in

विडियो: इस दंपत्ति ने की है 23 देशों की यात्रा, केरल में चलाते हैं चाय की दुकान!

विजयन और उनकी पत्नी मोहना

हाल ही में, आनंद महिंद्रा ने ट्विटर पर एक बुजूर्ग दंपत्ति की विडियो शेयर करते हुए लिखा, “ये लोग बेशक फ़ोर्ब्स के सबसे अमीर लोगों की लिस्ट में शामिल नहीं हैं, लेकिन मेरे लिए ये लोग भारत के सबसे अमीर लोग हैं। इनकी अमीरी इनका जीवन के प्रति नजरिया है।”


इस बुजुर्ग दंपत्ति की विडियो काफ़ी दिनों से सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। ये दंपत्ति है, केरल के विजयन और उनकी पत्नी मोहना। उनकी केरल में एक छोटी सी चाय की दुकान है। इन दोनों के लिए ज़िंदगी का मतलब है दुनिया की यात्रा करना और अपनी हर एक यात्रा के अनुभव से कुछ सीखना।

अब तक, इन दोनों ने साथ में 23 देशों की यात्रा की है। केरल में एर्नाकुलम के एक चाय विक्रेता, विजयन कहते हैं,

“मुझे दुनिया देखनी है। यही मेरी इच्छा है। मेरी एकमात्र इच्छा”

विजयन का यात्रा करने का जुनून कुछ इस कदर था कि बचपन में वे अपने घर से अनाज चोरी करके बेच दिया करते थे। वे जैसे भी हो पैसे बचाते और फिर नई-नई जगह घुमने के लिए भाग जाते थे। आज इस आदमी के इस जुनून का ही कमाल है कि इन्होंने अपनी पत्नी मोहना के साथ 23 देशों की यात्रा की है।

अलग-अलग यात्राओं से उनकी कुछ तस्वीरें (साभार)

विजयन का मानना है कि हम कहीं भी जाएँ, हमारी ज़िंदगी यात्राओं के भरी हुई है और इसलिए हर दिन, वे कड़ी मेहनत करते हैं ताकि अपने अगले पड़ाव, किसी और नए देश में जाने के लिए पैसे बचा सकें।

द न्यूज मिनट की एक रिपोर्ट के अनुसार, जैसे ही उनके पास कुछ पैसे इकट्ठे होते हैं, वे बैंक से लोन लेते हैं और निकल पड़ते हैं एक नए देश की यात्रा पर। फिर वापिस आकर, दो-तीन साल कड़ी मेहनत करके बैंक का लोन चूका देते हैं।

उन्होंने कहा, “मुझे भगवान ने हमेशा ही मेरी औकात, मेरे सपनों या फिर मेरी इच्छा से ज्यादा ही दिया है।” अब तक विजयन अपनी यात्राओं पर लगभग 15 लाख रूपये खर्च कर चुके हैं। लेकिन उनके लिए ये पैसे उस अनुभव के सामने कुछ भी नहीं जो उन्होंने अपनी यात्राओं से पाया है।

और जब लोग उसे पागल कहते हैं, तो वे कहते हैं – “हाँ, मैं पागल हूँ। हर किसी का अपना पागलपन होता है।”

और अब उनके इसी पागलपन से प्रभावित होकर आनंद महिंद्रा ने लिखा है कि वे इनकी सालगिरह की तारीख पता कर इनके लिए तोहफे के तौर पर इनकी अगली यात्रा स्पोंसर करना चाहते हैं। महिंद्रा ने यह भी लिखा कि वे जब भी कभी कोच्ची जायेंगे तो इनके यहाँ चाय पीना बिलकुल पसंद करेंगे।

विजयन और मोहना की प्रेरणात्मक कहानी को हरी एम. मोहनन ने एक डॉक्युमेंट्री के माध्यम से लोगों को बताया है। आप विडियो यहाँ देख सकते हैं


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

पुरानी गली में एक शाम : इब्ने इंशा

डॉ. हरगोविंद खुराना: वह वैज्ञानिक जिसने डीएनए को किया था डिकोड!