Placeholder canvas

Indian Railways की खूबसूरत पहल, आप भी साझा कर सकते हैं रेल यात्रा से जुड़ी अपनी यादें

Memories With Railways

भारतीय रेलवे के #MemoriesWithRailways पोस्ट पर बहुत से लोग अपनी रेल यात्रा की तस्वीरें और वीडियोज साझा कर रहे हैं!

क्या आपको याद है आपने पहली बार ट्रेन से यात्रा कब की थी? या फिर भारतीय रेलवे कोई ऐसी याद जो आपको भुलाये नहीं भूलती है? ये हम नहीं बल्कि भारतीय रेलवे आपसे पूछ रही है।

कुछ समय पहले भारतीय रेलवे ने अपने ट्विटर हैंडल पर #MemoriesWithRailways शुरू किया है। इस हैशटैग के साथ आप अपनी ट्रेन की यात्रा से जुडी हुई यादें ट्विटर पर साझा कर सकते हैं। कई लोगों ने इस हैशटैग से अपनी यादें ट्विटर पर ताजा की है।

कोई तस्वीर साझा कर रहा है तो कोई ट्रेन यात्रा के दौरान आने वाली खूबसूरत जगहों की मोबाइल में कैद की गई वीडियोज।

Memories With Railways
Rep Image

अगर मैं अपनी बात करूँ तो मेरे पास ऐसी कोई तस्वीरें या फिर वीडियो तो नहीं है, लेकिन मेरी पहली रेल यात्रा मुझे आज भी याद है। पांचवीं कक्षा में थी, जब प्रोग्राम बना कि हम दिल्ली वाले ताऊ जी के घर जाएंगे। मतलब, मैं पहली बार दिल्ली जाने वाली थी और वह भी ट्रेन से जाएंगे। पलवल से दिल्ली तक की दूरी ट्रेन से डेढ़-दो घंटे में पूरी की जा सकती है।

लेकिन पहली बार ट्रेन में बैठने की और दिल्ली जाने की जो उत्सुकता थी, उसका कोई मुकाबला नहीं है। मैंने स्कूल में अपनी पूरी क्लास को बता दिया था कि हम दिल्ली जा रहे हैं और वह भी ट्रेन से। पलवल स्टेशन से दिल्ली तक की लोकल पैसेंजर का सफ़र बहुत सुहावना था। मुश्किल से कोई पल होगा जब हम चारों बहन-भाई शांति से एक जगह बैठे हों। बीच-बीच में मम्मी और बड़े भैया की हिदायतें भी याद हैं कि ट्रेन में कैसे चढ़ना है, कैसे उतरना है? ज्यादा किसी से बात नहीं करनी है। ट्रेन में बच्चा चोर होते हैं… और भी न जाने क्या-क्या।

पांचवीं के बाद स्कूल पूरा होने तक ट्रेन में बैठने का कोई मौका नहीं मिला। स्कूल पूरा करने के बाद मौका मिला ट्रेन से सफ़र का ऐसा चस्का चढ़ा कि कई बार मास्टर्स के लिए हैदराबाद जाते समय दो-दो दिन भी ट्रेन में बिताये हैं। हम कितना भी एसी बस, मेट्रो और हवाई जहाज़ में घूम लें पर भारतीय ट्रेन का जो आनंद है, वह कहीं और नहीं मिलेगा।

तो बस इसी आनंद के साथ, आज हम आपके साथ साझा कर रहे हैं ट्विटर पर लोगों द्वारा पोस्ट की गईं #MemoriesWithRailways

1. सबसे पहले बात करते हैं छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में बतौर आईजी कार्यरत आईपीएस अफसर दीपांशु काबरा की। उन्होंने भारतीय रेल से जुडी कुछ दिलचस्प तस्वीरों को वीडियो में पिरोकर साझा किया है और लिखा है, “बचपन की यादों में रेलयात्रा और #IndianRailways का प्रमुख स्थान है… इस वीडियो के माध्यम से उन्हें फिर से जियें…अपना सबसे यादगार पल #Reply करना ना भूलें।”

2. दूसरी पोस्ट है, एक रेलवे ब्यूरोक्रेट, अनंत रुपनागुडी की, जिन्होंने तिरुनवेली और नागरकोइल के रूट में पड़ने वाले तमिलनाडु के खूबसूरत वेस्टर्न घाट की तस्वीरें साझा की हैं।

https://twitter.com/rananth/status/1333317609245212673

3. हनी शर्मा नामक एक यूजर ने यह वीडियो साझा करते हुए लिखा है, “यह वीडियो 4 जुलाई 2020 को शूट हुई। कोविड-19 महामारी के बीच पहली ट्रेन यात्रा। जयपुर से कोटा। इतने दिनों बाद बाहरी दुनिया को देखना बहुत ही ज्यादा अच्छा था।”

4. एक यूजर ने पामबन ब्रिज का वीडियो शेयर करते हुए लिखा, “यह मेरी सबसे फेवरेट याद रहेगी। प्रसिद्ध पामबन ब्रिज को क्रॉस करना बहुत ही मजेदार अनुभव रहा। नए ब्रिज के पूरे होने का बेसब्री से इंतज़ार है।”

पामबन ब्रिज भारत का पहला समुद्री ब्रिज है। पामबन पुल का निर्माण ब्रिटिश रेलवे द्वारा 1885 में शुरू किया गया था। ब्रिटिश इंजीनियरों की टीम के निर्देशन में गुजरात के कच्छ से आए कारीगरों की मदद से इसे खड़ा किया गया था और 1914 में इसका निर्माण कार्य पूरा हुआ था। यह पुल करीब 100 साल पुराना हो चुका है।

तमिलनाडु का यह पुल रामेश्वरम से पामबन द्वीप को जोड़ता है। ऐसे में अगर आप रामेश्‍वरम जाना चाहते हैं तो अपने सफर को रोमांचक बनाने के लिए पामबन पुल से होकर जा सकते हैं। समुद्र की लहरों के बीच से सफर करने की कल्पना ही आपको उत्साह से भर देगी!

5. भारतीय रेलवे के एक अन्य यात्री, अहमद सुहैल आपको कोंकण रेलवे का खूबसूरत नज़ारा दिखा रहे हैं,

6. और अंत में हम साझा कर रहे हैं IIT मुंबई और NIT रायपुर से पढ़े और फ़िलहाल रेलवे में कार्यरत हिमांशु जैन का यह प्यारा सा पॉडकास्ट। जिसे साझा करते हुए उन्होंने लिखा है, “राजनांदगांव स्टेशन… हज़ारों यादें हैं इस जगह के साथ… जुड़ी हुई… दिल के क़रीब… बेहद क़रीब…”

तो देर किस बात की, आप भी ट्विटर पर साझा करें भारतीय रेलवे से जुड़ी अपनी यादें #MemorieswithRailways!

यह भी पढ़ें: रेलवे अफसर ने अपनी शादी पर छपवाया ऐसा कार्ड, जिससे उगेंगे 6 किस्म के पौधे


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Memories With Railways, Memories With Railways, Memories With Railways, Memories With Railways

We at The Better India want to showcase everything that is working in this country. By using the power of constructive journalism, we want to change India – one story at a time. If you read us, like us and want this positive movement to grow, then do consider supporting us via the following buttons:

Let us know how you felt

  • love
  • like
  • inspired
  • support
  • appreciate
X