in

भारतीय रेलवे भी अपनाएगा एयरलाइन मॉडल: ट्रेन में आरक्षित और खाली सीटों का चार्ट होगा पब्लिक!

प्रतीकात्मक तस्वीर

ल्द ही, जब भी आप किसी ट्रेन में सीट बुक करेंगे तो एयरलाइन की तरह ट्रेन में भी उपलब्ध सीटों का स्टेटस देख पायेंगें। जी हाँ, अब ट्रेनों के आरक्षित चार्ट को पहले ही सार्वजनिक कर दिया जायेगा ताकि लोगों को पता चल सके कि कितनी सीट पहले ही बुक हो चुकी हैं।

द इकोनोमिक टाइम्स की खबर के मुताबिक, रेलवे मंत्री पीयूष गोयल ने रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे सेंटर फॉर रेलवे इन्फॉर्मेशन सिस्टम (CRIS) की मदद से ट्रेनों का आरक्षण चार्ट सार्वजनिक करें। इस कदम का उद्देश्य लोगों को ज्यादा से ज्यादा सुविधा देकर उनकी समस्याओं को हल करना है।

जब भी हम हवाई जहाज या फिर बस में सीट बुक करते हैं तो हम सीटिंग लेआउट देख सकते हैं। साथ ही, हमें पहले से ही बुक हो चुकीं सीटों और बची हुई सीटों, दोनों को अलग-अलग रंग में दिखाया जाता है ताकि यात्री आसानी से सीट बुक कर सकें। ऐसा ही कुछ, अब रेलवे मंत्रालय करेगा।

एयरलाइन्स में यात्री अपनी सुविधानुसार और क्षमता के मुताबिक सीट बुक करते हैं, क्योंकि कुछ सीट के लिए उन्हें अतिरिक्त पैसे भी देने पड़ते हैं। हालांकि, रेलवे इस बारे में बाद के चरणों में काम करेगा। फ़िलहाल, यात्रियों को सीट मिलने की अनिश्चितता को खत्म करने पर उनका ध्यान है।

“अभी के लिए, किसी भी ट्रेन के आरक्षण चार्ट को पब्लिक करने पर काम हो रहा है। ताकि यात्रियों को पता चले कि किस ट्रेन में कौन-सी सीटें अभी बची हैं। हवाई जहाज या बस की तरह ही, अब यात्रियों को ट्रेन का भी सीटिंग लेआउट दिखेगा, जिसमें टिकट बुक करते समय उन्हें पता रहेगा कि कौन-सी सीट बुक हो चुकी। पीएनार नंबर की मदद से यात्री सीट बुक कर सकेंगें,” रेलवे मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया

हालांकि, इस प्रस्ताव को हकीकत में बदलने के लिए रेलवे को बहुत-सी चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। क्योंकि हर एक स्टेशन पर यात्री उतरते-चढ़ते हैं, ऐसे में सीटों की व्यवस्था रेलवे के लिए कई बार मुश्किल खड़ी कर सकती है।

पिछले महीने ही, रेलवे ने ट्रेनों में निचली सीटों का आरक्षण कोटा महिलाओं और सीनियर सिटिज़न के लिए बढ़ाया है ताकि उन्हें सफर में किसी तरह की परेशानी ना हो।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

कविता-क्लोनिंग [क्या इससे बचना सम्भव है?]

आँखों में आँसू लिए यह महिला कर रही है भारतीय सेना का शुक्रिया; जानिये क्यूँ !