युक्त रखा जा सकता है।

नींबू विपणन और निर्यात :
साइट्रस परिवेश की स्थिति के तहत एक लंबे समय के लिए अच्छी तरह से सुरक्षित रहता है और इसलिए विपणन के लिए दूर के स्थानों में पहुँचाया जा सकता है। देश में नींबू और संतरे के फल दूर दराज इलाकों में भी बिक्री के लिए उपलब्ध हैं। कई फल प्रसंस्करण इकाइयां भी थोक में साइट्रस फल की खरीददारी करती हैं। भारतीय निंबू अन्य देशों को भी निर्यात किये जाते हैं |

लेखक – लवकुश
(आवाज एक पहल)


यह भी पढ़ें – घर पर इस तरह नींबू उगाएं और ढेर सारे पैसे बचाएं

Advertisement

close-icon
_tbi-social-media__share-icon